सालभर से 3 ऑटोक्लेव मशीन खराब, आधे आपरेशन यहां तो आधे बाहर रेफर हो रहे

Faridabad News - बीके अस्पताल में आपरेशन के दौरान उपयोग किए जाने वाले मेडिकल औजारों को संक्रमण मुक्त करने वाली 3 ऑटोक्लेव मशीनें एक...

Bhaskar News Network

Apr 17, 2019, 07:15 AM IST
Faridabad News - 3 autoclave machines for a year bad operation halfway outside
बीके अस्पताल में आपरेशन के दौरान उपयोग किए जाने वाले मेडिकल औजारों को संक्रमण मुक्त करने वाली 3 ऑटोक्लेव मशीनें एक साल से खराब हैं। इन्हें ठीक कराने में बरती जा रही लापरवाही के कारण इसका खामियाजा मरीजों को भुगतना पड़ रहा है। एक साल पहले जब मशीनें ठीक थीं तब बीके में रोज 15 से 20 ऑपरेशन होते थे। इस समय यहां मात्र 7 से 8 ही ऑपरेशन हो रहे हैं। बाकी मरीज बाहर रेफर किए जा रहे हैं। ऑपरेशन के दौरान मरीजों के घाव में संक्रमण न फैले इसके लिए ऑटोक्लेव मशीनें लाई गईं थी। इन्हीं से औजारों को स्टरलाइज कर मरीजों का ऑपरेशन किया जाता है। डाक्टरों के अनुसार इससे मरीजों में संक्रमण फैलने का बिल्कुल खतरा नहीं रहता।

मशीनों के खराब होने से मरीजों के साथ-साथ डॉक्टरों को भी दिक्कत हो रही है। इस समय बीके में एक छोटी मशीन है। उसी से थोड़ा बहुत काम हो रहा है। यदि ये तीनों मशीनें ठीक हों तो रोज 15 से 20 आपरेशन यहां हो सकते हैं।

चिंताजनक:एनेस्थीसिया के डॉक्टरों का भी अभाव

बीके अस्पताल में एनेस्थीसिया के डाक्टरों की भी कमी है। अस्पताल में इनके 4 पद सेशंस हैं। वर्तमान में मात्र 2 ही कार्यरत हैं। सूत्रों के अनुसार इसमें से भी एक लंबी छुट्टी पर हैं। इससे मरीजों को एनेस्थीसिया देने का सारा भार विभागाध्यक्ष डाॅ. नवदीप पर है। हालांकि उन्होंने अपनी मदद के लिए डॉ. महेश भाटी को एनेस्थीसिया में 6 माह की ट्रेनिंग की दिलवाई है। लेकिन वह बड़े ऑपरेशनों के समय अपनी सेवाएं नहीं दे सकते। क्योंकि उन्हें बड़े ऑपरेशन में कितना एनेस्थीसिया दिया जाए, इसका अनुभव नहीं है।

गर्भवती महिलाओं के बड़े ऑपरेशन भी टाले जा रहे

अस्पताल के ओटी में गायनी, आंख, हड्डी, सर्जरी आदि के ऑपरेशन किए जाते हैं। इनमें हड्डी संबंधी ऑपरेशन के लिए सप्ताह में दो दिन ऑपरेशन किए जाते हैं। गायनी यानि गर्भवती महिलाओं के ऑपरेशन रेगुलर किए जाते हैं। आंखों के ऑपरेशन सप्ताह में एक दिन ही होते हैं। सूत्रों की मानें तो गायनी के गंभीर बड़े ऑपरेशनों को भी टाला जा रहा है। ईएनटी स्पेशलिस्ट का पद एक साल से रिक्त होने से कान, नाक, गले के ऑपरेशन पहले से ही बंद हैं।

हालात: ठीक न होने से मशीनों को लग रहा जंग

अस्पताल में मौजूद मशीनों की कीमत 30 लाख के आसपास है। लेकिन 3 मशीनें साल भर से खराब पड़ी होने से इनमें जंग लग रहा है। मरीजों का कहना है कि चिकित्सा विभाग को संसाधनों के नाम पर लाखों रुपए सरकार से मिलते हैं। लेकिन वह इन खराब पड़ी मशीनों को ठीक नहीं करा रहा है। इससे मरीजों के साथ साथ डॉक्टरों की परेशानी बढ़ती जा रही है।



खराब पड़ी ऑटोक्लेव मशीन।

Faridabad News - 3 autoclave machines for a year bad operation halfway outside
X
Faridabad News - 3 autoclave machines for a year bad operation halfway outside
Faridabad News - 3 autoclave machines for a year bad operation halfway outside
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना