Hindi News »Haryana »Faridabad» लिस्ट में एसडीओ के लिए चयन, कागजों की जांच पूरी, फिर बदली सूची

लिस्ट में एसडीओ के लिए चयन, कागजों की जांच पूरी, फिर बदली सूची

भोला पांडेय | फरीदाबाद Bhola.pandey@dhrsl.com हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन के जरिए एक बेरोजगार परीक्षा और इंटरव्यू पास कर...

Bhaskar News Network | Last Modified - May 03, 2018, 02:00 AM IST

  • लिस्ट में एसडीओ के लिए चयन, कागजों की जांच पूरी, फिर बदली सूची
    +1और स्लाइड देखें
    भोला पांडेय | फरीदाबाद Bhola.pandey@dhrsl.com

    हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन के जरिए एक बेरोजगार परीक्षा और इंटरव्यू पास कर सिंचाई विभाग मंे एसडीओ के पद पर चयनित हो गया। पढ़ाई से संबंधित डिग्रियों का सत्यापन भी हो गया। घर-परिवार और रिश्तेदारियों में उसके सिलेक्शन की खुशी में मिठाई भी बंट गई। घर पर बधाई देने वालों का तांता लगा रहा। लेकिन छह दिन के अंदर आयोग ने सूची बदलकर युवक के सपनों पर पानी फेर दिया। यह दास्तां है डबुआ कॉलोनी निवासी अरविंद की। पिछले दिनों आयोग में हुई छापेमारी से इस बात को बल मिलता है कि पढ़े लिखे बेरोजगारों का भविष्य तय करने वाले इस मंदिर में सबकुछ ठीक नहीं है। पीिड़त युवक का आरोप है कि एचपीएससी ने एससी व बीसीए कैटेगरी के उम्मीदवारों के चयन में खेल किया है। युवक अब आयोग के खिलाफ कोर्ट जाने की तैयारी में है।

    रिवाइज रिजल्ट घोषित करना आयोग की लापरवाही

    एक बार फाइनल रिजल्ट घोषित कर रिवाइज रिजल्ट घोषित करना आयोग की घोर लापरवाही है। आयोग को किसी भी उम्मीदवार के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का अधिकार नहीं है। पीिड़त को आयोग में अपील करना चाहिए। यदि आयोग नहीं सुनता है तो उसे अविलंब हाईकोर्ट जाना चािहए। आयोग के इस कदम से साख पर सवाल खड़ा होना लाजिमी है। -डॉ. हरेंद्र राणा, पूर्व सदस्य हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन

    कोर्ट जाने की तैयारी में

    हरियाणा कर्मचारी चयन आयोग की प्रक्रिया पर उठे सवाल, एचपीएससी ने सिंचाई विभाग में एसडीओ पद के लिए किया था चयन

    यह है पूरा मामला

    हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन ने वर्ष 2015 में सिंचाई विभाग में एसडीओ मैकेनिकल के लिए दो वैकेंसी निकाली थीं। डबुआ कॉलोनी निवासी एससी कैंडीडेट अरविंद ने एप्लाई किया। 15 अक्टूबर 2017 को आयोजित लिखित परीक्षा में अरविंद शामिल हुए। 8 फरवरी 2018 को परिणाम घोषित हुआ। इसमें छह उम्मीदवारों का चयन इंटरव्यू के लिए हुआ। (रोल नंबर एससी कैटेगरी-1520, 2744, 2792, 2985, 3376, 3996) इसमें अरविंद का नंबर 1520 था। 5 मार्च 2018 को इंटरव्यू के लिए उसे काल लेटर भेजा गया। अरविंद ने आयोग में जाकर इंटरव्यू दे दिया। 9 मार्च 2018 को जारी फाइनल लिस्ट में एससी कोटे में अरविंद (1520) और यमुनानगर निवासी नीरज कुमार का चयन हो गया। इसके बाद सिंचाई विभाग की ओर से अरविंद को लेटर भेजकर 14 मार्च 2018 की सुबह 11 बजे अपने सभी कागजातों की जांच कराने के लिए पंचकूला बुलाया गया। कागजों की जांच पड़ताल भी पूरी हो गई।

    रिवाइज रिजल्ट में अरविंद का नाम गायब

    अायोग ने 15 मार्च 2018 को रिवाइज रिजल्ट जारी कर दिया। इसमें अरविंद लिस्ट से बाहर हो गए। उनके स्थान पर रोल नंबर 3996 वाले एससी कैंडीडेट का चयन हो गया। अरविंद का आरोप है कि आयोग ने इस चयन प्रक्रिया में धांधली की है। यह धांधली केवल एससी कैटेगरी में ही नहीं बल्कि बीसीए कैटेगरी में भी की गई है।

    आरटीआई का नहीं दिया कोई जवाब

    अरविंद ने हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन में आरटीआई के जरिए चयन प्रक्रिया और चयन सूची तैयार करने वाले अधिकारियों व कर्मचािरयों से संबंधित कई सूचनाएं मांगीं लेकिन आयोग ने एक भी सूचना का सही जवाब नहीं दिया। साथ ही आयोग का विशेषाधिकार होने की बात कर सूचना देने से इंकार कर दिया गया। अरविंद का कहना है कि वह इस मामले को अब हाईकोर्ट में ले जाएंगे।

  • लिस्ट में एसडीओ के लिए चयन, कागजों की जांच पूरी, फिर बदली सूची
    +1और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Faridabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×