ऐलनाबाद

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Ellenabad
  • साढ़े 11 लाख एमटी खरीदी जानी है गेहूं, 6 लाख एमटी भंडारण का ही प्रबंध, अधिकारियों के हाथ-पांव फूले
--Advertisement--

साढ़े 11 लाख एमटी खरीदी जानी है गेहूं, 6 लाख एमटी भंडारण का ही प्रबंध, अधिकारियों के हाथ-पांव फूले

एक तरफ अप्रैल से शुरू होने वाली गेहूं खरीद को लेकर टेंडर प्रक्रिया जारी है। वहीं दूसरी तरफ गेहूं भंडारण के लिए...

Dainik Bhaskar

Feb 13, 2018, 02:10 AM IST
एक तरफ अप्रैल से शुरू होने वाली गेहूं खरीद को लेकर टेंडर प्रक्रिया जारी है। वहीं दूसरी तरफ गेहूं भंडारण के लिए पर्याप्त गोदाम समय पर खाली नहीं होने की वजह से प्रशासनिक अधिकारियों के हाथ पांव फूल गए हैं। इस बात की सूचना जैसे ही डीसी प्रभजोत सिंह को मिली।

उन्होंने तुरंत इस पर संज्ञान लिया है। बिना किसी प्रकार की देरी किए उन्होंने सबसे पहले एफसीआई के जीएम को सूचना देकर तुरंत प्रभाव से गोदामों में पड़ी गेहूं को उठाने का आग्रह किया है। इसके अलावा उन्होंने बीकानेर रेल मंडल को भी पत्र लिखकर अधिक से अधिक स्पेशल गाड़ी देने की मांग की है। वहीं डीसी प्रभजोत सिंह ने इस मसले को लेकर सोमवार को तुरंत प्रभाव से सभी अधिकारियों और खरीद एजेंसियों के डीएम के साथ मीटिंग करके पूरी व्यवस्था जानी है। डीसी ने सभी खरीद एजेंसियों हैफेड, एफसीआई, खाद्य एवं आपूर्ति विभाग, एग्रो आदि के अधिकारियों से कहा कि वे अपने-अपने गोदामों में पहले से ही गेहूं रखने की व्यवस्था करवाएं ताकि खरीद के बाद गेहूं को सुरक्षित रखा जा सके। उन्होंने अधिकारियों से कहा कि वे आढ़तियों व किसानों के साथ अच्छा तालमेल रखें।

किसानों के लिए मंडियों में बिजली, पीने का पानी व शौचालय का उचित प्रबंध समय से करवाएं ताकि मंडी में आने वाले किसानों को किसी प्रकार की समस्या न आए। कोई भी किसान शौच के लिए बाहर न जाए। उन्होंने कहा कि पॉलिथीन कवर का भी उचित प्रबंध करें। इसके साथ-साथ बारदाने का भी सभी एजेंसियां उचित प्रबंध रखें। उन्होंने कहा कि किसानों की फसल की अदायगी समय पर करवाना सुनिश्चित करें। उन्होंने संबंधित अधिकारियों से कहा कि वे आढ़तियों व ठेकेदारों की प्रत्येक मंडियों में बैठकें करें जिसमें तहसीलदार को शामिल करें। उन्होंने सचिव मार्केट कमेटियों से कहा कि वे पूरा रजिस्टर मेंटेन रखें।

पिछले वर्ष का ही गेहूं अभी तक नहीं उठा

जिले में इस बार प्रशासन ने रिकार्ड गेहूं उत्पादन का अनुमान लगाया है। इसलिए पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष साढ़े 11 लाख एमटी गेहूं खरीदने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। दूसरी ओर भंडारण की व्यवस्था पर नजर डाली गई तो अधिकारियों के माथे पर पसीना आ जाता है। भंडारण की बात की जाए तो अभी तक जिले में केवल साढ़े 6 लाख मीट्रिक टन गेहूं का भंडारण किया जा सकता है। बाकी गोदामों में से पिछले वर्ष का ही गेहूं अभी तक नहीं उठा है। अधिकारियों का मानना है कि एक अप्रैल तक वे 9 लाख मीट्रिक टन गेहूं के भंडारण की व्यवस्था कर लेंगे। फिर भी ढाई लाख मीट्रिक टन गेहूं के लिए गोदामों की आवश्यकता पड़ेगी। जो प्रशासन के पास उपलब्ध नहीं है। डीएफएससी अशोक बंसल का कहना है कि यूरिया खाद की डिमांड पूरी करने के कारण स्पेशल नहीं मिल पाई थी। इस वजह से गेहूं का उठान नहीं हो पाया है। अब पूरी कोशिश की जा रही है कि जल्द से जल्द गोदाम खाली करवाए जाएं।

डीसी ने ऐलनाबाद के गोदामों की समस्या सुलझाई

डीसी को जब इस बात का पता लगा कि ऐलनाबाद में पिछले वर्ष से पिछले वर्ष का भी अभी तक गेहूं नहीं उठाया गया है। जबकि पिछले वर्ष के भी 50 लाख बैग पेंडिंग पड़े हैं। इस पर तुरंत उन्होंने एसडीएम ऐलनाबाद को तलब करके व्यवस्था जानी। एसडीएम ने बताया कि ऐलनाबाद में अंडर ब्रिज के निर्माण के कारण रास्ता ब्लॉक हो गया था। इसलिए उठान नहीं हुआ। डीसी ने तुरंत इस समस्या को सुलझाकर ऐलनाबाद के जलघर के पास से नया रास्ता सर्च करवाया और गेहूं उठाने के आदेश जारी किए।

X
Click to listen..