• Hindi News
  • Haryana
  • Faridabad
  • छोटे उद्योगों को मिलेगी पावर कट से निजात, बिजली निगम देगा इंडिपेंडेंट फीडर, मिलेगी 24 घंटे बिजली
--Advertisement--

छोटे उद्योगों को मिलेगी पावर कट से निजात, बिजली निगम देगा इंडिपेंडेंट फीडर, मिलेगी 24 घंटे बिजली

इन दिनों बिजली कट की समस्या बहुत गंभीर है। ऐसे में सबसे अधिक समस्या छोटे उद्योगों को हो रही है। प्रोडक्शन लॉस होने...

Dainik Bhaskar

Jul 06, 2018, 02:00 AM IST
छोटे उद्योगों को मिलेगी पावर कट से निजात, बिजली निगम देगा इंडिपेंडेंट फीडर, मिलेगी 24 घंटे बिजली
इन दिनों बिजली कट की समस्या बहुत गंभीर है। ऐसे में सबसे अधिक समस्या छोटे उद्योगों को हो रही है। प्रोडक्शन लॉस होने से नुकसान हो रहा है। पेट्रोल-डीजल इतना महंगा हो गया है कि इसके भरोसे इंडस्ट्री को नहीं चलाया जा सकता है। बड़ी इंडस्ट्री तो खुद का इंडिपेंडेंट फीडर ले लेती है। इस पर कोई पावर कट नहीं लगाया जाता। इससे उन्हें कोई नुकसान नहीं होता है। लेकिन छोटे उद्यमी इंडिपेंडेंट फीडर की कास्ट अधिक होने के कारण अर्बन व डोमेस्टिक फीडरों से अटैच होकर चलते हैं। इससे उन्हें भी पावर कट का सामना करना पड़ता है। ऐसे में बिजली निगम छोटे उद्योगों के लिए राहत भरी खबर लेकर आया है। निगम की ओर से लघु उद्योगों को भी इंडिपेंडेंट फीडर से जुड़ने का मौका दिया जा रहा है। इसके तहत बिजली निगम लघु उद्योगों के ग्रुप बनाकर इंडिपेंडेंट फीडर से सप्लाई जोड़ेगा। जिससे उन्हें 24 घंटे बिजली दी जा सके। जिले में करीब 12 हजार से अधिक लघु उद्योग हैं। इस स्कीम से इन्हें फायदा होगा। बिजली निगम ने इसके लिए सकुर्लर जारी कर बिजली अधिकारियों को इस बारे में निर्देश दे दिए हैं।

मिलेगी नॉनस्टॉप बिजली सप्लाई

इंडिपेंडेंट फीडर से सप्लाई जुड़ने के बाद इंडस्ट्री को नॉनस्टॉप बिजली सप्लाई मिलेगी। इन फीडराें पर अर्बन व रूरल फीडरों की तरह कोई अनशेड्यूल पावर कट नहीं लगेगा। अभी जिन इंडस्ट्री की सप्लाई अर्बन या डोमेस्टिक फीडरों से जुड़ी हुई है, उन्हें आम कंज्यूमर की तरह बिजली कटौती की मार झेलनी पड़ती है। ओवरलोडिंग कट, शेड्यूल कट व फॉल्ट होने पर पावर कटौती की वजह से इंडस्ट्री को काफी नुकसान होता है। लेकिन इंडिपेंडेंट फीडर से सप्लाई जुड़ने के बाद यह सब समस्या नहीं रहेगी।

इंडस्ट्री संचालकों के लिए गाइडलाइंस निर्धारित की गई हैं, इसके तहत निगम का बिल बकाया नहीं होना चाहिए

फरीदाबाद. एनएच- 5 में लाइन पर काम करते बिजली कर्मचारी।

होगा 12 हजार इंडस्ट्री को फायदा

जिले में करीब 12 हजार छोटी इंडस्ट्री हैं। जिन्हें इस सुविधा का लाभ मिलेगा। निगम की ओर से पहले इस सुविधा के लिए समय सीमा निर्धारित की गई थी। लेकिन अब इसे अनिश्चित समय के लिए कर दिया गया है। ऐसे में कोई भी इंडस्ट्री संचालक इस सुविधा का लाभ उठा सकता है।

इस मौसम में लोड बढ़ते ही लगते हैं पावर कट

इस समय शहर में पावर कटौती खूब हो रही है। अर्बन हो या डोमेस्टिक कंज्यूमर सभी कटौती की मार झेल रहे हैं। इस बार गर्मी में यह परेशानी और बढ़ गई है। इस समय खूब पावर कट लग रहे हैं। इससे सबसे अधिक नुकसान छोटी इंडस्ट्री को हो रहा है। इस इंडस्ट्री की सप्लाई रूरल डोमेस्टिक फीडर और मिक्स्ड अर्बन फीडर से चल रही है। इन फीडरों से कंज्यूमर की सप्लाई जुड़ी हुई है। ऐसे में जैसे ही लोड बढ़ता है, ओवरलोडिंग के साथ पावर कट शुरू हो जाते हैं। इससे आम कंज्यूमर को तो परेशानी होती ही है साथ ही सबसे अधिक नुकसान छोटी इंडस्ट्री को होती है। क्योंकि लाइट जाते ही इनका प्रोडक्शन ठप हो जाता है। ये अगर इंडस्ट्री को जनरेटर के सहारे चलाते हैं तो इससे उत्पादन की लागत बढ़ जाती है। ऐसे में छोटी इंडस्ट्री को काफी नुकसान होता है।

छोटी इंडस्ट्री को इंडिपेंडेंट फीडर से जुड़ने का मौका

छोटी इंडस्ट्री की इस परेशानी को देखते हुए निगम की ओर से राहत दी गई है। निगम की ओर से छोटी इंडस्ट्री को भी इंडिपेंडेंट फीडर से जुड़ने का मौका दिया गया है। इससे उन्हें नॉनस्टॉप बिजली सप्लाई दी जाएगी। इंडिपेंडेंट फीडर को लगाने में काफी खर्च आता है। इससे छोटी इंडस्ट्री संचालक इसे लगवा नहीं पाते। जबकि बड़ी-बड़ी इंडस्ट्री के अपने इंडिपेंडेंट फीडर होते हैं। इससे अनशेड्यूल या ओवरलोडिंग पावर कट नहीं लगाए जाते। छोटी इंडस्ट्री की परेशानी को देखते हुए निगम की ओर से इन्हें भी इंडिपेंडेंट फीडर से जुड़ने का मौका दिया जा रहा है। इसके लिए निगम की ओर से कुछ गाइडलाइंस निर्धारित की गई है। इनकी पालना करने के बाद निगम की ओर से इन्हें इंडिपेंडेंट फीडर इश्यू कर दिया जाएगा।

सुविधा तभी मिलेगी जब नहीं होंगे डिफाल्टर्स

इस सुविधा का लाभ लेने के लिए इंडस्ट्री संचालकों के लिए कुछ गाइडलाइंस निर्धारित की गई हैं। इसके तहत जो इंडस्ट्री इस सुविधा का लाभ पाना चाहती है उस पर निगम का बिल बकाया नहीं होना चाहिए। यानि वह डिफाल्टर नहीं होना चाहिए। अगर इस सुविधा का लाभ उठाना है तो पहले इंडस्ट्री संचालक को पूरा बिल क्लियर करना होगा। इसके अलावा इन इंडस्ट्री का लोड एक एमवीए से अधिक नहीं होना चाहिए।

सेपरेट सप्लाई चाहते हैं तो ग्रुप बनाएं


छोटी इंडस्ट्री को ग्रुप क्लस्टर में जोड़ेंगे

छोटी इंडस्ट्री संचालक खुद से इंडिपेंडेंट फीडर नहीं लगवा सकता। ऐसे में निगम की ओर से इन्हें ग्रुप में डालकर एक फीडर से सप्लाई जोड़ने का मौका दिया जा रहा है। इसके तहत कम से कम छह या इससे ज्यादा इंडस्ट्री के ग्रुप का एक क्लस्टर बनाया जाएगा। इन्हें इंडिपेंडेंट फीडर इश्यू किया जाएगा। छह या इससे अधिक इंडस्ट्री के क्लस्टर होने पर वे मिलकर इसके खर्च को वहन कर सकेंगे। साथ ही उन्हें अनशेड्यूल पावर कटौती से भी राहत मिलेगी।

छोटे उद्योगों को मिलेगी पावर कट से निजात, बिजली निगम देगा इंडिपेंडेंट फीडर, मिलेगी 24 घंटे बिजली
X
छोटे उद्योगों को मिलेगी पावर कट से निजात, बिजली निगम देगा इंडिपेंडेंट फीडर, मिलेगी 24 घंटे बिजली
छोटे उद्योगों को मिलेगी पावर कट से निजात, बिजली निगम देगा इंडिपेंडेंट फीडर, मिलेगी 24 घंटे बिजली
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..