--Advertisement--

प्याज-टमाटर के बाद मौसमी सब्जियों ने बिगाड़ा बजट

प्याज और टमाटर की कीमतों ने जहां रसोई का बजट बिगाड़कर रखा हुआ है, वहीं मौसमी सब्जियों के दाम भी कम नहीं हो रहे हैं।

Danik Bhaskar | Dec 04, 2017, 07:19 AM IST

गुड़गांव. प्याज और टमाटर की कीमतों ने जहां रसोई का बजट बिगाड़कर रखा हुआ है, वहीं मौसमी सब्जियों के दाम भी कम नहीं हो रहे हैं। मटर व गाजर के भाव भी 60 रुपए प्रति किलोग्राम तक होने से लोग मौसमी सब्जियों का भी स्वाद नहीं ले पा रहे हैं।


इसके अलावा घीया, गोभी व शिमला मिर्च भी 40 रुपए से 60 रुपए प्रति किलोग्राम तक बिक रहा है, ऐसे में गृहिणियों का रसोई बजट लगभग दोगुना हो गया है। वहीं सर्दी के मौसम में भी सब्जियों के दाम नहीं गिरने से लोग परेशान दिखाई दे रहे हैं।
एक तरफ जहां दिन-प्रतिदिन प्याज व टमाटर के भाव बढ़ रहे हैं, वहीं अब अन्य सब्जियों के भाव में महंगाई देखी जा सकती है। शहर के सब्जी विक्रेताओं ने बताया कि वैवाहिक सीजन पूरे जोरों पर है और दूसरा मौसम में तब्दीली के कारण सब्जियों के भाव बढ़ रहे हैं। टमाटर व प्याज ज्यादातर नासिक से आते हैं, वहीं ज्यादा मौसम खराब होने के कारण टमाटरों की फसल बहुत अधिक प्रभावित हो रही है। इससे टमाटर 70 रुपए से 80 रुपए किलो तक बिक रहा है। प्याज की कीमत पहले ही 55-60 रुपए किलो चल रही है। सलाद में प्रयोग किया जाने वाला खीरा भी 40 से लेकर 50 रुपए किलो तक बिक रहा है। लोगों के मुताबिक, पहले टमाटर-प्याज और अब मौसमी सब्जी खरीदना मुश्किल हो गया है।

अभी और झेलनी पड़ेगी महंगाई
जिला बागवानी अधिकारी डॉ. दीन मोहम्मद ने बताया कि सर्दी शुरू होते ही हरी सब्जियों की पैदावार बढ़ जाती है। लेकिन लोकल सब्जियां नहीं आने के कारण सब्जियां लगातार महंगी हो रही हैं। अभी लोकल किसानों की सब्जियों की आवक कम हो रही है, जिससे सब्जियां महंगी हैं। आने वाले 15-20 दिनों में गाजर, टमाटर, मटर के भाव में कमी आ सकती है।

टमाटर 70 से 80
प्याज 55 से 60
मूली 15 से 20
गोभी 40 से 50
गाजर 40
शिमला मिर्च 80
बंद गोभी 50
मटर 60