Hindi News »Haryana »Faridabad» तोहफा : कैथ लैब तैयार, ट्रायल शुरू, प्राइवेट से बेहद सस्ते रेट में होगी हृदय जांच व इलाज

तोहफा : कैथ लैब तैयार, ट्रायल शुरू, प्राइवेट से बेहद सस्ते रेट में होगी हृदय जांच व इलाज

हार्ट पेशेंट के लिए राहत भरी खबर है। बीके सिविल अस्पताल में हार्ट पेशेंट के लिए कैथ लैब बनकर तैयार हो चुकी है। इसका...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 02:00 AM IST

हार्ट पेशेंट के लिए राहत भरी खबर है। बीके सिविल अस्पताल में हार्ट पेशेंट के लिए कैथ लैब बनकर तैयार हो चुकी है। इसका ट्रायल शुरू कर दिया गया है। जल्द ही इसका औपचारिक उद्घाटन भी कर दिया जाएगा। इसके शुरू होने से हृदय रोगियों का इलाज सरकारी अस्पताल में शुरू हो जाएगा। यहां करीब 40 से 50 हार्ट पेशेंट रोज इलाज के लिए आते हैं। अभी तक यह सुविधा न होने से उन्हें सिर्फ प्राइवेट अस्पताल पर निर्भर रहना पड़ता था या फिर दिल्ली जाना पड़ता था। अब उन्हें ऐसा नहीं करना पड़ेगा। इससे गरीब के साथ-साथ मिडिल क्लास फेमिली के लोगों को भी राहत मिलेगी। अभी तक अस्पताल में आने वाले हृदय रोगी को इलाज के अभाव में रेफर कर दिया जाता है। बीके अस्पताल में कैथ लैब यूनिट थर्ड फ्लोर पर बनकर तैयार है। इसे पीपीपी (पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप) के तहत शुरू किया गया है। इसमें 10 बेड का वार्ड तैयार किया गया है। इसमें पांच मेल व पांच फीमेल के हैं। प्राइवेट अस्पताल में एंजियोप्लास्टी व एंजियोग्राफी करने का खर्च डेढ़ से दो लाख रुपए के करीब आता है। बीके अस्पताल में इलाज बेहद कम रेट पर होगा। इसके लिए कंपनी की ओर से अस्पताल प्रशासन को रेट लिस्ट सौंप दी गई है। डेट फाइनल होते ही इसे शुरू कर दिया जाएगा।

स्टाफ नियुक्त, 117 रुपए ओपीडी फीस

कैथ लैब में 18 लोगों का स्टाफ तैनात रहेगा, जिसमें 3 डॉक्टर, नर्सिंग स्टाफ, आरएमओ व एडमिनिस्ट्रेटिव स्टाफ मौजूद रहेगा। जांच के लिए यहां दो आधुनिक मशीनें लगाई गई हैं। वहीं महिलाओं व पुरुषों के लिए अलग-अलग वार्ड बनाए गए हैं, जिसमें 5 - 5 बैड हैं। कैथ लैब की अोपीडी भी बीके अस्पताल की ओपीडी से अलग रहेगी। ओपीडी के लिए 117 रुपए फीस तय की गई है। अगर बीके अस्पताल की अोपीडी से कोई डॉक्टर मरीज को कैथ लैब में रेफर करता है, तो उससे ओपीडी फीस नहीं ली जाएगी।

अभी कर दिया जाता है मरीज रेफर

निजी अस्पतालों में ये जांच व इलाज कराने पर कई एक्सपेंसिव जुड़ जाते हैं। इससे इनके दाम एमआरपी से डबल हो जाते हैं। जबकि यहां ऐसा नहीं होगा। यहां हृदय रोगियों की निजी अस्पताल की तुलना में 60 फीसदी सस्ते दर पर एंजियोप्लास्टी और एंजियोग्राफी होगी। फिलहाल जिले में ऐसे मरीजों की जांच सुविधा नहीं होने से उन्हें दिल्ली के ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (एम्स) और पीजीआई रोहतक में भेजा जाता है।

निजी से 60 फीसदी सस्ते रेट पर जांच

करीब 50 से अधिक तरह के हार्ट टेस्ट जाे बाहर महंगे रेट में होते हैं, वे यहां बेहद कम रेट में होंगे। एंजियोग्राफी के लिए 3519 रुपए और एंजियोप्लास्टी के लिए 48 हजार 288 रुपए देने होंगे। प्राइवेट अस्पतालों में एंजियोग्राफी के लिए 15 से 20 हजार रुपए देने पड़ते हैं। एंजियोप्लास्टी के लिए 1 लाख से 1 लाख 75 हजार रुपए तक का खर्च होता है। अस्पताल की कैथ लैब में इको व इसीजी भी प्राइवेट अस्पतालों से लगभग 60 प्रतिशत कम दामों में की जाएंगी। इसके अलावा रोटाब्लेटर रोटालिंक प्लस टेस्ट जिसका एमआरपी रेट 60 हजार रुपए है। वह यहां 42 हजार में होगा। पीटीसीए जो 15 हजार रुपए में होता है वह यहां 10 हजार रुपए में होगा। सभी टेस्ट और ट्रीटमेंट पर एमआरपी रेट पर 30 प्रतिशत डिस्काउंट दिया गया है। इसके अलावा बीपीएल व गरीबी रेखा से नीचे जीवन यापन करने वाले मरीजों के ये टेस्ट फ्री होंगे।

कंपनी की ओर से काम कंप्लीट होने का लेटर मिल गया है। इसका ट्रायल चल रहा है। जल्द ही कैथ लैब को शुरू कर दिया जाएगा। इसके बाद हार्ट मरीजों की जांच व इलाज होने लगेगा। -डॉ. सुखबीर सिंह, पीएमओ, बीके सिविल अस्पताल।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Faridabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×