• Hindi News
  • Haryana News
  • Bilaspur
  • पूर्व मंत्री निर्मल ने बताया- दो हवाई फायर किए तीन गोलियां सीधी मारीं, पुलिस को मौके से 8 खोल मिले
--Advertisement--

पूर्व मंत्री निर्मल ने बताया- दो हवाई फायर किए तीन गोलियां सीधी मारीं, पुलिस को मौके से 8 खोल मिले

जेल में मुश्किल में कटी पूर्व मंत्री की पहली रात भास्कर न्यूज | यमुनानगर मंगलवार रात बेलगढ़ में रास्ते के...

Dainik Bhaskar

Apr 28, 2018, 02:20 AM IST
जेल में मुश्किल में कटी पूर्व मंत्री की पहली रात

भास्कर न्यूज | यमुनानगर

मंगलवार रात बेलगढ़ में रास्ते के विवाद में आठ राउंड फायर हुए थे। पुलिस की टीमें ने जांच में मौके से गोली के आठ खोल बरामद किए हैं। इसमें चार खोल पुलिस को, तीन यमुनानगर एफएसएल टीम और एक खोल मधुबन से आई टीम को मिला है। जांच अिधकारी शमशेर राणा के मुताबिक पूर्व मंत्री निर्मल सिंह ने पुलिस पूछताछ में बताया था कि उसने पांच राउंड फायर किए थे। इनमें दो राउंड हवा में चलाए जबकि तीन सीधे अर्थमूविंग मशीन पर चलाए थे। यानी या तो निर्मल सिंह ने पुलिस को गलत जानकारी दी या फिर वहां पर उनके अलावा भी और किसी के पास रिवॉल्वर थी, जोकि फायरिंग कर रहा था। सूत्रों की माने तो इस मामले में पुलिस ने फरार आरोपी सुलतान और एक अन्य को काबू किया है। उनसे पूछताछ चल रही है, लेकिन इसकी अभी अधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है। बता दें इस मामले में पूर्व मंत्री, छोटा असलम को पुलिस ने वीरवार को कोर्ट में पेश किया था। वहीं एक दर्जन आरोपी अभी फरार हैं। वीरवार को कोर्ट ने पूर्व मंत्री निर्मल सिंह को न्यायिक हिरासत में भेज दिया था। केस सेशन ट्रायल होने से बिलासपुर कोर्ट में पूर्व मंत्री के वकील की ओर से शुक्रवार को भी सेशन कोर्ट में जमानत के लिए याचिका नहीं लगाई। उधर, जेल में पूर्व मंत्री की पहली रात मुश्किल में कटी। देर रात तक जागे और परेशान दिखे।

खनन विभाग ने भेजी रिपोर्ट: बेलगढ़ में साउथ ब्लॉक का 19 करोड़, 63 लाख, 50 हजार में दिया हुआ है ठेका

बेलगढ़ में हुए विवाद के बाद सरकार भी हरकत में आ गई है। पूर्व मंत्री निर्मल सिंह द्वारा अवैध माइनिंग के आरोप लगाने के बाद खनन विभाग से रिपोर्ट मांगी गई। खनन विभाग की ओर से सरकार को भेजी रिपोर्ट में बताया गया कि बेलगढ़ साउथ ब्लॉक में 28 हेक्टेयर में खनन जोन है। वहां पर साल 2016 में मुबारिकपुर रायल्टी कंपनी को 19 करोड़, 63 लाख, 50 हजार रुपए में ठेका दिया गया था। इसलिए अवैध खनन के आरोप बेबुनियाद हैं। बता दें कि पूर्व मंत्री निर्मल सिंह का दावा था कि इस एरिया में अवैध खनन होता है। इसे रोकने के लिए वे लड़ाई लड़ रहे हैं। इसलिए उन्हें फंसाया गया है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..