--Advertisement--

6 लोगों की हत्या कर चुका है ये साइको किलर, SIT खंगालेगी कॉल डिटेल

मृतका के ससुर दाउद ने मामले में अस्पताल प्रशासन की भूमिका पर सवाल उठाए हैं।

Danik Bhaskar | Jan 07, 2018, 06:13 AM IST

पलवल/हथीन. दो जनवरी की रात साइको किलर नरेश धनखड़ द्वारा एक के बाद एक छह हत्या किए जाने के मामले में मृतका अंजुम के परिजन रिश्तेदारों की तरफ से सीबीआई जांच कराने की मांग की जा रही है। मृतका के ससुर दाउद ने मामले में अस्पताल प्रशासन की भूमिका पर सवाल उठाए हैं। उन्होंने कहा कि अगर पलवल अस्पताल प्रशासन ने समय रहते कदम उठाया होता तो अंजुम को बचाया जा सकता था। साथ ही पांच लोगों की जान बच जाती। हमले के बाद महिला ने मांगी थी देवर से मदद...

उल्लेखनीय है कि आरोपी नरेश ने सबसे पहले घटना वाली रात को करीब ढाई बजे रॉड से अस्पताल की दूसरी मंजिल पर आईसीयू के बाहर लेट रही अंजुम की हत्या थी। बताया है कि अंजुम के देवर तस्लीम ने अस्पताल प्रबंधन के लोगों से वारदात कर भाग रहे आरोपी को पकड़ने के लिए शोर मचाया था। अस्पताल प्रबंधन के लोगों ने हत्यारे को पकड़ने के लिए कोई प्रयास नहीं किया। अगर अस्पताल के कर्मचारी तुरंत हरकत में जाते तो हत्यारा पकड़ा जाता।

अस्पताल की अंदर की सुरक्षा की जिम्मेदारी अस्पताल की होती है। पीड़ित पक्ष का कहना है कि भले ही पुलिस ने इसमें एसआईटी का गठन कर दिया है लेकिन पुलिस अस्पताल प्रबंधन को भी बचाने में लगी है। यह मामला गंभीर है, इसलिए इस मामले में सीबीआई जांच जरूरी है। बता दें, राजनैतिक दलों के लोग भी गठित की गई एसआईटी से खुश नहीं हैं। क्योंकि जिन पुलिस अधिकारियों के क्षेत्र में यह घटना घटी उन्हें ही जांच अधिकारी बनाया है। यह कहां का न्याय है। ऐसे में ऐसे अधिकारियों से न्याय उम्मीद लगाना बेमानी ही होगी।

आरोपी को गिरफ्तार करने गई टीम के हाथ खाली
शनिवार को आरोपी की गिरफ्तारी पूछताछ करने के लिए एसआईटी टीम दिल्ली सफदरजंग अस्पताल गई हुई थी। लेकिन उन्हें आरोपी की फिटनेश रिपोर्ट नहीं मिलने के कारण टीम खाली हाथ थी। शहर थाना प्रभारी एवं एसआईटी के सदस्य अश्विनी कुमार ने बताया कि टीम अभी अस्पताल में रुकी हुई है। आरोपी के बारे में चिकित्सक से बात की जाएगी, बात होने के बाद पता चल सकेगा की आरोपी कब तक बयान देने योग्य होगा।


सिर पर चोट लगने के कुछ सेकेंड में हो गई थी मौत
साइकोकिलर ने रॉड से हमलाकर छह लोगों की हत्या कर दी थी, जिनकी पोस्टमार्टम रिपोर्ट शनिवार को पुलिस को सौंप दी गई है। सभी छह शवों का पोस्टमार्टम दो चिकित्सकों डॉ. दीप किशोर डॉ. मुकेश सारंग के पैनल द्वारा किया गया। जिसमें खुलासा हुआ है कि मृतक के सिर पर लगी चोट के कुछ ही सेकेंड में उसकी मौत हो गई थी। मौत का कारण सिर पर लगी गहरी चोट बताई गई है।

तस्लीम को बनाया पुलिस ने मौके का गवाह
एसआईटीटीम के सदस्य एवं जांच अधिकारी जयराम ने बताया कि पलवल अस्पताल नरेश धनखड़ के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज कराने वाले पीड़ित तस्लीम को इस मामले में मौके का गवाह बनाया गया है। क्योंकि तस्लीम ने उसे अपनी भाभी की हत्या करने के बाद देखा था और पकड़ने का भी प्रयास किया था इसलिए तस्लीम के सामने आरोपी को लाकर उससे घटना के बारे में पूछताछ की जाएगी।

कमजोर लोगों पर ही किया साइको किलर ने हमला
साइकोकिलर ने चौकीदार भिखारी जैसे कमजोर लोगों को ही अपना निशाना बनाया था जो एक वार के बाद ही अचेत हो गए और आरोपी का मुकाबला नहीं कर सके। साइको किलर ने धुंध अधिक होने का फायदा उठाया। पुलिस टीमें मुख्य रास्तों पर घुमती रही और साइको किलर नाले की पटरी से होता हुआ शेखपुरा मार्ग से होता हुआ आदर्श कॉलोनी निकल गया। वहीं, आरोपी की तलाश में जुटी पुलिस टीम को उसकी पहचान भी बाद में मिली थी। पहचान पलवल अस्पताल में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज मिलने पर हुई, जिसके बाद उसके कपड़ों के हिसाब से उसकी तलाश की गई थी