• Hindi News
  • Haryana News
  • Ellenabad
  • नमी की मात्रा अधिक बता नहीं हो रही सरकारी खरीद, कम रेट देकर व्यापारी कर रहे स्टॉक
--Advertisement--

नमी की मात्रा अधिक बता नहीं हो रही सरकारी खरीद, कम रेट देकर व्यापारी कर रहे स्टॉक

सरकार की ओर से सरसों खरीद करने के लिए दिए आदेश को 12 दिन बीतने के बाद भी सुचारू रूप से सरसों की खरीद जिले की सभी...

Dainik Bhaskar

Mar 29, 2018, 02:25 AM IST
नमी की मात्रा अधिक बता नहीं हो रही सरकारी खरीद, कम रेट देकर व्यापारी कर रहे स्टॉक
सरकार की ओर से सरसों खरीद करने के लिए दिए आदेश को 12 दिन बीतने के बाद भी सुचारू रूप से सरसों की खरीद जिले की सभी मंडियों में सुचारू रूप से शुरू नहीं की गई है। सिरसा मंडी में हैफेड की ओर से बुधवार को पहली खरीद की गई। इसके अलावा खारिया और चौपटा मंडी में थोड़ी बहुत सरसों की खरीद हुई है। सिरसा मंडी में करीब 500 क्विंटल सरसों आ चुकी है, मगर नमी अधिक होने की बात कहकर सरकारी एजेंसी खरीदने से मना कर देती है। इसलिए किसान को व्यापारी वर्ग के लोग 600 रुपये प्रतिक्विंटल कम रेट देकर उससे सरसों खरीद रहे हैं। किसान से कम रेट में सरसों खरीदकर व्यापारी स्टॉक कर रहे हैं। अंत में इसी सरकारी दुकान पर यह सरसों सरकारी रेट पर बेच दी जाती है।

हैफेड के डीएम संदीप पूनिया ने बताया अभी तक मंडी में कम ही सरसों आनी शुरू हुई है। जो आ रही है। उसमें नमी की मात्रा बहुत अधिक है। जबकि नियम के मुताबिक 8 प्रतिशत से अधिक नहीं होनी चाहिए। बुधवार को सिरसा मंडी में भी खरीद शुरू की जा चुकी है। चौपटा और खारिया मंडी में करीब 80 क्विंटल सरसों अब तक खरीदी जा चुकी है। वहीं उन्होंने बताया कि बुधवार को सभी गांव की रोस्टर प्रणाली तैयार हो गई है। इसके अलावा पहले सिरसा में 6 मंडियों में खरीद के आदेश थे। अब चौटाला मंडी में भी सरसों खरीदने के सरकारी आदेश आ चुके हैं। वहां भी गुरुवार से सरसों की खरीद शुरू हो जाएगी। इससे पहले सिरसा, ऐलनाबाद, चौपटा, कालांवाली, खारिया और डबवाली मंडी में ही खरीद करने के आदेश थे। अब किसानों की मांग को देखते हुए चौटाला मंडी में भी आदेश जारी कर दिए गए हैं। जिला प्रबंधक हैफेड संदीप पूनियां ने बताया कि तिथिवार खरीद करने के लिए गांवों का चयन किया गया है। उन्होंने बताया कि चौटाला मंडी में 30 मार्च को गांव सुकेराखेड़ा, आसाखेड़ा, बुखाराखेड़ा, 31 मार्च को गांव तेजाखेड़ा व जंडवाला बिश्रोईयां, 2 अप्रैल को गांव चौटाला व गोदिकां, 3 अप्रैल को गांव कालूआना व चक फरीदपुर, 4 अप्रैल को गांव मुन्नांवाली व चौटाला व 5 अप्रैल को उपरोक्त गांवों के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी। 6 अप्रैल को गांव से शेखुपुरिया, आशाखेड़ा व बुखाराखेड़ा, 7 अप्रैल को गांव तेजाखेड़ा व जंडवाला बिश्रोईयां, 9 अप्रैल को गांव चौटाला व गोदिकां, 10 अप्रैल को गांव कालूआना व चक फरीदपुर, 11 अप्रैल को गांव मुन्नावाली व चौटाला व 12 अप्रैल उपरोक्त गांवों के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी।

उन्होंने बताया कि डबवाली मंडी में 30 मार्च को गांव लक्खुवाना, गोबिंदगढ़, खुईयां व दीवानखेड़ा, 31 अप्रैल को मार्च को गांव मौजगढ़, किंगरें, फूलों व तिगड़ी, 2 अप्रैल को गांव च_ा, नौरंग व हंसू, 3 अप्रैल को गांव गंगा व रामपुरा, 4 अप्रैल को गांव राजपुरा, रत्ताखेड़ा व बिज्जुवाली, 5 अप्रैल को गांव रामगढ़, चकजालू व गंगा, 6 अप्रैल को गांव अहमदपुर, दारेवाला व मठदादू, 7 अप्रैल को उपरोक्त गांव के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी। 9 अप्रैल को गांव गोरीवाला व झूठीखेड़ा, 10 अप्रैल को गांव मोढी, गोदिकां व लंबी, 11 अप्रैल को गांव रिसालियाखेड़ा, अलीकां व पन्नीवाला मोरिकां, 12 अप्रैल को गांव लोहगढ, नई डबवाली व जोगेवाला, 13 अप्रैल को गांव जोतांवाली, शेरगढ़ व सावंतखेड़ा तथा 14 अप्रैल को उपरोक्त गांव के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी। उन्होंने बताया कि 16 अप्रैल को गांव नाईवाला व डबवाली गांव, 17 अप्रैल को गांव मांगेआना, देसुजोधा व मसीतां तथा 18 अप्रैल को उपरोक्त गांव के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी।

खारियां के खरीद सेंटर पर सरकारी खरीद हुई शुरू

रानियां. गांव खारियां में पहले दिन सरसों खरीद करवाते हुए हैफेड जिला प्रबंधक संदीप पूनिया।

रानियां | हैफेड की ओर से किसानों की सरसों की खरीदने के लिए पूरे जिले में 7 खरीद सेंटर बनाए गए हैं। इनमें से हैफेड ने खरीद केंद्र गांव खारियां में पहले दिन 224.10 क्विंटल सरसों की खरीद की। सरसों खरीदने का शुभारंभ हैफेड के जिला प्रबंधक संदीप पूनिया, एजीएम सीके ग्रोवर और सोसाइटी मैनेजर राजेंद्र ने किया। खरीद अधिकारी प्रमोद कुमार ने बताया कि खारियां व आसपास के गांव से जितनी सरसों मंडी में पहुंची है वह पहले दिन खरीद ली गई है। सरसों खरीद का सरकारी रेट 3900 रुपये प्रति क्विंटल और 100 रुपये बोनस के तौर पर भी देय हैं। सरकारी मानकों के हिसाब से सरसों की फसल में 8 प्रतिशत नमी होनी चाहिए। इस से अधिक नमी वाली सरसों की खरीद नहीं की जाएगी।

X
नमी की मात्रा अधिक बता नहीं हो रही सरकारी खरीद, कम रेट देकर व्यापारी कर रहे स्टॉक
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..