• Home
  • Haryana News
  • Bilaspur
  • तीन महीने में केवल कोटेशंस ही ले पाए रोडवेज के अधिकारी
--Advertisement--

तीन महीने में केवल कोटेशंस ही ले पाए रोडवेज के अधिकारी

लाखों का राजस्व जुटाने वाले हरियाणा रोडवेज के कर्मचारियों को फर्नीचर के बिना दरी पर बैठकर काम करना पड़ रहा है।...

Danik Bhaskar | May 19, 2018, 02:15 AM IST
लाखों का राजस्व जुटाने वाले हरियाणा रोडवेज के कर्मचारियों को फर्नीचर के बिना दरी पर बैठकर काम करना पड़ रहा है। करीब दो महीने पहले बिलासपुर व रादौर के नए बस स्टैंड का उद्घाटन हो गया था, लेकिन यहां आज तक स्टाफ के लिए फर्नीचर नहीं पहुंचाया जा सका है। कस्बा स्थित बस स्टैंड में दो कर्मचारियों की आॅफिस ड्यूटी है। एक चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी तैनात किया गया है, लेकिन उनके बैठने के लिए आज तक कोई फर्नीचर नहीं भेजा गया। जिसके चलते या तो उन्हें यात्रियों के बीच यात्री प्रतीक्षा स्थल पर बैठ कर कामकाज निपटाना पड़ता है। उनके आॅफिस में एक अल्मारी पड़ी है, लेकिन कर्मचारियों के बैठने के लिए एक कुर्सी तक नहीं है। करीब दो सप्ताह पूर्व यमुनानगर कार्यालय के अकाउंट आॅफिसर सतीश सैनी ने बताया था कि जीएम साहब ने फर्नीचर खरीदने के लिए तीन सदस्यीय कमेटी बना दी है। शीघ्र ही सामान परचेज कर लिया जाएगा, लेकिन अभी तक इस दिशा में विभाग एक कदम ही आगे चल पाया है। जीएम कार्यालय के एओ सतीश सैनी का कहना है कि कमेटी ने कोटेशंस लेकर संबंधित स्टाफ को दे दी है। सामान खरीदना उनकी जिम्मेवारी है। तीन महीने तो कोटेशंस ली गई अब देखो फर्नीचर खरीदने में कितना समय लगेगा। बस स्टैंड पर तैनात अड्डा इंचार्ज विकास गुप्ता का कहना है कि बस स्टैंड में सामान रखने के लिए अलमारी व बैठने के लिए फर्नीचर की डिमांड दे रखी है। अभी तक फर्नीचर नहीं आया है।