Hindi News »Haryana »Faridabad» जहां गोसेवा होती है वहीं गोकुल है : राधारानी

जहां गोसेवा होती है वहीं गोकुल है : राधारानी

एनएच-5 स्थित श्री तत्कालेश्वर शिव मंदिर में चल रही श्रीमद्भागवत कथा महोत्सव में कथा व्यास राधारानी ने गोसेवा का...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 12, 2018, 02:05 AM IST

जहां गोसेवा होती है वहीं गोकुल है : राधारानी
एनएच-5 स्थित श्री तत्कालेश्वर शिव मंदिर में चल रही श्रीमद्भागवत कथा महोत्सव में कथा व्यास राधारानी ने गोसेवा का महत्व बताया। उन्होंने कलियुग में भागवत कथा के श्रवण का महत्व बताया। उन्होंने कहा जहां गोसेवा होती है वहीं गोकुल है। जिस घर के आंगन में वृन्दा-तुलसी का पौधा है, वहीं वृन्दावन है। उन्होंने कहा जो सब चिन्ताओं को छोड़कर सदा आनंद में रहे। वही नंदबाबा है। उन्होंने बताया देवी बुद्धि देवकी कहलाती है। भागवत कथा हमें आसुरी स्वभाव को छोड़कर देवता स्वरूप बनाती है। भगवान श्रीकृष्ण ने कालिया नाग को मार कर यमुना जल को निर्मल बनाया। गिरिराज पर्वत की पूजा कराकर पर्वतों का संरक्षण किया। राधारानी ने कहा आज हमारे समाज में नदी, तालाब, जल स्त्रोतों के संरक्षण की बहुत आवश्यकता है। वन का कटान एवं पर्वतों का खनन रोकना बहुत जरूरी है। नहीं तो बहुत ही बड़ी विपदा का सामना सारे समाज को करना पड़ेगा। कथा में आचार्य रवि चैतन्य के निर्देशन में श्रीकृष्ण के माखन चोरी लीला एवं गोवर्धन की विशेष झांकी प्रस्तुत की गई। इस मौके पर हर्ष मल्होत्रा, बंसीलाल कुकरेजा, सुनील महाजन आदि मौजूद थे।

तत्कालेश्वर शिव मंदिर में चल रही श्रीमद्भागवत कथा महोत्सव में कथा व्यास राधारानी ने गोसेवा का महत्व बताया

फरीदाबाद. श्री तत्कालेश्वर शिव मंदिर मार्किट नंबर-5 मेें आयोजित श्रीमद्भागवत कथा होत्सव में श्रीकृष्ण के माखन चोरी लीला एवं गोवर्धन की विशेष झांकी प्रस्तुत करते कलाकार ।

भागवत कथा से प्रेम और भक्ति का ज्ञान प्राप्त होता है : हुड्डा

फरीदाबाद|जवाहर काॅलोनी में पूर्व मंत्री पं. शिवचरण लाल शर्मा की ओर से चल रही सात दिवसीय संगीतमय श्रीमद्भागवत कथा में रोहतक के सांसद दीपेंद्र हुड्डा भी पहुंचे। उन्होंने कथा वाचक से आशीर्वाद लिया। इसके बाद कहा कि श्रीमद्भागवत कथा सुनने वालों के सभी पाप नष्ट हो जाते हैं। जिस स्थान पर भगवान की भक्ति और लोगों का आपसी प्रेम भाईचारा रहता है, वहां का वातावरण हमेशा शुद्ध व खुशहाल रहता है। श्रीमद भागवत कथा से ही प्रेम और भक्ति का ज्ञान प्राप्त होता है। इसलिए हमें ऐसे आयोजन में भक्ति और श्रद्धापूर्वक हिस्सा लेना चाहिए। पूर्व मंत्री पं. शर्मा ने कहा कि तनाव को दूर करने के लिए श्रीमद्भागवत कथा ही उत्तम साधन है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Faridabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×