फरीदाबाद

  • Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • प्रॉपर्टी विवाद में महिला ने अपने दो भाइयों के साथ मिल कराई थी देवर की हत्या
--Advertisement--

प्रॉपर्टी विवाद में महिला ने अपने दो भाइयों के साथ मिल कराई थी देवर की हत्या

सराय ख्वाजा थाना क्षेत्र के सूर्या विहार फेज-3 में कुछ दिन पहले हुई सेल्समैन संजय उर्फ मोनू की हत्या का डीएलएफ...

Danik Bhaskar

Jun 30, 2018, 02:00 AM IST
सराय ख्वाजा थाना क्षेत्र के सूर्या विहार फेज-3 में कुछ दिन पहले हुई सेल्समैन संजय उर्फ मोनू की हत्या का डीएलएफ क्राइम ब्रांच ने खुलासा कर दिया है। प्राॅपर्टी विवाद के चक्कर में मृतक की भाभी ने अपने दो भाइयों के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया था। ससुराल वालों ने कुछ समय पहले आरोपी भाभी और उसके पति को संपत्ति से बेदखल कर दिया था। इससे भाभी ने देवर की संपत्ति हड़पने के लिए हत्या की यह साजिश रची। पुलिस ने तीनों हत्यारोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। उनकी निशानदेही पर घटना में प्रयुक्त तमंचा भी बरामद कर लिया गया। हैरत की बात यह है कि पहले मृतक की मौत सीढ़ियों से गिरने के कारण माना जा रहा था। लेकिन जब मोनू का पोस्टमार्टम हुआ तो उसकी पीठ में गोली फंसी हुई मिली। इससे खुलासा हो गया था कि सीढ़ियों से गिरकर नहीं बल्कि मोनू की हत्या की गई। इसके बाद पुलिस ने हत्या का एंगल मानकर तफ्तीश शुरू की तो मामले का खुलासा हो गया।

भाभी ने इसलिए कराई देवर की हत्या

डीसीपी सेंट्रल लोकेंद्र सिंह ने हत्याकांड का खुलासा करते हुए बताया कि मृतक संजय उर्फ मोनू हर रोज सुबह 5 बजे मटर सप्लाई का काम करता था। घटना वाले दिन सुबह 5 बजे जैसे ही मटर सप्लाई के लिए घर से सोनू निकला उसके दरवाजे पर ही गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। इस घटना का खुलासा करने के लिए क्राइम ब्रांच डीएलएफ प्रभारी निरीक्षक नवीन कुमार को जांच सौंपी गई थी। उन्होंने बताया मृतक का भाई अजय नशा करता है। पांच साल पहले पिता ने उसे घर से बेदखल कर दिया था। उसके बाद आरोपी भाभी (राधा) को भी 2 साल बाद ससुर रामकुमार ने संपत्ति से बेदखल कर दिया था। भाभी ने इस बात को लेकर अपने मन में रंजिश पाल रखी थी। आरोपियों की पहचान मृतक की भाभी राधा प|ी अजय उर्फ सोनू निवासी सुभाष कैंप एनटीपीसी गेट नंबर एक बदरपुर दिल्ली, उसका भाई पवन उर्फ झंडू निवासी 25 फुट रोड गली नंबर 11 गगन विहार थाना साहिबाबाद जिला गाजियाबाद तथा संजीव शर्मा उर्फ सोनू निवासी गांव कनावनी नजदीक अमरपाली स्कूल इंद्रापुरम साहिबाबाद जिला गाजियाबाद के रूप में हुई है।

यह है पूरा मामला

सूर्या विहार फेस-3 निवासी मुकुल बिल्डर के पास संजय उर्फ मोनू परिवार के साथ रहते थे। उनके बड़े भाई अजय सेक्टर-37 और पिता रामकुमार बदरपुर बॉर्डर के पास रहते हैं। संजय दिल्ली मंडी से मटर (सफल) लाकर यहां दुकानदारों को बेचते थे। 11 जून की सुबह करीब 5 बजे वह अपने घर से दिल्ली मटर लेने जा रहे थे। वह सीढ़ियों से उतर रहे थे कि अचानक गिर गए। सिर और कमर में चोट लगी। चीख सुनकर उनकी प|ी निशा सीढ़ियों पर पहुंची। उन्होंने सेक्टर-37 निवासी अपने जेठ अजय को बुलाया। दोनों संजय को सफदरजंग अस्पताल ले गए। जहां डॉक्टरों ने संजय को मृत घोषित कर दिया। अस्पताल ने पल्ला पुलिस को इसकी सूचना दी। मृतक की प|ी ने पुलिस को मौत का कारण सीढ़ियों से फिसलना बताया। पुलिस ने निशा के बयान पर केस दर्ज कर लिया था।

पोस्टमार्टम के दौरान पीठ में फंसी मिली गोली

पुलिस के मुताबिक जब सफदरजंग अस्पताल में मृतक का पोस्टमार्टम हुआ तो पीठ में गोली फंसी हुई मिली। मृतक के पिता रामकुमार की शिकायत पर सराय ख्वाजा पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया था। पुलिस को शुरू से ही हत्याकांड में किसी नजदीकी व्यक्ति का हाथ हाेने का अंदेशा था। जांच के दौरान आखिर में मृतक की भाभी ही हत्याकांड में शामिल होनी पाई गई।

Click to listen..