• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • अपने ह्रदय में उस दिव्य चिंगारी, जिसे अंतरात्मा कहते हैं,
--Advertisement--

अपने ह्रदय में उस दिव्य चिंगारी, जिसे अंतरात्मा कहते हैं,

अपने ह्रदय में उस दिव्य चिंगारी, जिसे अंतरात्मा कहते हैं, को जिंदा रखने के लिए मेहनत करो। -जार्ज वाशिंगटन...

Danik Bhaskar | Jul 06, 2018, 02:00 AM IST
अपने ह्रदय में उस दिव्य चिंगारी, जिसे अंतरात्मा कहते हैं, को जिंदा रखने के लिए मेहनत करो।

-जार्ज वाशिंगटन

फरीदाबाद, शुक्रवार 06 जुलाई, 2018

आषाढ़, कृष्ण पक्ष, अष्टमी, 2075

ग्राहक- आपकी भैंस की एक आंख खराब है, फिर भी 40 हजार रुपए मांग रहे हो। मालिक- तुम्हें भैंस दूध के लिए चाहिए या नैन मटक्का करने के लिए।