• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते क्लर्क समेत दो अरेस्ट
--Advertisement--

20 हजार रुपए की रिश्वत लेते क्लर्क समेत दो अरेस्ट

कंवेंस डीड देने की एवज में 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते विजिलेंस ने पुनर्वास विभाग के एक क्लर्क और उसके दलाल को...

Danik Bhaskar | Jul 05, 2018, 02:00 AM IST
कंवेंस डीड देने की एवज में 20 हजार रुपए की रिश्वत लेते विजिलेंस ने पुनर्वास विभाग के एक क्लर्क और उसके दलाल को गिरफ्तार कर लिया। दोनों के खिलाफ भ्रष्टाचार निरोधक कानून के तहत केस दर्ज कर लिया गया है। पकड़े गए क्लर्क की पहचान रामलखन के रूप में हुई है। विजिलेंस के मुताबिक रामलखन अपने दलाल के माध्यम से रिश्वत लेता था। विजिलेंस टीम ने दोनों आरोपियों को कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया गया।

एनआईटी की गांधी कॉलोनी निवासी राजकुमार ने सरकार की ओर से मिले मकान की कन्वेंस डीड (सरकारी जमीन पर मालिकाना हक) पुनर्वास विभाग से कराई थी, लेकिन क्लर्क बगैर रिश्वत के उसे देने को राजी नहीं था। आरोप है कि पुनर्वास विभाग का क्लर्क रामलखन कंवेंस डीड देने के बदले 20 हजार रुपए की रिश्वत मांग रहा था। इसके लिए उसने अपने एक दलाल हरेराम को राजकुमार से संपर्क में रहने को कहा। रिश्वत मांगने की शिकायत राजकुमार ने विजिलेंस विभाग से कर दी। इसके बाद उन्हें दबोचने के लिए पूरी प्लानिंग तैयार कर मंगलवार शाम करीब 7 बजे रामकुमार ने दलाल हरेराम को रिश्वत देने के लिए बुलाया। विजिलेंस ने राजकुमार को नोटों पर साइन और पाउडर लगाकर दे दिए। उन्हें लेकर वह शाम को पुनर्वास कार्यालय पहुंच गए। शाम 7 बजे आफिस बंद होने के बाद भी क्लर्क रामलखन रिश्वत लेने के लिए बैठा हुआ था। राजकुमार ने सेक्टर-12 पहुंच कर दलाल हरेराम को 20 हजार रुपए दे दिए। हरेराम पैसे लेकर क्लर्क रामलखन के पास पहुंचा और उन्हें पकड़ा दिया। इसी दौरान विजिलेंस टीम ने रामलखन और दलाल हरेराम को हिरासत में ले लिया। रामकुमार द्वारा दिए गए रुपए भी इनके पास से बरामद हो गए। दोनों के खिलाफ केस दर्ज कर बुधवार को कोर्ट में पेश किया गया। कोर्ट ने दोनों को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। इस कार्रवाई को अंजाम देने के लिए ड्यूटी मजिस्ट्रेट के रूप में नायब तहसीलदार यशवंत सिंह नियुक्त किए गए थे।