• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • 65 हजार कंज्यूमर के पास नहीं पहुंच रहे सही बिल, कर्मियों की मिलीभगत से जला रहे हैं फ्री में
--Advertisement--

65 हजार कंज्यूमर के पास नहीं पहुंच रहे सही बिल, कर्मियों की मिलीभगत से जला रहे हैं फ्री में

शहर में रीडिंग लेने का काम कर रही है बिलिंग एजेंसी की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। बिजली निगम की जांच में सामने आया है कि...

Danik Bhaskar | Jun 27, 2018, 02:00 AM IST
शहर में रीडिंग लेने का काम कर रही है बिलिंग एजेंसी की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। बिजली निगम की जांच में सामने आया है कि जिले के 13 प्रतिशत कंज्यूमर के पास सही बिल ही नहीं पहुंच रहे हैं। इन कंज्यूमर को मीटर की एक्चुअल रीडिंग के हिसाब से बिल नहीं भेजे जा रहे हैं। इससे निगम को रेवेन्यू का लॉस हो रहा है। निगम की जांच में सामने आया है कि जिन कंज्यूमर की रीडिंग 25 से 40 हजार के बीच थी। उन्हें हजार व दो हजार रीडिंग के हिसाब से बिल भेजा जा रहा। ऐसा कर कंज्यूमर को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर निगम को चपत लगाई जा रही है। यह गड़बड़ी सामने आने के बाद निगम की ओर से मामले की जांच शुरू कर दी गई है। सभी सबडिवीजन लेवल पर इस तरह के मामलों की जांच की जा रही है।

पांच लाख कंज्यूमर, 65 हजार लोगों के पास नहीं पहुंच रहे सही बिल

बिजली निगम फरीदाबाद सर्कल में करीब पांच लाख कंज्यूमर हैं। निगम के मुताबिक इनमें से करीब 13 प्रतिशत लोगों के पास गलत बिल पहुंच रहे हैं। यानि करीब 65 हजार कंज्यूमर के पास सही बिल नहीं पहुंच रहे हैं। इन्हें एवरेज रीडिंग के हिसाब से बिल भेजे जा रहे हैं। निगम अधिकारियों को ऐसा भी अंदेशा है कि हाे सकता है रीडर व कंज्यूमर की मिलीभगत से जान बूझकर इन कंज्यूमर की रीडिंग नहीं ली जा रही है। क्योंकि जब एवरेज रीडिंग की जांच की तो रीडर ने एड्रेस पर नॉट अवेलेबल शो कर दिया। जबकि महकमे का कर्मचारी इन एड्रेस पर बहुत आसानी से पहुंच गया। ऐसा मानना है कि ऐसा संभव नहीं है कि इतनी बड़ी संख्या में एड्रेस नॉट अवेलेबल शो कर दिए जाएं। ऐसे में हो सकता है कि जान बूझकर यह रीडिंग एवरेज दिखाई जा रही है। इससे कंज्यूमर को फायदा पहुंचाया जा रहा है। कई जगह जांच मीटर बर्न के केस भी सामने आए हैं।

अगर गलत व एवरेज बिलों की समस्या पर रोक नहीं लगी तो लाइसेंस कैंसिल

निगम की सर्वे रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ, एजेंसी द्वारा इन उपभोक्ताओं की कोई रीडिंग नहीं ली जा रही है, बिना रीडिंग के लोगों को बिल थमाए जा रहे हैं

करीब 5 लाख कंज्यूमर हैं, इनमें से 13% उपभोक्ताओं को बिजली निगम की ओर से गलत बिल दिए जा रहे हैं

13 फिसदी लोगों के पास पहुंचे नहीं बिल

निगम की जांच में यह सामने आया कि जितनी आपूर्ति वह कंज्यूमर को कर रहा है, उसके मुताबिक रेवेन्यू प्राप्त नहीं हाे रहा है। गड़बड़ी की आशंका पर जब जांच शुरू हुई तो पता चला कि 13 प्रतिशत कंज्यूमर के पास ही एवरेज बिल पहुंच रहे हैं। एवरेज बिल यानी ये बिल उनकी मीटर में निकल रही एक्चुअल रीडिंग के हिसाब से नहीं बनाए जा रहे। यह कंज्यूमर का पिछला रिकॉर्ड देखकर एक एवरेज रीडिंग लेकर दिए जा रहे हैं। इससे कंज्यूमर को फायदा पहुंच रहा है और निगम काे नुकसान हो रहा है। इसके बाद निगम की ओर से इस मामले की जांच शुरू की गई।


काम में लापरवाही बर्दाश्त नहीं की जाएगी

अनीता भाटी | फरीदाबाद

शहर में रीडिंग लेने का काम कर रही है बिलिंग एजेंसी की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। बिजली निगम की जांच में सामने आया है कि जिले के 13 प्रतिशत कंज्यूमर के पास सही बिल ही नहीं पहुंच रहे हैं। इन कंज्यूमर को मीटर की एक्चुअल रीडिंग के हिसाब से बिल नहीं भेजे जा रहे हैं। इससे निगम को रेवेन्यू का लॉस हो रहा है। निगम की जांच में सामने आया है कि जिन कंज्यूमर की रीडिंग 25 से 40 हजार के बीच थी। उन्हें हजार व दो हजार रीडिंग के हिसाब से बिल भेजा जा रहा। ऐसा कर कंज्यूमर को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर निगम को चपत लगाई जा रही है। यह गड़बड़ी सामने आने के बाद निगम की ओर से मामले की जांच शुरू कर दी गई है। सभी सबडिवीजन लेवल पर इस तरह के मामलों की जांच की जा रही है।

पांच लाख कंज्यूमर, 65 हजार लोगों के पास नहीं पहुंच रहे सही बिल

बिजली निगम फरीदाबाद सर्कल में करीब पांच लाख कंज्यूमर हैं। निगम के मुताबिक इनमें से करीब 13 प्रतिशत लोगों के पास गलत बिल पहुंच रहे हैं। यानि करीब 65 हजार कंज्यूमर के पास सही बिल नहीं पहुंच रहे हैं। इन्हें एवरेज रीडिंग के हिसाब से बिल भेजे जा रहे हैं। निगम अधिकारियों को ऐसा भी अंदेशा है कि हाे सकता है रीडर व कंज्यूमर की मिलीभगत से जान बूझकर इन कंज्यूमर की रीडिंग नहीं ली जा रही है। क्योंकि जब एवरेज रीडिंग की जांच की तो रीडर ने एड्रेस पर नॉट अवेलेबल शो कर दिया। जबकि महकमे का कर्मचारी इन एड्रेस पर बहुत आसानी से पहुंच गया। ऐसा मानना है कि ऐसा संभव नहीं है कि इतनी बड़ी संख्या में एड्रेस नॉट अवेलेबल शो कर दिए जाएं। ऐसे में हो सकता है कि जान बूझकर यह रीडिंग एवरेज दिखाई जा रही है। इससे कंज्यूमर को फायदा पहुंचाया जा रहा है। कई जगह जांच मीटर बर्न के केस भी सामने आए हैं।

बिजली निगम करा रहा है सभी कनेक्शनों की जांच

बिजली बिलों में लगातार गड़बड़ी और लोगों को एवरेज बिल बांटने का मामला सामने आने के बाद हाल ही में बिजली निगम के डायरेक्टर एसके बंसल ने स्पेशल मीटिंग बुलाई। इसमें एजेंसी को चेतावनी दी यदि गलत और एवरेज बिलों की समस्या पर रोक नहीं लगेगी तो लाइसेंस भी रद्द किया जा सकता है। इसके अलावा एसई की ओर से इस मामले की जांच शुरू कर दी गई। सभी एवरेज रीडिंग के मामलों की जांच की जा रही है। जो नॉट अवेलेबल शो किए गए इन एड्रेस को ट्रेस कर कंज्यूमर के मीटरों की जांच करेगी। अगर कहीं इसमें मीटर रीडर की मिलीभगत सामने अाई तो कार्रवाई की जाएगी।

जहां जा रहे थे हजार रीडिंग के बिल, जांच में निकली 25 हजार रीडिंग

निगम की ओर से इन 13 प्रतिशत लोगों की जांच शुरू की गई। इसमें जब सबडिवीजन लेवल पर एसई ने पर्टिकुलर संबंधित मीटरों की जांच कराई तो उसमें बड़ा गड़बड़झाला मिला। इसमें सामने आया कि जिन कंज्यूमर को हजार से दो हजार यूनिट के हिसाब से बिल भेजे जा रहे थे, उनके मीटर में एक्चुअल रीडिंग 25 से 40 हजार निकली। पाली सबडिवीजन में एक मीटर की जांच में 25 हजार रीडिंग और एनआईटी के सबडिवीजन में कंज्यूमर की मीटर की जांच में 40 हजार रीडिंग निकली। यह वह रीडिंग थी, जो उपभोक्ता यूज तो कर रहा था, लेकिन निगम के खाते में इसका पैसा नहीं पहुंच रहा था।

अनीता भाटी | फरीदाबाद

शहर में रीडिंग लेने का काम कर रही है बिलिंग एजेंसी की बड़ी गड़बड़ी सामने आई है। बिजली निगम की जांच में सामने आया है कि जिले के 13 प्रतिशत कंज्यूमर के पास सही बिल ही नहीं पहुंच रहे हैं। इन कंज्यूमर को मीटर की एक्चुअल रीडिंग के हिसाब से बिल नहीं भेजे जा रहे हैं। इससे निगम को रेवेन्यू का लॉस हो रहा है। निगम की जांच में सामने आया है कि जिन कंज्यूमर की रीडिंग 25 से 40 हजार के बीच थी। उन्हें हजार व दो हजार रीडिंग के हिसाब से बिल भेजा जा रहा। ऐसा कर कंज्यूमर को फायदा पहुंचाने की कोशिश कर निगम को चपत लगाई जा रही है। यह गड़बड़ी सामने आने के बाद निगम की ओर से मामले की जांच शुरू कर दी गई है। सभी सबडिवीजन लेवल पर इस तरह के मामलों की जांच की जा रही है।

पांच लाख कंज्यूमर, 65 हजार लोगों के पास नहीं पहुंच रहे सही बिल

बिजली निगम फरीदाबाद सर्कल में करीब पांच लाख कंज्यूमर हैं। निगम के मुताबिक इनमें से करीब 13 प्रतिशत लोगों के पास गलत बिल पहुंच रहे हैं। यानि करीब 65 हजार कंज्यूमर के पास सही बिल नहीं पहुंच रहे हैं। इन्हें एवरेज रीडिंग के हिसाब से बिल भेजे जा रहे हैं। निगम अधिकारियों को ऐसा भी अंदेशा है कि हाे सकता है रीडर व कंज्यूमर की मिलीभगत से जान बूझकर इन कंज्यूमर की रीडिंग नहीं ली जा रही है। क्योंकि जब एवरेज रीडिंग की जांच की तो रीडर ने एड्रेस पर नॉट अवेलेबल शो कर दिया। जबकि महकमे का कर्मचारी इन एड्रेस पर बहुत आसानी से पहुंच गया। ऐसा मानना है कि ऐसा संभव नहीं है कि इतनी बड़ी संख्या में एड्रेस नॉट अवेलेबल शो कर दिए जाएं। ऐसे में हो सकता है कि जान बूझकर यह रीडिंग एवरेज दिखाई जा रही है। इससे कंज्यूमर को फायदा पहुंचाया जा रहा है। कई जगह जांच मीटर बर्न के केस भी सामने आए हैं।