--Advertisement--

नवाब पटौदी से ली थी हिरण की खाल, बरामद हुई तो बुजुर्ग के गले पड़ी ये आफत

पिता मंसूर अली खान पटौदी से 40 साल पहले हिरण की खाल लेना 99 साल के एक बुजुर्ग को भारी पड़ गया।

Danik Bhaskar | Feb 14, 2018, 04:59 AM IST

फरीदाबाद. फिल्म स्टार सैफ अली खान के पिता मंसूर अली खान पटौदी से 40 साल पहले हिरण की खाल लेना 99 साल के एक बुजुर्ग को भारी पड़ गया। संदूक में छिपाकर रखी खाल को पुलिस ने मुखबिर से मिली सूचना के बाद मंगलवार को बरामद कर लिया। इसके बाद जैसे ही पुलिस ने हिरासत में लिया बुजुर्ग घबरा गया। इससे उसकी तबीयत बिगड़ गई। यह देख पुलिस के हाथ पैर फूल गए और उसने बुजुर्ग को छोड़ दिया। इसकी सूचना पुलिस ने उच्चाधिकारियों को दी।

वेटनरी डॉक्टर रहे बुजुर्ग
- मच्छगर गांव के रहने वाले 99साल के बादाम सिंह ने पुलिस को पूछताछ में बताया कि वे वेटनरी डॉक्टर थे।

- कई दशक पहले उनकी पोस्टिंग पटौदी में थी। वे नवाब मंसूर अली खान पटौदी के महल के सामने रेस्ट हाउस में रहते थे।

- इस कारण उनकी जान पहचान नवाब से हो गई थी। नवाब को शिकार का शौक था। इसलिए उन्होंने एक हिरण की खाल उन्हें दे दी थी। वे उसे घर ले आए थे। तब से खाल संदूक में रखी थी।


40 साल से थी संदूक में
- ईएमटी पुलिस चौकी इंचार्ज राजबीर सिंह ने बताया कि खाल मिलने के बाद बादाम सिंह ने इसे अपने घर की संदूक में छिपाकर रख दिया था। इस बारे में उनके इक्का-दुक्का ही दोस्त जानते थे। मंगलवार को पुलिस को किसी मुखबिर ने इसकी सूचना दी। पुलिस बादाम सिंह के घर पहुंची और खाल बरामद कर ली।

- हिरण की खाल बरामद कर बुजुर्ग को हिरासत में ले लिया था। लेकिन उसकी तबीयत खराब हो गई। इसलिए अब गिरफ्तारी से पहले उच्चाधिकारियों से बात की जाएगी। मेरे सामने ऐसा पहली बार हुआ है कि आरोपी की गिरफ्तारी के लिए सोचना पड़ रहा है।

शिकार में ही फंसे थे नवाब: कई साल पहले नवाब मंसूर अली खान पटौदी काले हिरण शिकार मामले में फंसे थे। यह मामला फरीदाबाद की विशेष पर्यावरण अदालत में चला था।

क्या है सजा: पुलिस के मुताबिक ऐसे केस विशेष पर्यावरण अदालत में जाते हैं। वहां से आरोपी को 3 से 7 साल तक की सजा हो सकती है। इस एक्ट में जुर्माने का भी प्रावधान है। यह कोर्ट पर निर्भर करता है।