• Hindi News
  • Haryana News
  • Dulhera-badli
  • छोटूराम जन्मदिवस समारोह की तैयारियों के लिए जुटे खाप चौधरी आपस में उलझे
--Advertisement--

छोटूराम जन्मदिवस समारोह की तैयारियों के लिए जुटे खाप चौधरी आपस में उलझे

गुलिया खाप चबूतरे पर मंगलवार को दीनबंधु चौधरी सर छोटूराम मिशन के पदाधिकारियों की बैठक हुई। इसमें 9 अप्रैल को होने...

Dainik Bhaskar

Apr 04, 2018, 02:10 AM IST
गुलिया खाप चबूतरे पर मंगलवार को दीनबंधु चौधरी सर छोटूराम मिशन के पदाधिकारियों की बैठक हुई। इसमें 9 अप्रैल को होने वाले छोटूराम के दिवस समारोह को मनाने और विभिन्न कार्यक्रमों की लोगों को जिम्मेदारी सौंपी गई। छोटूराम मिशन के अध्यक्ष जितेन्द्र गुलिया व महेंद्र नंबरदार दरियापुर का कहना है कि बैठक में गुलिया खाप के अध्यक्ष सुनील भी उपस्थित हुए। इस दौरान दीनबंधु चौधरी सर छोटूराम मिशन व खाप अध्यक्ष के बीच बातों-बातों में किसी बात को लेकर कहासुनी और हंगामा हो गया। कहासुनी को लेकर गांव दरियापुर के महेंद्र नंबरदार ने अपने लिखित ज्ञापन में आरोप लगाया कि कार्यवाहक प्रधान सुनील ने सभी के सामने उसके साथ अभद्र व्यवहार किया। धक्का देकर कर कहा कि तुम यहां से चले जाओ।

गुलिया खाप में हैं दो अध्यक्ष

कई वर्ष पूर्व गुलिया खाप के दो पक्ष हो गए। एक पक्ष ने गांव जहांगीरपुर निवासी रामफल गुलिया को अध्यक्ष चुना था, जबकि दूसरे पक्ष ने बादली के नरेश पाल को अध्यक्ष चुना। बीच-बीच में इन दोनों पक्षों को एक करने की ग्रामीणों व मौजिज लोगों ने कई बार प्रयास किए। कई बार पंचायतों का आयोजन हुआ, लेकिन बात नहीं बनी। कुछ वर्ष पूर्व जहांगीरपुर के रामफल गुलिया का निधन हो गया। इसके बाद एक पक्ष ने उसके पुत्र सुनील गुलिया को कार्यवाहक प्रधान चुन लिया। इन्हीं दो पक्षों की वजह से मंगलवार को कहासुनी खाप के चबूतरे पर हुई। 9 अप्रैल को कार्यक्रम का आयोजन करने वाले दीनबंधु चौधरी सर छोटूराम मिशन के अध्यक्ष जितेंद्र गुलिया ने अपने ज्ञापनों में नरेशपाल गुलिया को गुलिया खाप का प्रधान लिखा है। इसका सुनील गुलिया जहांगीरपुर ने एतराज जताया। इसकाे लेकर दोनों पक्षों में कहासुनी हो गई। इस दौरान बात इतनी बढ़ी कि एक दूसरे के आरोप लगाने के साथ हंगामा शुरू हो गया।

सरपंच अशाेक ने कहा- मैं बैठक में देरी से पहुंचा, मेरे पहुंचने से पहले क्या हुआ मुझे नहीं पता

सौंधी के सरपंच अशोक कुमार का कहना है कि मैं बैठक में देरी से पहुंचा। मेरे पहुंचने से पूर्व क्या हुआ मुझे नहीं पता, लेकिन महेंद्र नंबरदार या किसी अन्य के साथ अभद्र व्यवहार किया गया तो वह गलत है। कौन किसे प्रधान मानता है यह लोगों की अपनी इच्छा पर निर्भर है। खाप के चबूतरे से चले जाने को कहने कि अगर कोई घटना है तो वह मेरे विचार से गलत है। चबूतरा गुलिया खाप का है। चबूतरे से किसी को भी बाहर निकालने का हक किसी को नहीं है। अब यह सारा मामला किस करवट बैठता है यह देखने की बात है। दीनबंधु चौधरी सर छोटूराम मिशन के अध्यक्ष जितेंद्र गुलिया 9 अप्रैल के कार्यक्रम के बाद विभिन्न गांव व प्रधानों के सम्मुख इस बात को उठाने की बात कह रहे हैं।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..