ऐलनाबाद

  • Hindi News
  • Haryana News
  • Ellenabad
  • रानियां तहसील में नेटवर्क ठप रहने से नहीं हो रही रजिस्ट्रियां
--Advertisement--

रानियां तहसील में नेटवर्क ठप रहने से नहीं हो रही रजिस्ट्रियां

तहसील कार्यालय में नेटवर्क ठप है। इससे पहले कंप्यूटर ऑपरेटर हड़ताल पर रहने के कारण कामकाज ठप रहा था। जमीन जायदाद की...

Dainik Bhaskar

May 10, 2018, 02:25 AM IST
तहसील कार्यालय में नेटवर्क ठप है। इससे पहले कंप्यूटर ऑपरेटर हड़ताल पर रहने के कारण कामकाज ठप रहा था। जमीन जायदाद की रजिस्ट्रियां कराने के लिए संबंधित लोगों को कतार में कई देर तक लगा रहना पड़ता है। बाद में कह दिया जाता है कि नेटवर्क काम नहीं कर रहा। जबकि प्रधान सचिव वी. उमाशंकर जब बीते दिवस यहां स्थिति का जायजा लेने आए तो उनके समक्ष संबंधित अधिकारियों ने बताया कि सब कुछ ठीक चल रहा है।

जमीन जायदाद की रजिस्ट्री कराए आए दर्शन सिंह, बलकौर सिंह, रामप्रताप, देवीलाल और महेंद्र सिंह ने बताया कि वे तहसील कार्यालय में रजिस्ट्री कराने के लिए पिछले चार दिनों से चक्कर लगा रहे हैं लेकिन काम नहीं हाे रहा है। नेटवर्क ठप है। उधर, नायब तहसीलदार सोमनाथ का कहना है कि कंप्यूटर ऑपरेटरों की हड़ताल के कारण बकाया काम को भी पूरा करना पड़ रहा है। दो दिन से नेटवर्क भी बंद रहा है। बिजली कट होने के कारण सिर्फ इन्वर्टर की मदद से जितना काम होता है उसे किया जा रहा है। इधर, गांव बाहिया में रहने वाले हेड़ी नायक जाति के लोगों के अनुसूचित जाति के प्रमाणपत्र न रानियां तहसील में न बनने से सरकार के प्रति हेड़ी जाति के लोगों में रोष है। नाराज लोगों ने रानियां तहसील कार्यालय में सरकार के खिलाफ नारेबाजी कर प्रदर्शन भी किया।

प्रदर्शन कर रहे लोगों में शामिल भीमसेन, प्रताप, राम सिंह, ओम प्रकाश और विनोद ने बताया कि सिरसा जिले के नाथूसरी चौपटा, डबवाली और ऐलनाबाद में नायक जाति के लोगों को तो अनुसूचित जाति प्रमाणपत्र जारी किए जा रहे हैं लेकिन रानियां में हेड़ी नायक जाति के प्रमाणपत्र जारी नहीं किए जा रहे हैं। इस वजह से वे किसी भी सरकारी योजना का लाभ नहीं ले पा रहे हैं। उन्होंने मांग की कि जिले के बाकी तहसील कार्यालय में जब हेड़ी नायक जाति के अनुसार जाति प्रमाणपत्र जारी किए जाते हैं तो रानियां में किए जाएं। उन्होंने सरकार को चेतावनी भी दी कि अगर हेड़ी जाति के लोगों जल्द प्रमाणपत्र देने की व्यवस्था नहीं की तो वे आंदोलन का रास्ता अख्तियार करने के लिए बाध्य हो जाएंगे।

X
Click to listen..