• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • ढाई साल की बच्ची दे रही माहिरों को शिकस्त, दर्ज कराया इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में अपना नाम
--Advertisement--

ढाई साल की बच्ची दे रही माहिरों को शिकस्त, दर्ज कराया इंडिया बुक ऑफ रिकॉर्ड में अपना नाम

जिस उम्र में बच्चे मां की उंगली थाम ठीक से चलना भी नहीं सीख पाते। उस उम्र में फरीदाबाद की एक नन्ही बच्ची शह और मात के...

Danik Bhaskar | Jun 18, 2018, 02:05 AM IST
जिस उम्र में बच्चे मां की उंगली थाम ठीक से चलना भी नहीं सीख पाते। उस उम्र में फरीदाबाद की एक नन्ही बच्ची शह और मात के खेल शतरंज में अच्छे-अच्छे माहिरों को शिकस्त दे रही है। मासूमियत के साथ जब यह बच्ची दिमागी खेल शतरंज में अपना दांव खेलती है तो अच्छे-अच्छे लोग हैरान रह जाते हैं। इतनी कम उम्र में ढाई साल की नव्या का नाम इंडिया बुक आॅफ रिकाॅर्ड में बतौर भारत की सबसे कम उम्र की शतरंज खिलाड़ी के लिए दर्ज हुआ है। नन्ही नव्या सूद पलक झपकते ही विरोधियों को मात देती है।

मां-बाप से सीखा हुनर, कर दिया हैरान

नव्या के पिता संजय सूद का इंफॉरमेशन टेक्नाेलॉजी का व्यवसाय है। नव्या की मां नीतू सूद ने कहा कि फुर्सत के पल में वह अक्सर घर में शतरंज खेलती हैं। इस दौरान नव्या साथ में बैठकर खेल को देखती रहती थी। इस दौरान वह कई बार हाथ मारकर बिसातों को फैला दिया करती थी, लेकिन समय बीतने के साथ वह गंभीर होने लगी। शतरंज की चालों को समझने लगी। इस दौरान उनके माता-पिता को अहसास हुआ कि नव्या का जन्म शतरंज खेलने के लिए हुआ है। परिजनों ने बताया कि बड़ी बेटी संजना 10वीं कक्षा में है और उसे गणित विषय पढ़ाने के लिए अध्यापक घर आते हैं। पढ़ाई के दौरान नव्या भी संजना के पास पहुंचकर डिस्टर्ब किया करती थी, जब उसे कमरे से बाहर लेकर आते, तो वह रोती थी। एक दिन नव्या ने बहुत ही मासूमियत से बहन की तरह घर पर

टीचर लगाने की जिद पकड़ ली। बेटी की जिद को पूरी करने के लिए संजय सूद ने शतरंज कोच डीएस सूरी के पास उसकी ट्रेनिंग शुरू करा दी।

अपने से बड़ों को कर देती है नॉकआउट

नव्या ढाई साल की है। चार माह के ट्रेनिंग में ही नव्या शतरंज की बारीकियों को समझ गई। वह अपनी चाल से सबको हैरान कर देती है। नीतू सूद ने बताया कि नव्या काफी अच्छा खेल रही थी। ऐसे में हमने सोचा कि इसे शतरंज प्रतियोगिता में भेजेंगे। जिससे नव्या का कांफिडेंस बढ़े। जब वह नव्या को लेकर गईं तो वहां पता चला कि शतरंज में इंडिया में अभी ढाई साल की आयु वर्ग का कांपिटीशन ही नहीं है। इसके बाद भी नव्या ने प्रतियोगिता में हिस्सा लिया। नव्या ने चार साल के आयुवर्ग में कांपिटीशन खेला। इसमें उसने अपने दांव-पेंच से सभी काे हैरान कर दिया। उन्होंने इस कांपिटीशन में दूसरा स्थान प्राप्त किया। नव्या बड़ा होकर इस खेल में दुनिया में भारत का नाम रोशन करना चाहती है।

फरीदाबाद. शतरंज खिलाड़ी नव्या सूद।

इंडिया बुक रिकॉर्ड में नाम दर्ज

शतरंज के खेल में अपनी प्रतिभा के बूते महज ढाई साल की ग्रीनवैली निवासी नव्या सूद ने हाल ही हुई जिलास्तरीय शतरंज प्रतियोगिता अंडर-7 आयु वर्ग में दूसरा स्थान प्राप्त किया है। उसकी इस उपलब्धि पर शतरंज एसोसिएशन भी स्तब्ध है। नव्या ने अपने से अधिक आयु वर्ग के खिलाड़ी के साथ यह गेम खेला। इसमें उन्होंने अपने दांव-पेंच से सबको हैरान कर दिया। इसी के लिए हाल ही में इतनी कम उम्र में नव्या का नाम इंडिया बुक आॅफ रिकाॅर्ड में बतौर भारत सबसे कम उम्र की शतरंज खिलाड़ी के लिए दर्ज हुआ है। यह करके नव्या ने सबको हैरान कर दिया है।