• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • सगाई में ‌1 करोड़ रुपए व जगुआर नहीं मिली तो बारात लेकर नहीं आया दूल्हा
--Advertisement--

सगाई में ‌1 करोड़ रुपए व जगुआर नहीं मिली तो बारात लेकर नहीं आया दूल्हा

दहेज लोभी दूल्हे ने एक करोड़ रुपए और जगुआर कार की मांग पूरी न होने पर शादी करने से इंकार कर दिया। लड़की के परिजनों ने...

Danik Bhaskar | Jun 23, 2018, 02:05 AM IST
दहेज लोभी दूल्हे ने एक करोड़ रुपए और जगुआर कार की मांग पूरी न होने पर शादी करने से इंकार कर दिया। लड़की के परिजनों ने लाखाें रुपए खर्च कर बेटी के हाथ पीले करने की पूरी तैयारी कर रखी थी। दूल्हा बारात लेकर ही नहीं आया। अब सराय ख्वाजा पुिलस ने लड़की के पिता की िशकायत पर दूल्हा स्वप्निल व उसके परिजन कोमल, ज्योति, श्वेता, पवन उर्फ़ लालू के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है। पुिलस मामले की जांच कर रही है। जानकारी के अनुसार सेक्टर-35 निवासी खजान सिंह ने अपनी बेटी की शादी दिल्ली के हरनाथ मार्ग गली नंबर दो कापसहेड़ा निवासी स्वप्निल के साथ तय की थी। शादी तय करने के दौरान एक करोड़ रुपए और जगुआर कार की कोई बात नहीं हुई थी। सामान्य रूप से शादी करने की बात हुई थी। 20 जून को बारात आनी थी। 16 जून को लड़की पक्ष के लोग सगाई करने पहुंचे। बताया जाता है वहां दूल्हे के परिजनों ने बारात लाने से पहले एक करोड़ रुपए और जगुआर कार देने की मांग रख दी। लड़की के परिजन उनकी बात सुनकर हैरान रह गए। फिर भी हैसियत के मुतािबक लड़की पक्ष ने करीब 51 लाख रुपए तक देने की हामी भर दी। फिर भी वह नहीं माने। लड़की वाले बार-बार इज्जत की दुहाई देते रहे। लेकिन दूल्हे के परिजन मानने को राजी नहीं हुए। इधर लड़की वालों ने बारात आने की पूरी तैयारी कर रखी थी। रिश्तेदारों व समाज में शादी के कार्ड बंट गए थे।

20 जून को होनी थी शादी,लड़की वालों ने कर रखी थी पूरी तैयारी

कार देने को तैयार थे लड़की के परिजन

लड़की के परिजन पार्षद जितेंद्र यादव के अनुसार शादी करने के लिए हरसंभव लड़की पक्ष के लोग तैयार थे। लेकिन लड़के वाले अपनी डिमांड पर अड़े रहे। लड़की के परिजन मजबूरी में शादी में जगुआर कार देने को तैयार हो गए। यादव का आरोप है कि लड़के वाले एक करोड़ रुपए पर अड़ गए। रिश्तेदारों और बिचौलिए के जरिए मान मनौव्वल चलता रहा। इस दौरान इन्हें मनाने का दौर चलता रहा। उम्मीद थी कि शायद मान जाएं। आखिर में हुआ यह कि 20 जून को बारात लेकर ही नहीं आए।