• Hindi News
  • Haryana
  • Faridabad
  • क्राइसिस सेंटर के हालात देख पूछा, न सफाई है न रोशनी, सीएमओ ने तुरंत दूसरे वार्ड में शिफ्ट कराया
--Advertisement--

क्राइसिस सेंटर के हालात देख पूछा, न सफाई है न रोशनी, सीएमओ ने तुरंत दूसरे वार्ड में शिफ्ट कराया

Faridabad News - ह्यूमन ट्रेफकिंग के मामले में शुक्रवार को बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य बीके गोयल बीके सिविल अस्पताल वन स्टॉप...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:00 AM IST
क्राइसिस सेंटर के हालात देख पूछा, न सफाई है न रोशनी, सीएमओ ने तुरंत दूसरे वार्ड में शिफ्ट कराया
ह्यूमन ट्रेफकिंग के मामले में शुक्रवार को बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य बीके गोयल बीके सिविल अस्पताल वन स्टॉप क्राइसिस सेंटर में भर्ती पीड़ित बच्ची से मिलने पहुंचे। यहां उन्होंने बच्ची से बातचीत की। उन्होंने कहा की दोषियों को सख्त से सख्त सजा दिलाई जाएगी। इस दौरान उन्होंने सेंटर की हालात देखकर कड़ी नाराजगी जताई। उन्होंने कहा कि न यहां सफाई है और न रोशनी। मच्छर न हो इसके लिए भी कोई इंतजाम नहीं है। इसके बाद सीएमओ ने मौके पर ही सेंटर में एडमिट दोनों पीड़ित बच्चियों को दूसरे वार्ड में शिफ्ट कराया। यहां बेड की चादरें बदलवाई। सीएमओ ने बाल अधिकार संरक्षण आयोग के सदस्य को आश्वासन दिया कि यहां बच्चियों को कोई परेशानी नहीं होगी।

झारखंड से खरीद कर लाई गई थी बच्ची

रविवार को पुलिस ने ह्यूमन ट्रेफकिंग के केस में 15 साल की किशोरी को छुड़ाया था। उसने पुलिस को बताया था कि उसे दो साल पहले उसकी नानी से 5 हजार रुपए में सुरेंद्र नामक युवक खरीदकर दिल्ली लाया था। दिल्ली में करीब दो वर्ष तक उससे घरों में झाड़ू पोछा कराने के साथ दुष्कर्म भी किया गया। इसके बाद कुछ दिन पहले 30 हजार में मिश्रा नामक युवक उसे खरीदकर यहां फरीदाबाद ले आया। यहां उसके साथ सुरेंद्र व मिश्रा दोनों ने दुष्कर्म किया। घरों में काम करने के दौरान किशोरी को जो पैसे मिलते थे वह भी छीन लिए जाते थे। चाइल्ड हेल्पलाइन टीम को इस बारे में किसी से सूचना मिली थी। उसने पुलिस को सूचित किया था। इस पर सेक्टर-31 थाने की टीम मौके पर पहुंच गई थी। इसके बाद महिला थाने की पुलिस को बुलाकर किशोरी को वहां से मुक्त कराकर बीके हॉस्पिटल भेज दिया गया था। हॉस्पिटल में पहले किशोरी का इमरजेंसी में इलाज चला। इसके बाद उसे वन स्टॉप क्राइसिस सेंटर भेज दिया गया था। यहां वह पुलिस की निगरानी व डॉक्टरों की देख-रेख में है। इस मामले में बुधवार को बाल संरक्षण आयोग के मेंबर बीके गोयल बच्ची से मिलने पहुंचे थे।

मनोरंजन के लिए इंतजाम किए जाएं

इस दौरान उन्होंने वन स्टाॅप क्राइसिस सेंटर में भर्ती बच्चियाें की काउंसलिंग के लिए भी ड्यूटी लगाई। उन्होंने कहा कि चाइल्ड हेल्पलाइन, रेडक्रॉस के एक मेंबर रोज एक बार सेंटर जाकर बच्चियों से मिलेंगे। गोयल ने उनके खाने-पीने के बारे में जानकारी ली। उन्होंने कहा कि यहां एडमिट बच्चियों को डिप्रेशन व बुरी यादों से उभारने के लिए काउंसलिंग के साथ-साथ उनके मनोरंजन के लिए भी कुछ खेलने या बुक्स आदि चीजों का इंतजाम किया जाए। ताकि वे मनोरंजक एक्टिविटी में हिस्सा लेकर अपने दर्द को भुला सकें। इस दौरान बाल कल्याण समिति के चेयरमैन एचएस मलिक, मेंबर गीता सिंह, अर्चना, ह्यूमन ट्रेफकिंग पर काम कर रही शक्ति वाहिनी संस्था के डायरेक्टर ऋषि कांत मौजूद थे।

फरीदाबाद. बीके हॉस्पिटल के वन स्टॉप क्राइसिस सेंटर का निरीक्षण करते बाल सरंक्षण आयोग के सदस्य बीके गोयल।

दर्द बताते हुए छलक पड़ी बच्चियों की आंखें

सेंटर में बीके गाेयल ने दोनों बच्चियों से बातचीत की। उनसे पूछा आपको यहां कोई दिक्कत तो नहीं है। स्टाफ सब अच्छा है। सब अच्छे से बातचीत करते हैं। उनके इतना पूछते ही दोनों बच्चियों की आंखें छलक उठी। गोयल ने कहा कि आरोपी चाहे जहां छिपे हों। पुलिस उन तक जल्द पहुंचकर उन्हें सलाखों के पीछे भेजेगी।

X
क्राइसिस सेंटर के हालात देख पूछा, न सफाई है न रोशनी, सीएमओ ने तुरंत दूसरे वार्ड में शिफ्ट कराया
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..