• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • हालात खतरनाक| प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 61 शहरों का एयर बुलेटिन जारी किया, इसमें फरीदाबाद 14वें स्थान पर
--Advertisement--

हालात खतरनाक| प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने 61 शहरों का एयर बुलेटिन जारी किया, इसमें फरीदाबाद 14वें स्थान पर

भास्कर न्यूज | फरीदाबाद राजस्थान से होते हुए धूल भरी आंधी फरीदाबाद-एनसीआर में पहुंच चुकी है। भीषण गर्मी के बाद...

Danik Bhaskar | Jun 15, 2018, 02:00 AM IST
भास्कर न्यूज | फरीदाबाद

राजस्थान से होते हुए धूल भरी आंधी फरीदाबाद-एनसीआर में पहुंच चुकी है। भीषण गर्मी के बाद धूल ने एकदम दमघोंटू माहौल बना दिया है। इससे लोगों का जीना मुहाल हो रहा है। धूल के कारण फरीदाबाद में लगातार तीसरे दिन प्रदूषण गंभीर स्तर तक पहुंच गया। अगले चार दिन तक इससे राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने लोगों को ऐसी स्थिति में घर से बाहर नहीं निकलने की सलाह दी है। खतरनाक स्तर पर जाते पॉल्यूशन को देखते हुए गुरुवार को एनवायरमेंट पॉल्यूशन कंट्रोल अथॉरिटी (ईपीसीए) के चेयरमैन भूरेलाल ने फरीदाबाद पॉल्यूशन बोर्ड समेत गुड़गांव, रोहतक, पलवल डीसी, नगर निगम के रिप्रजेंटेटिव के साथ बैठक की। इसमें बढ़ते प्रदूषण को देखते हुए अगले तीन दिन तक सभी कंस्ट्रक्शन वर्क पर रोक लगाने के आदेश दिए गए। इसके अलावा पॉल्यूशन कंट्रोल करने के लिए रणनीति बनाई गई।

फिर खतरनाक हुआ मौसम

धूल भरी हवाओं के चलते शहर में प्रदूषण का स्तर अचानक बढ़ गया है। सुबह 8 बजे पीएम 2.5 की मात्रा 500 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर दर्ज की गई, जो सामान्य से 8 गुना ज्यादा है। हालांकि शाम तक इसमें कुछ कमी दर्ज की गई। पूरे दिन की औसत पीएम 2.5 मात्रा 323 रही। केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने गुरुवार को देश के 61 शहरों का एयर बुलेटिन जारी किया। इसमें फरीदाबाद 14वें स्थान पर रहा। अधिकारियों का अनुमान है कि राजस्थान से उड़कर आ रही धूल फरीदाबाद सहित पूरे एनसीआर का पॉल्यूशन लेवल बढ़ा रही है। बुधवार से ही शहर का प्रदूषण स्तर अचानक बढ़ने लगा था। गुरुवार सुबह सात बजे पीएम 2.5 की मात्रा 500 दर्ज की गई। हालांकि 8 बजे के बाद इसमें कमी तो शुरू हुई, लेकिन यह 200 से ऊपर बनी रही।

धूल भरी आंधी से दमघोंटू हुआ मौसम, पॉल्यूशन अथॉरिटी की इमरजेंसी मीटिंग, 3 दिन तक कंस्ट्रक्शन वर्क पर रोक

पॉल्यूशन को देखते हुए पॉल्यूशन बोर्ड की आपात बैठक हुई

अगले 3 दिन कंस्ट्रक्शन वर्क पर रोक

बिगड़ते मौसम को देखते हुए गुरुवार को ईपीसीए के चेयरमैन भूरेलाल ने जिमखाना क्लब में मीटिंग ली। इसमें पॉल्यूशन को कंट्रोल करने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए। इसमें गुड़गांव, पलवल, रोहतक के डीसी समेत वहां के नगर निगम व पॉल्यूशन डिपार्टमेंट की रिप्रजेंटेटिव भी मौजूद रहे। इसमें अगले तीन दिन तक सभी प्रकार के कंस्ट्रक्शन वर्क पर रोक लगाने के आदेश दिए गए हैं। इसके अलावा नगर निगम को सड़क के आसपास जो कच्चा एरिया है, वहां पानी का छिड़काव करने के आदेश दिए गए हैं।

बचें प्रदूषण से-मास्क लगा निकलें बाहर

ऐसे मौसम में डाक्टर मास्क लगाकर बाहर निकलने की सलाह दे रहे हैं। डाक्टरों के अनुसार इस समय मॉर्निंग वॉक से परहेज करना चाहिए। क्योंकि सुबह पॉल्यूशन का लेवल अधिक रहता है। जितना संभव हो सके सार्वजनिक वाहनों का उपयोग करें। सभी लोग अधिक से अधिक पौधरोपण करें। हरित पट्टी और पार्कों को विकसित करें।

इंडस्ट्री करें नियमों का पालन

मीटिंग में शहर की इंडस्ट्री से जुड़े प्रतिनिधि भी शामिल हुए। इसमें उन्हें निर्देश दिए गए कि जिन इंडस्ट्री में कोयले का काम होता है, वहां ऑनलाइन मानीटरिंग सिस्टम लगाया जाएगा। नियमों का पालन किया जाए। उन्होंने ईंट भट्‌ठा संचालकों को आदेश दिए कि 30 जून तक जिगजैग मशीन का प्रयोग करें। ऐसा न करने पर भट्‌ठे को सीज कर दिया जाएगा।

अस्थमा-हृदय रोगी की ओपीडी बढ़ी

बढ़ते पॉल्यूशन की वजह से बीके सिविल अस्पताल में अस्थमा और हृदयरोगियों की तादाद में इजाफा हुआ है। रोज 200 मरीजों की ओपीडी हो रही है। डा. अनिल गोयल के मुताबिक लोग अस्थमा, हृदयरोग, चक्कर आना, सिरदर्द, छाती में दर्द, तनाव, रक्तचाप, अपच जैसी शिकायत लेकर आ रहे हैं। ऐसे वातावरण में बजुर्ग, गर्भवती महिलाएं और बच्चों को बचाना चाहिए।

पॉल्यूशन कंट्रोल पर काम शुरू


इसलिए खराब हुई हवा

ईरान-दक्षिण अफगानिस्तान की तरफ से धूल भरी हवाएं 20 हजार फीट की ऊंचाई से राजस्थान से होते हुए दिल्ली में दस्तक दे रही हैं। इससे वातावरण में धूल छा गई है। अगले तीन दिन तक दिल्ली में ऐसे ही हालात रहेंगे।

पीएम 10 का लेवल

500 तक पहुंचा




एयर क्वालिटी इंडेक्स

पीएम 10 का लेवल

50 के नीचे हो तो अच्छा

51-100 के बीच संतोषजनक

101-200 के बीच ठीक-ठाक

कुछ दिनों का प्रदूषण स्तर

दिन पीएम लेवल

14 जून 323

13 जून 312

12 जून 158

11 जून 113

10 जून 172

9 जून 110

8 जून 188

7 जून 157

(पीएम 2.5 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर में)

201-300 के बीच खराब

301-400 के बीच बहुत खराब

401-500 के बीच काफी गंभीर

धूल से शहर बन गया था धूल का चैंबर

प्रदूषण से सांस लेना मुश्किल रोड पर पानी का छिड़काव शुरू

भास्कर न्यूज | फरीदाबाद

बुधवार को धूल का चैंबर बनने से शहरवासी दिनभर परेशान रहे। लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही थी। चंडीगढ़ से उच्चाधिकारियों का आदेश मिलने के बाद धूल के इस चैंबर को कम करने के लिए नगर निगम के अधिकारी रात को हरकत में आए और पूरे शहर की सड़कों पर पानी का छिड़काव शुरू कर दिया, जिससे धूल कम उड़े। रात नौ से 12 बजे तक नगर निगम के तीनों जोन के जेई, एसडीओ और एक्सईएन सड़कों पर नजर आए। हर एक्सईएन अपने-अपने इलाके में 12 से 15 टैंकर लगाकर पानी का छिड़काव करता रहा। इसकी बाकायदा फोटो खींचकर निगम कमिश्नर मोहम्मद शाइन को भेजी जाती रहीं। साथ ही इसकी रिपोर्ट चीफ सेक्रेटरी लेवल तक पहुंचाई गई। निगमाधिकारियों का कहना है कि जब तक शहर में बारिश नहीं हो जाती अथवा वातावरण से धूम खत्म नहीं हो जाती

चंडीगढ़ से फोन आने के बाद शुरू हुई हलचल

बुधवार देर शाम चीफ सेक्रेटरी का फाेन आने के बाद अधिकारी हरकत में आए। कमिश्नर मोहम्मद शाइन ने अधीक्षण अभियंता रमन शर्मा को फोन कर पूरे शहर में पानी का छिड़काव कराने का आदेश दिया। शर्मा ने रात में ही ओल्ड फरीदाबाद, बल्लभगढ़ और एनआईटी जोन के सभी जेई, एसडीओ और एक्सईएन को तलब कर तत्काल काम शुरू करने के लिए कहा।

फरीदाबाद. एनआईटी के रोड पर पानी के टैंकर से छिड़काव करते निगम कर्मी।