Hindi News »Haryana »Faridabad» Plenty Of Poisonous Fruits, 15 Children Condition Worsened

बेर समझकर खाया विषैला फल, 15 बच्चों की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती, 5 दिल्ली रेफर

सोमवार शाम को बच्चों ने पलवली गांव में खेलते समय बेर समझकर खा लिया जहरीला फल।

Bhaskar News | Last Modified - Nov 22, 2017, 07:08 AM IST

  • बेर समझकर खाया विषैला फल, 15 बच्चों की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती, 5 दिल्ली रेफर
    +2और स्लाइड देखें

    फरीदाबाद।पलवली गांव में सोमवार शाम को खेलते-खेलते कुछ बच्चे विषैले पौधों पर लगे छोटे-छोटे विषाक्त फलों को बेर समझकर खा गए। इन्हें खाने के कुछ घंटे बाद ही बच्चों की हालत बिगड़ने लगी। करीब 15 बच्चों को उल्टी-दस्त होने लगे। इनकी बिगड़ती हालत को देख उनके माता-पिता उन्हें रात 11 बजे बीके सिविल अस्पताल लेकर आए। यहां पांच बच्चों की गंभीर हालत को देखते हुए उन्हें दिल्ली सफदरजंग के लिए रेफर कर दिया गया।

    - पांच बच्चों का इलाज बीके में चल रहा है। इसके अलावा कुछ बच्चों को निजी क्लीनिक में भी भर्ती कराया गया। जहां उनकी हालत में सुधार है। जिस फल को खाने से बच्चों की हालत बिगड़ी वह जट्रोफा बायो-डीजल प्लांट का था।

    - अस्पताल में भर्ती 10 साल की मुन्नी ने बताया कि सोमवार शाम को बच्चे खेल रहे थे। उन्होंने सड़क किनारे लगी झाड़ियों में एक पेड़ देखा। इस पर छोटे-छोटे बेर जैसे फल लगे थे। उन्होंने सारे फल तोड़ लिए और बांटकर खा लिए। घर पहुंचने के करीब दो घंटे बाद बच्चों को चक्कर आने लगे और उल्टी-दस्त शुरू हो गए।

    - आसपास के घरों में भी सभी बच्चों के साथ ऐसा होने लगा। 15 बच्चों की तबीयत बिगड़ी। पैरेंट्स बच्चों को लेकर पहले पास की क्लीनिक में गए। जहां से 10 बच्चों की हालत ज्यादा खराब होने पर उन्हें बीके अस्पताल रेफर कर दिया गया।

    - बीके में बच्चों के पहुंचते ही पीएमओ ने तुरंत दो डॉक्टरों की ड्यूटी इमरजेंसी में लगाई। इलाज के दौरान चार बच्चों की हालत में सुधार होने पर उन्हें दिल्ली सफदरजंग रेफर कर दिया गया।


    इनकी तबीयत बिगड़ी
    सभीबच्चों की उम्र 10 से 15 साल के बीच है। दस में से राहुल, अली हुसैन, जैसमीन, जमीना, राहुल को दिल्ली के सफदरजंग रेफर कर दिया गया। अर्निका, नासिर, इरीमी खातून, मुफिया, तेतली यादव, मानिक का इलाज बीके में चल रहा है। बीके सिविल अस्पताल की ओर से विषैले फल के सैंपल भी सफदरजंग भेजे गए।


    लिटिल एप्पल ऑफ डेथ माना जाता है फल
    बागवानीविभाग के अधिकारी सुरेश के अनुसार इस पौधे को जट्रोफा बायो-डीजल प्लांट के नाम से भी जाना जाता है। इस पौधे के अंदर निकलने वाले बीज से बायो-डीजल बनाया जाता है। इसके फल को लिटिल एप्पल ऑफ डेथ के नाम से जाना जाता है। अगर इसके छोटे से फल को किसी ने खा लिया तो मौत का खतरा हो सकता है। इस पर बेर की साइज एप्पल जैसी शेप के छोटे-छोटे फल देखने में बहुत सुंदर लगते हैं जो बच्चों को आकर्षित करते हैं। इससे व्यक्ति की मौत भी हो जाती है।

  • बेर समझकर खाया विषैला फल, 15 बच्चों की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती, 5 दिल्ली रेफर
    +2और स्लाइड देखें
  • बेर समझकर खाया विषैला फल, 15 बच्चों की हालत बिगड़ी, अस्पताल में भर्ती, 5 दिल्ली रेफर
    +2और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Haryana News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Plenty Of Poisonous Fruits, 15 Children Condition Worsened
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Faridabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×