फरीदाबाद

  • Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • निहित ज्ञान व तपस्वियों के तप से ही भारत को विश्व गुरु की पहचान मिली : अभिमन्यु
--Advertisement--

निहित ज्ञान व तपस्वियों के तप से ही भारत को विश्व गुरु की पहचान मिली : अभिमन्यु

गुरुकुल यमुना तट मंझावली के तत्वाधान में रविवार को 24वां वार्षिक महोत्सव एवं यजुर्वेद पारायण यज्ञ की पूर्णाहुति...

Danik Bhaskar

Apr 02, 2018, 02:00 AM IST
गुरुकुल यमुना तट मंझावली के तत्वाधान में रविवार को 24वां वार्षिक महोत्सव एवं यजुर्वेद पारायण यज्ञ की पूर्णाहुति समारोह का आयोजन किया गया। इस मौके पर हरियाणा के वित्त मंत्री कैप्टन अभिमन्यु ने बतौर मुख्य अतिथि कहा कि भारतीय संस्कृति में वेदों का अत्यंत महत्व है। वेदों में निहित ज्ञान और तपस्वियों के तप के बल पर ही भारत को विश्व गुरु की पहचान मिली है। आज फिर से सम्पूर्ण राष्ट्र अपनी विश्व प्रसिद्ध अनूठी संस्कृति धरोहर के प्रति जागरूक हो। इससे अर्जित ज्ञान को आधुनिक परिवेश के साथ जोड़कर राष्ट्र के नवनिर्माण में महती भूमिका निभाने का संकल्प लेना होगा तभी आने वाली युवा पीढ़ी अपनी संस्कृति के प्रति जागरूक हो सकेगी।

युवा दैनिक जीवन में योग को अपनाएं

इस मौके पर प्रदेश के उद्योग मंत्री विपुल गोयल ने कहा कि योग की अपनी एक अलग महिमा है। जिसका उद्भव गुरुकुल जैसी शिक्षा परम्परा में हुआ। जहां अनेक विश्व प्रसिद्ध साधु-संतों, राष्ट्रभक्तों, समाजसेवियों ने शिक्षा-दीक्षा लेकर समय काल परिस्थिति अनुसार देश-दुनिया में भारत वर्ष का नाम रोशन किया। उन्होंने कहा आने वाली युवा पीढ़ी को चाहिए कि वह आधुनिकता के बुरे प्रभाव को कम करने के लिए अपने दैनिक जीवन में योग को अपनाने के साथ-साथ वेदों और ग्रंथों का भी अध्ययन करे और अपने से संबंधित परिवार व देश की जिम्मेदारी को निष्ठा व ईमानदारी से पूरा करें। समारोह में कांगऱ्ेस राज्यसभा सांसद कुमारी सैलजा, तिगांव के विधायक ललित नागर भी मौजूद थे। इस मौके पर राजस्थान के सीकर से सांसद स्वामी सुमेधानंद सरस्वती, स्वामी चित्तेश्वरनंद सरस्वती, स्वामी श्रद्धानंद सरस्वती, धर्मपाल शास्त्री, शांतानंद सरस्वती, महाशय अजीराम, संस्थापक एवं संचालक स्वामी प्रणवानंद सरस्वती, चेयरमैन अजय गौड़, सुरेन्द्र तेवतिया आदि मौजूद थे।

फरीदाबाद. गांव मंझावली के गुरूकुल में 24वें वार्षिक समारोह में पहुंची कांग्रेसी की राज्यसभा सांसद कुमारी शैलजा।

Click to listen..