• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • पूर्व सांसद रामचंद्र बैंदा पंचतत्व में विलीन, नम आंखों से शहर ने दी अपने नेता को श्रद्धांजलि
--Advertisement--

पूर्व सांसद रामचंद्र बैंदा पंचतत्व में विलीन, नम आंखों से शहर ने दी अपने नेता को श्रद्धांजलि

फरीदाबाद. पूर्व सांसद रामचंद्र बैंदा की अंतिम यात्रा में अर्थी को कंधा देते कैबिनेट मंत्री प्रो. रामविलास शर्मा व...

Danik Bhaskar | Jun 14, 2018, 02:00 AM IST
फरीदाबाद. पूर्व सांसद रामचंद्र बैंदा की अंतिम यात्रा में अर्थी को कंधा देते कैबिनेट मंत्री प्रो. रामविलास शर्मा व अन्य लोग।

भास्कर न्यूज|फरीदाबाद

फरीदाबाद संसदीय क्षेत्र से तीन बार सांसद रहे रामचंद्र बैंदा बुधवार को पंचतत्व मंे विलीन हो गए। सुबह 11 बजे सेक्टर-8 स्थित सीही गांव के स्वर्गाश्रम में उनका अंतिम संस्कार किया गया। पुत्र दयानंद बैंदा ने उन्हें मुखाग्नि दी। उनके अंतिम संस्कार में शहर के विभिन्न दलों के राजनेता, उद्योगपति, नौकरशाह सहित सामाजिक-धार्मिक संस्थाओं के प्रतिनिधि शामिल हुए। राज्य सरकार की आेर से भाजपा के वरिष्ठ नेता एवं प्रदेश के शिक्षामंत्री रामबिलास शर्मा अंतिम संस्कार में शामिल हुए।

भारतीय जनता पार्टी से तीन बार सांसद रहे रामचंद्र बैंदा का लंबी बीमारी के बाद सोमवार की देर रात दिल्ली के एम्स में निधन हो गया था। वह 67 वर्ष के थे। वह मूलरूप से हिसार जिले के गांव खाबड़ा कलां के रहने वाले थे। बुधवार सुबह 10 बजे सेक्टर-14 स्थित उनके आवास से शवयात्रा निकाली गई। इसमें संगठन और पार्टी के साथ ही बड़ी संख्या में शहर के लाेग शामिल हुए। 11 बजे उनका अंतिम संस्कार किया गया।

सभी दलों के नेता हुए शामिल

पूर्व सांसद की अंतिम यात्रा में केंद्रीय राज्यमंत्री कृष्ण्पाल गुर्जर, प्रदेश के शिक्षा मंत्री रामबिलास शर्मा, नायाब सिंह सैनी, उद्योग मंत्री विपुल गोयल, संगठन मंंत्री सुरेश भट्‌ट, प्रदेश महामंत्री संदीप जोशी, संघ से देव प्रसाद भारद्वाज, अजय गौड़, सुरेंद्र तेवतिया, इनेलो जिलाध्यक्ष देवेंद्र चौहान, पूर्व मंत्री जगदीश नायर, पूर्व मंत्री हर्ष कुमार, कांग्रेसी नेता प्रेम दलाल, सुमित गौड़ आदि शामिल हुए।

हर बार ज्यादा मतों से जीते बैंदा

रामचंद्र बैंदा ने तीन बार फरीदाबाद संसदीय क्षेत्र का प्रतिनिधित्व किया। आंकड़ों पर नजर डालें तो वर्ष 1996 में बैंदा को कुल 2 लाख 92 हजार 294 वोट मिले थे। उन्होंने कांग्रेसी उम्मीदवार अवतार सिंह भड़ाना को हराया था। जबकि 1998 में उन्हें 3 लाख 4 हजार 22 वोट मिले थे। इस बार उन्होंने कांग्रेस उम्मीदवार खुर्शीद अहमद को हराया था। वर्ष 1999 में तीसरी बार सांसद बने। उन्हें इस बार 3 लाख 67 हजार 842 वोट मिले थे। इस बार उन्होंने कांग्रेस के उम्मीदवार रहे जािकर हुसैन को शिकस्त दी थी।