Hindi News »Haryana »Ellenabad» मंडियों में आई 30 हजार क्विंटल में से मात्र1500 क्विंटल सरसों ही खरीदी गई

मंडियों में आई 30 हजार क्विंटल में से मात्र1500 क्विंटल सरसों ही खरीदी गई

भले ही सरकार ने इस बार 15 दिन पहले सरसों की खरीद शुरू करने के आदेश देकर वाहवाही लूटी हो, मगर सच्चाई यह है कि अभी तक भी...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 03:10 AM IST

भले ही सरकार ने इस बार 15 दिन पहले सरसों की खरीद शुरू करने के आदेश देकर वाहवाही लूटी हो, मगर सच्चाई यह है कि अभी तक भी हैफेड ने किसानों से सरसों की खरीद सुचारू रूप से शुरू नहीं की है। जिसका प्रमाण मार्केट कमेटी से लिए गए आंकड़े प्रस्तुत कर रहे हैं।

मार्केट कमेटी के अनुसार अब तक जिला की मंडियों में 30 हजार क्विंटल के करीब सरसों की आवक हो चुकी है, मगर सरकारी एजेंसी ने इसमें से मात्र 1500 क्विंटल ही सरसों 4 हजार रुपये के समर्थन मूल्य पर खरीदी है। बाकी में नमी बताकर खरीदने से साफ इंकार कर दिया है। इसके बाद किसानों ने मजबूरीवश प्राइवेट एजेंसी से बोली लगवाकर 3400 से 3500 रुपये के रेट में सरसों बेची है। किसान को सरकार के कठोर नियमों के चलते प्रतिक्विंटल 600 रुपये की चपत लग रही है। जहां व्यापारी को सस्ती सरसों खरीदने का मौका मिल रहा है, वहीं किसान को सरकार की नीतियों के चलते बडी आर्थिक चपत लग रही है। इसके अलावा पटवारी भी फर्द देने में आनाकानी कर रहे हैं, एवज में मोटी फीस भी वसूल रहे हैं। इसके अलावा 25 क्विंटल की शर्त भी किसानों के लिए परेशानी बनी है।

हैफेड ने जिले के बाकी बचे गांव की भी सूची की जारी, दो अप्रैल से खरीद में तेजी के जताए जा रहे आसार

सिरसा। अनाजमंडी में सरसों की सफाई करते मजदूर।

हैफेड ने जारी की बाकी बचे गांव की रोस्टर सूची

ऐलनाबाद मंडी : 3 अप्रैल को गांव नीमला, कर्मशाना, उमेदपुरा व तलवाड़ा खुर्द, 4 अप्रैल को गांव ढाणी शेरां, ऐलनाबाद, ढाणी बचन सिंह, ढाणी लख जी, किशनपुरा, ढाणी मोजु की व काशी का बास, 5 अप्रैल को गांव चिलकणी ढाब, मेहनाखेड़ा, भुर्टवाला, बीरुवाला खुर्द, 6 अप्रैल को कुमथला, कुत्ताबढ़, केशुपुरा व कोटली व 7 अप्रैल को उपरोक्त गांवों के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी। 9 अप्रैल को गांव मिठनपुरा व धोलपालिया, 10 अप्रैल को गांव शेखुखेड़ा, मुसली, मोजुखेड़ा, कृपालपट्टी, 11 अप्रैल को गांव ममेरा, ढाणी जटान, हिमायुखेड़ा, 12 अप्रैल को गांव पोहड़कां, मिर्जापुर, बुढीमेड़ी, अमृरसर, 13 अप्रैल को खारी सुरेरां, मिठी सुरेरां, ठोबरियां, 14 अप्रैल को उपरोक्त गांवों के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी।

कालांवाली मंडी : 2 अप्रैल को गांव बड़ागुढा, कालांवाली मंडी, बीरुवाला गुढा, अलीकां व मत्तड़, 3 अप्रैल को गांव रघुआना, फग्गु, आनंदगढ़, 4 अप्रैल को गांव दादू, ख्योवाली, कमाल व पक्का, 5 अप्रैल को गांव ओढ़ां, तख्तमल, 6 अप्रैल को राम नगर, पन्नां, पिपली व 7 अप्रैल को उपरोक्त गांवों के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी। 9 अप्रैल को गांव बनवाला, देसू खुर्द, 10 अप्रैल को गांव नुहियांवाली, नौरंग व मलड़ी, 11 अप्रैल को गांव मलिकपुरा, चकेरियां, किंगरे, असीर, झोरडऱोही, 12 अप्रैल को गांव खोखर, कालांवाली, सालमखेड़ा, सूबाखेड़ा, 13 अप्रैल को गांव लहंगेवाला, देसूमलकाना, लकड़ांवाली, खतरावां, 14 अप्रैल को उपरोक्त गांवों के लंबित किसानों की फसल की खरीद की जाएगी। 16 अप्रैल को गांव जलालआना, गदराना, धर्मपुरा, सिंहपुरा, मिठड़ी, 17 अप्रैल को गांव सुखचैन, रोहण, सुरतिया, रोड़ी, डोंगरांवाली, पंजमाला, चक्क, थिराज कलां व खुर्द, जगमालवाली, 18 अप्रैल को गांव थिराज, जंडवाला, दौलतपुर खेड़ा, रोहिड़ांवाली, टप्पी, 19 अप्रैल को घुंकावाली, झिड़ी, रामपुरा, तारुआना, हस्सु, कुरंगावाली, 20 अप्रैल को गांव केवल, भादड़ा, तिलोकेवाला,चोरमार, भीवां व माखा, 21 अप्रैल को उपरोक्त गांवों के लंबित किसानों की फसल खरीदी जाएगी।

मंडियों में आवक और खरीद

मार्केट कमेटी का नाम सरसों की आवक सरकारी खरीद

सिरसा 10 हजार 680 688 क्विंटल

डबवाली (चौटाला) 3 हजार 304 19 क्विंटल

कालांवाली 472 क्विंटल अभी तक नहीं

ऐलनाबाद, 5 हजार 390 260 क्विंटल

डिंग मंडी (चौपटा) 7 हजार 370 104 क्विंटल

रानियां (खारिया) 294 क्विंटल 294 क्विंटल

नाेट उपरोक्त अांकड़े क्विंटल में हैं

नियमों के अनुसार कर रहे खरीद

देखिए अभी तक सरसों आनी बहुत ही कम शुरू हुई है। नियमों के मुताबिक खरीद की जा रही है। 2 अप्रैल से सरसों की खरीद में नमी की मात्रा कम हो जाएगी। उसके बाद खरीद तेजी पकड़ लेगी। उनका प्रयास रहेगा सभी किसानों से सरसों खरीदी जाए।'' -संदीप पूनियां, डीएम, हैफेड, सिरसा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Ellenabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×