--Advertisement--

प्रद्युम्न की हत्या का आरोपी आरोपियों से पूछ रहा यह सवाल, कितनी होगी मुझे सजा

यह बात बाल सुधार गृह से पेशी के लिए बाहर लाए गए एक किशोर से पता चली।

Dainik Bhaskar

Nov 15, 2017, 04:54 AM IST
सीबीआई ने इस केस में 8 नवंबर को 11वीं के स्टूडेंट को आरोपी बनाया। सीबीआई ने इस केस में 8 नवंबर को 11वीं के स्टूडेंट को आरोपी बनाया।
फरीदाबाद. प्रद्युम्न की हत्या के आरोप में गिरफ्तार रेयान स्कूल के आरोपी स्टूडेंट के बारे में नया खुलासा हुआ है। Dainikbhaskar.com को मिली जानकारी के मुताबिक, यह बाल सुधार गृह में उसके साथ रहे हत्या के आरोपी बच्चों से पूछ रहा है कि यदि कोर्ट किसी को दोषी ठहराए तो कितने साल की सजा मिलती है। यह जानकारी वहां से पेशी के लिए बाहर लाए गए एक किशोर से पता चली।
- प्रद्युम्न के मर्डर के आरोपी स्टूडेंट से मंगलवार को भी उसके माता-पिता और छोटा भाई ने मुलाकात की। इनके साथ आरोपी की बुआ और चाचा भी थे। इसके अलावा फरीदाबाद के बाल सुरक्षा एवं संरक्षण कार्यालय से तीन काउंसलरों ने इससे अलग कमरे में बातचीत की।
- आरोपी स्टूडेंट के पिता ने कहा कि कंडक्टर अशोक के खिलाफ 9 मिनट का वीडियो है, जबकि उसके बेटे का मात्र एक मिनट,17 सेकंड का है। बेटे के खिलाफ सीबीआई के पास कोई ठोस सबूत नहीं है। सीबीआई अपने प्रभाव के कारण उसे फंसा रही है।

गुड़गांव पुलिस की सीबीआई की चार्जशीट पर टिकी नजर

- प्रद्युम्न हत्याकांड में बैकफुट पर आई गुड़गांव पुलिस को सीबीआई की जार्चशीट का इंतजार है।
- आरोपी कंडक्टर अशोक की जमानत पर 16 नवंबर को जिला कोर्ट में सुनवाई होनी है। हालांकि सीबीआई की ओर से आरोपी अशोक को क्लीनचिट अभी नहीं मिली है।

कब हुआ था मर्डर?

- गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर का मर्डर कर दिया गया था। बॉडी टॉयलेट में मिली थी। इस मामले में पुलिस ने स्कूल बस के कंडक्टर अशोक कुमार को अरेस्ट किया था। आरोपी 8 महीने पहले ही स्कूल में कंडक्टर की नौकरी पर लगा था।
- अशोक ने मीडिया को बताया था, ''मेरी बुद्धि भ्रष्ट हो गई थी। मैं बच्चों के टॉयलेट में था। वहां गलत काम कर रहा था। तभी वह बच्चा आ गया। उसने मुझे देख लिया। मैंने उसे पहले देखा धक्का दिया। फिर खींच लिया। वह शोर मचाने लगा तो मैं डर गया। फिर मैंने उसे दो बार चाकू से मारा। उसका गला रेत दिया।''
- बाद में केस सीबीआई को सौंप दिया गया। 8 नवंबर को सीबीआई ने 11वीं के स्टूडेंट को इस मर्डर केस में आरोपी बनाया।

प्रद्युम्न के पिता बोले- मंत्री ने कहा था, सीबीआई जांच मत करवाओ, केस लंबा खिंच जाएगा

- प्रद्युम्न की हत्या के बाद हरियाणा के मंत्री राव नरबीर सिंह ने उसके पिता को सीबीआई से जांच नहीं करवाने को कहा था। प्रद्युम्न के पिता वरुण ठाकुर ने मंगलवार को बताया कि सीबीआई जांच के एलान के एक दिन पहले 14 सितंबर को पीडब्ल्यूडी, वन और नागरिक उड्‌डयन मंत्री राव नरबीर उनके घर आए थे।
- उन्होंने कहा था, "सीबीआई सिर्फ एक बड़ा नाम है। और कुछ नहीं। उसके पास काम का इतना बोझ है कि जांच लंबी खिंच जाएगी। हरियाणा पुलिस सीबीआई से बेहतर जांच एजेंसी है। यह समय पर रिपोर्ट देगी।"
- जब वरुण सीबीआई से जांच करवाने की बात पर अड़े रहे तो मंत्री ने कहा- "हम सीबीआई जांच के लिए केस रिकमंड कर देंगे। अगर सीबीआई जांच में भी अशोक ही दोषी मिला तो क्या होगा?’ वरुण ने कहा कि अगर उस वक्त मंत्री की बात मान लेते ताे असल आरोपी कभी सामने नहीं आता। इसी बीच, सूत्रों ने दावा किया कि पहले आरोपी बनाए गए बस कंडक्टर अशोक की जमानत याचिका का सीबीआई अदालत में विरोध नहीं करेगी।
गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर का मर्डर कर दिया गया था। गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर का मर्डर कर दिया गया था।
X
सीबीआई ने इस केस में 8 नवंबर को 11वीं के स्टूडेंट को आरोपी बनाया।सीबीआई ने इस केस में 8 नवंबर को 11वीं के स्टूडेंट को आरोपी बनाया।
गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर का मर्डर कर दिया गया था।गुड़गांव के रेयान इंटरनेशनल स्कूल में 8 सितंबर को 7 साल के प्रद्युम्न ठाकुर का मर्डर कर दिया गया था।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..