--Advertisement--

आरोपी को सजा होगी या बरी, चिल्ड्रन कोर्ट एक साल के अंदर सुना सकती है फैसला

11वीं कक्षा के जिस छात्र को गिरफ्तार किया है, उसे सजा होगी या बरी होगा, इस बात का फैसला स्पेशल चिल्ड्रन कोर्ट में एक ही

Dainik Bhaskar

Dec 22, 2017, 04:24 AM IST
Children court can hear verdict in one year in pradumn murder case

गुड़गांव/फरीदाबाद. केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने मासूम प्रद्युमन की हत्या के आरोप में 11वीं कक्षा के जिस छात्र को गिरफ्तार किया है, उसे सजा होगी या बरी होगा, इस बात का फैसला स्पेशल चिल्ड्रन कोर्ट में एक ही साल के भीतर हो सकता है। दरअसल, बाल विरुद्ध अपराधों में तेज सुनवाई के लिए ही सुप्रीम कोर्ट की गाइडलाइंस और संशोधित जेजे एक्ट 2015 में प्रावधान है कि स्पेशल चिल्ड्रन कोर्ट फास्ट ट्रैक कोर्ट की तरफ सुनवाई करते हुए एक साल के भीतर ही मामलों का निपटारा करे। विधिक सेवाएं प्राधिकरण के तहत संशोधित जेजे एक्ट पर अब तक 200 से अधिक व्याख्यान दे चुके वरिष्ठ अधिवक्ता रविंद्र गुप्ता ने भी इस बात की पुष्टि की है। इसीलिए स्पेशल चिल्ड्रन कोर्ट में 20 दिसंबर के तुरंत बाद 22 दिसंबर को आरोपी छात्र की पेशी निर्धारित कर दी गई है।

हाईकोर्ट जाना चाहता है आरोपी पक्ष : सीबीआई सूत्र

सीबीआई सूत्रों की मानें तो आरोपी पक्ष के वकील यह जानते हैं कि छात्र की जमानत संबंधी राहत स्थानीय कोर्ट से नहीं मिलेगी। इसलिए वे जल्द अपील व जमानत यािचकाएं खारिज कराकर हाईकोर्ट मूव करना चाहते हैं। सीबीआई को इस मामले में 90 दिन में कोर्ट में चालान पेश करना होगा। चालान पेश करते ही जमानत के नए ग्राउंड के साथ राहत पाई जा सकती है।

सेशन कोर्ट बोर्ड के फैसले की समीक्षा करेगा: नेगी
वरिष्ठ वकील डॉ. अंजू रावत नेगी ने बताया कि सेशन कोर्ट जेजे बोर्ड का फैसला मानने के लिए बाध्य नहीं है। सेशन कोर्ट छात्र की सभी रिपोर्ट और तीनों पक्षों की एक बार फिर दलील सुनेगी। सभी सबूतों और दस्तावेजों की समीक्षा करेगी। इसके बाद सेशन कोर्ट फैसला करेगा कि छात्र को बालिग माना जाए या नाबालिग। इधर बरुण ठाकुर ने बताया कि छात्र की जमानत याचिका पर होने वाली सुनवाई का विरोध करेंगे।

छात्र की जमानत पर अाज होगी सुनवाई: आरोपी 11वीं के छात्र की अग्रिम जमानत पर जिला कोर्ट में गुरुवार को सुनवाई हुई। सीबीआई की ओर से रिपोर्ट नहीं मिलने पर कोर्ट शुक्रवार को मामले की सुनवाई करेगा। छात्र के वकील संदीप अनेजा ने बताया कि 19 दिसंबर को जिला कोर्ट में जमानत याचिका दायर की गई थी। इससे पहले जेजे बोर्ड जमानत याचिका खारिज कर चुका है। जेजे बोर्ड ने बुधवार को आरोपी छात्र पर बालिग की तरह केस चलाने का आदेश दिया। मामले में सेशन कोर्ट में सुनवाई 22 दिसंबर को होगी।

X
Children court can hear verdict in one year in pradumn murder case
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..