Home | Haryana | Bilaspur | हमारे शरीर रूपी मटकी का अस्तित्व इसमें वास करने वाला परमात्मा हैं: कालिंदी भारती

हमारे शरीर रूपी मटकी का अस्तित्व इसमें वास करने वाला परमात्मा हैं: कालिंदी भारती

दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के तत्वावधान में राजकीय आदर्श सीनियर सेकेंडरी स्कूल में चल रही सात दिवसीय श्री...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jun 07, 2018, 02:15 AM IST

1 of
हमारे शरीर रूपी मटकी का अस्तित्व इसमें वास करने वाला परमात्मा हैं: कालिंदी भारती
दिव्य ज्योति जाग्रति संस्थान के तत्वावधान में राजकीय आदर्श सीनियर सेकेंडरी स्कूल में चल रही सात दिवसीय श्री कृष्ण कथा के चौथे दिन आशुतोष महाराज की शिष्या साध्वी कालिंदी भारती ने बाल कन्हैया की लीलाओं का संगीतमय वर्णन किया। साध्वी भारती ने कहा कि श्रीकृष्ण का माखन से भरी मटकियां फोड़ना मनुष्य को एक बड़ा संकेत है। वे मटकियां मिट्टी से बनी हुईं थीं। प्रभु समझाना चाहते हैं कि हमारा शरीर भी मिट्टी की तरह है। इसका सार इसमें निवास करने वाला परमात्मा है। जिसके कारण शरीर रूपी मटकी का अस्तित्व है। जब तक इस शरीर में शक्ति है तब तक इसकी कीमत है। शरीर किसी को कितना भी प्रिय क्यों न हो, आत्मा निकलने पर शरीर को श्मशान घाट में ले जाकर जला दिया जाता है। इस अविनाशी सत्ता के निकलते ही शरीर की सारी क्रियाएं ठप हो जाती हैं। यही संदेश प्रभु अपनी लीलाओं के माध्यम से देना चाहते हैं। कथा के दौरान मंच पर उपस्थित साधु समाज के भव्य संगीतमय भजनों पर श्रद्धालुगण झूम उठे। कथा को प्रस्तुत करने में साध्वी कालिंदी भारती, साध्वी सुश्री किरण भारती, पूर्णिमा भारती, पुष्पभद्रा भारती, संदीप भारती जी व अन्य महात्मागण सहयोग कर रहे हैं। कार्यक्रम में जिप चेयरपर्सन रेणूबाला, रिशिपाल, मार्केट कमेटी अध्यक्ष जयप्रकाश, बीजेपी नेता अशोक कुमार समेत अनेक गणमान्य व्यक्ति उपस्थित रहे।

बिलासपुर। छछरौली में चल रही श्रीकृष्ण कथा में प्रवचन करतीं साध्वी कालिंदी भारती व उपस्थित श्रद्धालु।

हमारे शरीर रूपी मटकी का अस्तित्व इसमें वास करने वाला परमात्मा हैं: कालिंदी भारती
prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now