Hindi News »Haryana »Faridabad» एनजीटी की नगर निगम सीमा क्षेत्र में हरे भरे पेड़ों की कटाई पर रोक

एनजीटी की नगर निगम सीमा क्षेत्र में हरे भरे पेड़ों की कटाई पर रोक

फरीदाबाद.रेलवे स्टेशन पर पिछले महीने बिना कारण काटे गए पेड़। (फाइल फोटो) एनजीटी ने हरियाणा सरकार को पेड़ों की...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 13, 2018, 02:00 AM IST

एनजीटी की नगर निगम सीमा क्षेत्र में हरे भरे पेड़ों की कटाई पर रोक
फरीदाबाद.रेलवे स्टेशन पर पिछले महीने बिना कारण काटे गए पेड़। (फाइल फोटो)

एनजीटी ने हरियाणा सरकार को पेड़ों की कटाई की रोकथाम के लिए नीति तैयार करने के दिए आदेश

एक स्कूल में 40 साल पुराने 15 पेड़ों को बिना कारण काटा गया था

भास्कर न्यूज | फरीदाबाद

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने एक महत्वपूर्ण मामले में सुनवाई करते हुए नगर निगम सीमा क्षेत्र में खड़े हरे-भरे पेड़ों की कटाई पर रोक लगा दी है। साथ ही राज्य सरकार को आदेश दिया है कि वह पेड़ों की कटाई पर रोकथाम के लिए नीति तैयार करे। एनजीटी ने यह आदेश फरीदाबाद एक्शन ग्रुप द्वारा हुडा एवं हरियाणा सरकार के खिलाफ डाली गई उस मामले की सुनवाई करते हुए दिया जिसमें 15 सेक्टर में हुडा ने एपीजे स्कूल के साथ लगे ग्रीन बेल्ट में खड़े 30-40 साल पुराने 15 हरे-भरे पेड़ों को बिना किसी कारण के 11 फरवरी 2017 को कटवा दिए थे। यह जानकारी एक्शन ग्रुप की ओर से पेश हुए वकील डेंशन जोसफ ने दी। उन्होंने बताया पेड़ों की कटाई के दौरान संस्था ने इस मामले को एनजीटी के सामने रखा और एक्शन लेने की अपील की। तभी से यह मामला एनजीटी में विचाराधीन था। एडवोकेट डेंशन जोसफ ने बताया कि हरियाणा राज्य सरकार की तरफ से पेश हुए एडीशनल एडवोकेट जनरल की दलीलों को सुनने के बाद एनजीटी ने यह बड़ा फैसला दिया है।

जस्टिस का था सख्त लहजा

पीठ की अध्यक्षता करते हुए जस्टिस आदर्श कुमार गोयल ने सख्त लहजे में कहा कि किसी कारणवश नगर निगम सीमा क्षेत्र में खड़े पेड़ों को काटने की अनुमति किसी को भी नहीं दी जा सकती। जोसेफ ने कहा बगीचों, पार्कों एवं आबादी क्षेत्र में खड़े पेड़ आमजन के लिए प्रदूषण से लड़ने के लिए एक मात्र ढाल हैं। ऐसे में हम सभी को पेड़ों को बचाने के लिए आगे आना होगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Faridabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×