--Advertisement--

पति बोला : करीबी को आगे बढ़ाने के लिए अनीशा बन रही निशाना

केरलमें दो दिन पहले नेशनल चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली अनीशा सैयद के मामले में फिर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए है

Dainik Bhaskar

Dec 29, 2017, 07:29 AM IST
Athelete interview

फरीदाबाद। केरल में दो दिन पहले नेशनल चैंपियनशिप में गोल्ड मेडल जीतने वाली अनीशा सैयद के मामले में फिर आरोप-प्रत्यारोप शुरू हो गए हैं। मेडल जीतने पर भी खेल विभाग की ओर से किसी तरह की कोई हौसला अफजाई करने पर पति मुबारक ने कहा कि खेल विभाग के एक उच्चाधिकारी के करीबी खिलाड़ी को शूटिंग में आगे बढ़ाने के लिए अनीशा को निशाना बनाकर नीचा दिखाया जा रहा है। जबकि हकीकत यह है कि अनीशा लगातार नेशनल और इंटरनेशनल प्रतियोगिताओं में मेडल जीत रही हैं। विभाग की इन्हीं हरकतों से तनाव में आकर अनीशा ने कुछ समय पहले अपना रिजाइन खेल विभाग को भेजा था। इधर मुबारक के आरोपों को खेल विभाग के निदेशक जगदीप सिंह ने गलत बताया है।

जाइन के मामले को लेकर क्या अनीशा सैयद से बात हो सकती है?
जवाब-अनीशाकाफी तनाव में है। इसलिए वह इस मामले में बातचीत नहीं कर सकती। उन्हें खेल विभाग किसी एक शूटर को आगे बढ़ाने के लिए बेवजह परेशान कर रहा है। किसीभी प्रतियोगिता में भाग लेने से पहले क्या विभाग से अनुमति ली गई? जवाब- खेलविभाग को हर प्रतियोगिता से पहले एप्लीकेशन भेजकर अनुमति मांगी गई, लेकिन उनकी एक भी एप्लीकेशन को अप्रूव नहीं किया गया। रिजाइनके बाद आपने खेल विभाग से संपर्क करने का प्रयास किया?
जवाब-रिजाइनभेजने के बाद दोबारा खेल निदेशक से संपर्क करने का प्रयास किया, लेकिन उनकी तरफ से कोई जवाब नहीं आया। यहां तक कि नेशनल चैंपियनशिप में जीतने पर भी अनीशा की कोई हौसला अफजाई नहीं की गई। आरोपहै कि किसी करीबी शूटर को आगे बढ़ाने के लिए अनीसा को परेशान किया जा रहा? जवाब-बिल्कुलगलत है। किसी भी खिलाड़ी को नियमों में रहकर ही नौकरी करनी होगी। 10 अन्य इंटरनेशनल खिलाड़ी भी नौकरी कर रहे हैं, लेकिन उन्हें कभी कोई परेशानी नहीं हुई।
अनुमतिलेने के लिए अनीसा ने जो एप्लीकेशन भेजी थीं उन्हें क्यों स्वीकार नहीं किया गया?
जवाब-हमारेपास किसी तरह की कोई एप्लीकेशन नहीं आई, अगर कोई एप्लीकेशन आती तो उसे जरूर स्वीकार किया जाता। फरीदाबादमें सहायक खेल निदेशक की पोस्ट होते हुए भी उन्हें नियुक्त क्यों किया गया?

जवाब-फरीदाबादमें सहायक खेल निदेशक की पोस्ट होते हुए भी उन्हें नियुक्त क्यों किया गया?
जवाब:फरीदाबादजिले में जरूरत के हिसाब से अनीशा को नियुक्त किया गया था। वहीं उनका ट्रांसफर भी एक प्रक्रिया के तहत किया गया था।

2015 में अनीशा के प्रोटेस्ट के बाद बढ़ा विवाद
वर्ष2015 में कुवैत में एशियन चैंपियनशिप का आयोजन होना था। इस चैंपियनशिप से पहले शूटरों का ट्रायल लिया गया था। ट्रायल में अनीशा ने टाप थ्री में स्थान हासिल किया था। लेकिन चैंपियनशिप में अनीशा को चयनित कर पांचवें और छठे स्थान वाले शूटरों को भेज दिया गया था। इस बात को लेकर अनीशा ने आपत्ति जताते हुए नेशनल शूटिंग राइफल के पास प्रोटेस्ट किया था। अनीशा ने आपत्ति जताई कि पहले तीन स्थानों में आने के बावजूद उन्हें एशियन चैंपियनशिप में क्यों नहीं भेजा गया। उस समय नेशनल शूटिंग राइफल एसोसिएशन का कहना था कि वह इस बार नए शूटरों को मौका देना चाहती है।

X
Athelete interview
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..