• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • आने वाले समय में वही उद्योग प्रगति कर सकेंगे जो नई तकनीक के अनुरूप कार्य करेंगे : चावला
--Advertisement--

आने वाले समय में वही उद्योग प्रगति कर सकेंगे जो नई तकनीक के अनुरूप कार्य करेंगे : चावला

आईएमएसएमई ऑफ इंडिया के चेयरमैन राजीव चावला ने कहा कि एमएसएमई सेक्टर को वर्तमान परिवेश के अनुरूप अपनी तकनीक...

Danik Bhaskar | Jun 17, 2018, 02:00 AM IST
आईएमएसएमई ऑफ इंडिया के चेयरमैन राजीव चावला ने कहा कि एमएसएमई सेक्टर को वर्तमान परिवेश के अनुरूप अपनी तकनीक संबंधी क्षमता को बढ़ाना होगा और ऐसा कर ही एमएसएमई सेक्टर भारतीय अर्थव्यवस्था में अपनी महत्ता को और बढ़ा सकता है। चावला ने कहा हमें अपनी तकनीक में निरंतर सुधार व अपग्रेडेशन पर फोकस केंद्रित करना चाहिए और उन मानकों को अपनाना चाहिए जो हमें अंतरराष्ट्रीय स्तर की स्पर्धा में आगे बढ़ने में सहायक हैं।

आईएमएसएमई ऑफ इंडिया की ओर से आयोजित आंत्रेप्यूनर्स इवनिंग में उद्योग प्रबंधकों से चावला ने कहा कि तकनीकी जानकारी के साथ-साथ एमएसएमई उद्योग प्रबंधकों को तकनीक का समावेश अपनी कार्यप्रणाली में लाना होगा। यह इसलिए भी जरूरी है क्योंकि आने वाले समय में वही उद्योग और प्रगति कर सकते हैं जो नई तकनीक के अनुरूप कार्य करेंगे। आईएमएसएमई ऑफ इंडिया द्वारा इस संबंध में जारी विभिन्न प्रोजेक्टों की जानकारी देते हुए चावला ने कहा कि मिशन फाइव एस, मिशन 100, गैप्स आदि ऐसे प्रोजेक्ट हैं जो एमएसएमई सेक्टर्स के लिए आरंभ किए गए हैं और इनके प्रति आंत्रेप्यूनर्स का रुझान स्पष्ट करता है कि तकनीकी जानकारी के लिए उद्यमी भी उत्सुक हैं। कार्यक्रम में जीएसटी पर आयोजित एक विशेष कार्यक्रम वाट्स नेक्स्ट का आयोजन भी किया गया। इसमें जीएसटी से संबंधित कई तथ्यों की जानकारी दी गई।

टेक्नोलॉजी सेशन में उद्योग प्रबंधकों को बताया गया कि किस प्रकार तकनीक व उत्पादकता में परस्पर सामंजस्य है। उत्पादकता में होने वाली क्षति को तकनीक से कैसे रोका जा सकता है इस सेशन में जानकारी दी गई। क्लोजिंग सेरेमनी में वेयरटैक्स एलाय के आशीष कालरा को सर्वाधिक सदस्यता, वमानी ओवरसीज को डीजल सर्विस द्वारा हाईएस्ट सेविंग के लिए सम्मानित किया गया। चावला ने बताया 17 जून को एस्ट्रोलॉजी पर एक विशेष कार्यक्रम का आयोजन किया जाएगा।

जबकि 18 जून को एमएसएमई मंत्रालय भारत सरकार का प्रतिनिधिमंडल आईएमएसएमई ऑफ इंडिया हैबिटेट सेंटर और उद्योगों में विजिट करेगा। आयोजन में 200 से अधिक एमएसएमई इकाइयों के प्रतिनिधियों की उपस्थिति रही।