• Hindi News
  • Haryana News
  • Bilaspur
  • गुजरी कॉलोनी के वोटर दो गांवो में बंटे, नहीं हो रहा विकास
--Advertisement--

गुजरी कॉलोनी के वोटर दो गांवो में बंटे, नहीं हो रहा विकास

कस्बा स्थित माता गुजरी काॅलोनी निवासी दो पाटन के बीच पिसने को मजबूर हो रहे हैं। यहां मुलभूत सुविधाओं का भी टोटा...

Dainik Bhaskar

Apr 25, 2018, 03:15 AM IST
कस्बा स्थित माता गुजरी काॅलोनी निवासी दो पाटन के बीच पिसने को मजबूर हो रहे हैं। यहां मुलभूत सुविधाओं का भी टोटा है। समस्या का समाधान न तो बिलासपुर पंचायत कर रही है और न ही दूसरे गांव की पंचायत। इनकी दिक्कत यह है कि काॅलोनी बिलासपुर में है लेकिन मौजा दूसरे गांव का है।

करीब तीन दशक पुरानी यह काॅलोनी पुराने पेट्रोल पंप के निकट स्थित है। इसकी अधिकतर गलियां कच्ची हैं। पानी निकासी का कोई प्रबंध न होने के कारण लोग परेशान हैं। कालोनी वासी हरपाल बैंस, देवेंद्र बक्शी, अशोक कुमार, अतिद्र पाल बैंस, मुकंदी राम, तीर्थ सिंह, मनीष कुमार, मेघ सिंह, जितेद्र कौर, मनप्रीत कौर व गुरकीरत सिंह ने बताया कि बरसात के दिनों में तो इन गलियों से गुजरना दूभर हो जाता है। उनका कहना है कि जब भी गलियों के बारे में बिलासपुर पंचायत से बात करते हैं तो वे कहते हैं कि उनके गांव का मौजा नहीं है। जब चंगनौली पंचायत से बात करते हैं तो जवाब मिलता है कि उनके पास अपने ही गांव की गलियों की मरम्मत नहीं हो पा रही है। ऐसे में इनकी समस्या का कोई समाधान नहीं निकल रहा।

वोट बिलासपुर व चंगनौली में

काॅलोनी वासियों ने बताया कि उनकी करीब दो सौ वोट हैं। 144 वोट चंगनौली पंचायत के साथ हैं बाकी बिलासपुर के साथ। उनका कहना है कि यह काॅलोनी कस्बे के नाम से विकसित हुई थी। कस्बे से सटी हुई है। तो सुविधाएं भी बिलासपुर पंचायत को देनी चाहिए। काॅलोनी वासियों ने प्रशासन से गुहार लगाई है कि उनकी समस्या का समाधान किया जाए।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..