Hindi News »Haryana »Faridabad» संजीव राजपूत का एशियन गेम्स के लिए चयन, देश के लिए पदक जीतना लक्ष्य

संजीव राजपूत का एशियन गेम्स के लिए चयन, देश के लिए पदक जीतना लक्ष्य

राष्ट्रमंडल में स्वर्ण पदक जीतने वाले संजीव राजपूत का जकार्ता में होने वाले एशियन गेम्स के लिए चयन हुआ है। मूलरूप...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 01, 2018, 02:00 AM IST

संजीव राजपूत का एशियन गेम्स के लिए चयन, देश के लिए पदक जीतना लक्ष्य
राष्ट्रमंडल में स्वर्ण पदक जीतने वाले संजीव राजपूत का जकार्ता में होने वाले एशियन गेम्स के लिए चयन हुआ है। मूलरूप से यमुना नगर के रहने वाले संजीव यहां ग्रीन फील्ड में रहते हैं। संजीव राजपूत के पिता कृष्णलाल ने बेटे के चयन पर खुशी जताते हुए कहा कि उनका लक्ष्य 2020 में टोक्यो में होने वाले ओलंपिक खेलों में देश के लिए पदक जीतना है।

अभ्यास के लिए हुए थे शिफ्ट

संजीव अभी तक 45 शूटिंग प्रतियोगिताओं में पदक जीत चुके हैं। अभ्यास के लिए संजीव चार साल से फरीदाबाद की ग्रीन फील्ड कॉलोनी में रह रहे हैं। शूटिंग में बेहतर प्रदर्शन के दम पर वह अर्जुन पुरस्कार से भी सम्मानित हो चुके हैं। उन्होंने बताया कि राष्ट्रमंडल खेलों में संजीव ने 50 मीटर राइफल थ्री पोजीशन में रिकॉर्ड बनाकर स्वर्ण पदक जीता था।

टोक्यो आेलिंपिक पर नजर

संजीव राजपूत नौसेना में अफसर हैं। उन्होंने 18 साल की उम्र में बतौर नाविक भारतीय सेना ज्वाइन की थी। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वह कई मेडल जीत चुके हैं। अब उनके हिस्से में ओलिंपिक में पदक आना बाकी है। 2020 टोक्यो ओलंपिक में उनसे पदक जीतने की उम्मीद होगी।

कई पदक जीत चुके हैं संजीव

संजीव राजपूत ने ग्लास्गो में 2014 कॉमनवेल्थ खेलों में सिल्वर मेडल जीता था। उन्होंने 2006 के मेलबोर्न कॉमनवेल्थ गेम्स में ब्रांज मेडल पर निशाना साधा था। हरियाणा निवासी संजीव कॉमनवेल्थ चैंपियनशिप में शूटिंग के अलग-अलग इवेंट्स में अभी तक 5 गोल्ड और दो सिल्वर पदक हासिल किए हैं। इसके अलावा एशियन गेम्स में उन्होंने एक सिल्वर और दो ब्रांज मेडल पर निशाना लगाया है। संजीव आईएसएसएफ वर्ल्ड कप में एक गोल्ड और दो सिल्वर मेडल जीत चुके हैं।

फरीदाबाद. शूटर संजीव राजपूत।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Faridabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×