Hindi News »Haryana »Bilaspur» ऑनलाइन मीटर रीडिंग सिस्टम शुरू, गलत बिलों से मिलेगी मुक्ति

ऑनलाइन मीटर रीडिंग सिस्टम शुरू, गलत बिलों से मिलेगी मुक्ति

उत्तरी हरियाणा बिजली वितरण निगम ने ऑन लाइन मीटर रीडिंग सिस्टम शुरू कर दिया है। इससे अब रीडिंग में होने वाली...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 07, 2018, 02:15 AM IST

ऑनलाइन मीटर रीडिंग सिस्टम शुरू, गलत बिलों से मिलेगी मुक्ति
उत्तरी हरियाणा बिजली वितरण निगम ने ऑन लाइन मीटर रीडिंग सिस्टम शुरू कर दिया है। इससे अब रीडिंग में होने वाली गड़बड़ी को रोका जा सकेगा।

उपभोक्ताओं को गलत रीडिंग के बिल नहीं भरने पड़ेंगे। साथ ही मीटर के साथ की जाने वाली टेम्परिंग भी पकड़ में आ जाएगी। बिजली निगम ने इसके लिए कॉमन मीटर रीडिंग इंस्ट्रूमेंट सीएमआरआई सिस्टम शुरू किया है। इस सिस्टम से न तो मीटर रीडर और न ही उपभोक्ता अपनी रीडिंग में फेरबदल कर सकेगा। इस सिस्टम के जरिए इलेक्ट्रॉनिक मीटर से सीधे रीडिंग आॅनलाइन ली जाएगी। जिससे रीडिंग में मैन्यूअल तरीके से होने वाली गड़बड़ी को रोका जा सकेगा। उपभोक्ताओं को सबसे बड़ा फायदा ये होगा कि उन्हें सही रीडिंग के बिल मिलेंगे। मैन्यूअल रीडिंग में अकसर कम या ज्यादा रीडिंग के बिल उपभोक्ताओं को थमाए जाते थे। हालांकि इस सिस्टम का फिलहाल शहरी क्षेत्र में लागू किया गया है। रूरल एरिया में केवल एचटी 50 किलोवाट से अधिक लोड वाले कनेक्शन ही इस सिस्टम से चेक किए जाते हैं।

बिलासपुर | सीएमआरआई से मीटर रीडिंग लेते बिजली कर्मी।

बिजली मीटर में गड़बड़ी भी आएगी पकड़ में:सीएमआरआई से मीटर की हर प्रकार की गड़बड़ी पकड़ में आएगी। जैसे कि कुछ उपभोक्ताओं ने मीटर के रिमोट तैयार करवा रखे हैं। इसके अलावा मीटर से छेड़छाड़ या दूसरा मीटर लगा रखा है। वह भी पकड़ में आ जाएगा। निगम के सुपरवाइजर साहिल ओरी ने बताया कि सीएमआरआई से ली गई रीडिंग में गलती के चांस बहुत ही कम हैं। इलेक्ट्रॉनिक व मेक्रिकल दोनों ही प्रकार के मीटर की रीडिंग इस सिस्टम से ली जा रही है। जिससे रीडिंग में गलती की संभावना न के बराबर है। उन्होंने बताया कि मीटर रीडिंग संबंधी किसी भी खामी के लिए उपभोक्ता मोबाइल नंबर 8053838007 पर संपर्क कर सकते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bilaspur

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×