Hindi News »Haryana »Ellenabad» अब 2 को चौकीदार सम्मेलन में जाएंगी रोडवेज बसें

अब 2 को चौकीदार सम्मेलन में जाएंगी रोडवेज बसें

राेडवेज बस यात्रियों और रेल यात्रियों की मुश्किलें अभी खत्म होने वाली नहीं हैं। रोहतक हुए तीन दिवसीय कृषि...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 27, 2018, 02:20 AM IST

राेडवेज बस यात्रियों और रेल यात्रियों की मुश्किलें अभी खत्म होने वाली नहीं हैं। रोहतक हुए तीन दिवसीय कृषि सम्मेलन में लेकर हरियाणा रोडवेज सिरसा डिपो की 81 बसों को किसानों को ले जाने और वापस लाने में इस्तेमाल किया गया जिससे जिले के विभिन्न लोकल रूटों पर बसें मुहैया न होने पर यात्री बेबस रहे। अब ऐसी ही परेशानी 2 अप्रैल को भी होगी क्योंकि सरकार ने हिसार में आयोजित किए जाने वाले चौकीदार सम्मेलन में चौकीदारों को ढोने के लिए रोडवेज बसों की डिमांड की है।

रोहतक में तो कृषि सम्मेलन सोमवार को खत्म हो चुका है। लेकिन अब सरकार ने रोडवेज के सिरसा डिपो से 8 बसें 2 अप्रैल के लिए हिसार में होने वाले चौकीदार सम्मेलन में चौकीदारों को ले जाने और उनको वापस लाने के लिए मांगी हैं। जिन रूटों से आठ बसें उतारी जाएंगी उन रूटों के यात्रियों को एक बार फिर से परेशानी झेलनी होगी। हाल ही में तीन दिनों तो जिले में जो लोकल रूट प्रभावित हुए उनमें सिरसा से खारियां, बणी, ऐलनाबाद, कुताना, हिसार-डबवाली, कालांवाली, बड़ागुढ़ा सहित अन्य रूट शामिल रहे।

रोहतक कृषि सम्मेलन के दौरान बसों को लेकर परेशान हुए यात्रियों की फिर बढ़ सकती हैं मुश्किलें

लोकल रूटों से हटाकर सम्मलेन में भेजेंगे 8 बसें

हिसार में 2 अप्रैल को होने वाले चौकीदार सम्मेलन के लिए रोडवेज की 8 बसों की बुकिंग की जानी है। बुकिंग की जाने वाली सभी बसें विभिन्न लोकल रूटों से उतारी जाएंगी।'' दिनेश कुमार, टीआई, रोडवेज डिपो, सिरसा

इधर नई भर्ती की तैयारी, लिपिक का काम कर रहे कंडक्टर काटेंगे टिकट, रूटों पर उतर सकेंगी बसें

भास्कर न्यूज | सिरसा

रोडवेज डिपो सिरसा में जल्द 13 क्लर्क नियुक्त किए जाने की उम्मीद है, क्योंकि मुख्यालय स्तर पर क्लर्कों की भर्तियां की हैं। विभागीय अधिकारियों के मुताबिक अगले माह कार्यभार संभालेंगे जिससे डिपो में लिपिकीय काम आसानी से होगा और पिछले अरसे से लिपिकीय काम संभाल रहे कंडक्टर अब बसों में टिकट काटने का काम कर सकेंगे। इससे दर्जनभर रूटों पर बसें संचालित होने से यात्रियों को राहत मिलेगी। डिपो में क्लर्क के पद पिछले लंबे अरसे खाली हैं। उनकी जगह कंडक्टरों को लिपिकीय काम सौंपा हुआ है। विभाग के पास कंडक्टरों की कमी से विभिन्न रूटों पर बस सेवा प्रभावित है। जिले के 20 गांव ऐसे हैं भी हैं जिनमें बस सुविधा ही नहीं है।

कंडक्टरों के अभाव में 20 गांव तक नहीं पहुंच पाती थी बसें

बसों से ज्यादा स्टाफ की खलती है कमी

डिपो में टीआई दिनेश कुमार ने बताया कि रोडवेज में बसों की फिलहाल इतनी कमी नहीं, बल्कि स्टाफ की ज्यादा कमी खलती है। डिपो में क्लर्क के पदों पर कंडक्टरों व इंस्पेक्टरों की ड्यूटी लगी हैं। फिलहाल डिपो में 170 कंडक्टर हैं। लेकिन बसों के मुताबिक 263 कंडक्टरों की आवश्यकता है। कार्यालय में क्लर्क के पद भरे जाएंगे तो उक्त काम संभाल रहे कंडक्टरों को बसों में तैनात करेंगे।

यात्रियों को मिलेगी राहत

स्टाफ की कमी से सरकार अौर मुख्यालय को अवगत करवाया हुआ है। जल्द ही मुख्यालय से 13 क्लर्क डिपो को मिलने की उम्मीद है। इससे कार्यालयों में लिपिकीय काम देखने वाले कंडक्टर रूटों पर उतरेंगे तो बसों का संचालन बढ़ने से यात्रियों को राहत मिलेगी।'' राकेश कुमार कंबोज, डीआई, रोडवेज डिपो, सिरसा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ellenabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×