Hindi News »Haryana »Faridabad» रात में फरीदाबाद से बल्लभगढ़ के बीच हो रही है पत्थरबाजी, रेल यात्री रहें सावधान

रात में फरीदाबाद से बल्लभगढ़ के बीच हो रही है पत्थरबाजी, रेल यात्री रहें सावधान

रात में यदि आप शटल या एक्सप्रेस ट्रेन में फरीदाबाद से बल्लभगढ़ के बीच सफर कर रहे हैं तो सावधान रहे। कहीं ऐसा न हो कि...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jul 02, 2018, 02:05 AM IST

रात में फरीदाबाद से बल्लभगढ़ के बीच हो रही है पत्थरबाजी, रेल यात्री रहें सावधान
रात में यदि आप शटल या एक्सप्रेस ट्रेन में फरीदाबाद से बल्लभगढ़ के बीच सफर कर रहे हैं तो सावधान रहे। कहीं ऐसा न हो कि कोई पत्थर आपको घायल कर दे। क्योंकि कई दिन से रात में गुजरने वाली ट्रेनों में पत्थर मारने की घटनाएं सामने आ रही हैं। ऐसा ही मामला शनिवार रात को भी सामने आया। नई दिल्ली से पलवल जा रही 64064 शटल में मुजेसर फाटक और बल्लभगढ़ स्टेशन के बीच में किसी ने पत्थर मारे जिससे सफर कर रहे दो यात्री बाल-बाल बच गए। पांच दिन पहले भी पलवल जा रही शटल में पत्थर मारने की घटना हुई थी। इसमें तीन यात्री घायल बताए जा रहे हैं। इसके पहले भी कई एक्सप्रेस ट्रेनों में पत्थर मारने की घटनाएं हो चुकी हैं। लेकिन आज तक अारपीएफ और जीआरपी पत्थरबाजों को पकड़ नहीं पाई है।

शनिवार रात करीब सवा नौ बजे नई दिल्ली से पलवल जाने वाली 64064 शटल मुजेसर फाटक से बल्लभगढ़ की ओर जा रही थी। इसी बीच किसी ने दो पत्थर मारे। इससे फूटकर इसके टुकड़े कोच के अंदर आ गए। गनीमत रही कि कोई यात्री घायल नहीं हुआ। सफर कर रहे यात्री रामकुमार आैर वीरवती नामक महिला बाल-बाल बच गई। दैनिक यात्री देवदत्त शर्मा के मुताबिक 25 जून को शाम 7 बजे कोसीकलां जा रही शटल में भी बल्लभगढ़ के पास पत्थर मारे गए थे। इससे खिड़की के पास बैठे तीन यात्री घायल हो गए थे।

साढ़े आठ किलोमीटर का इलाका है खतरनाक

फरीदाबाद से बल्लभगढ़ तक करीब साढ़े आठ किलोमीटर का सफर रात को रेल यात्रियों के लिए खतरनाक है। क्योंकि रेलवे लाइन के किनारे बसी झुग्गियों के शरारती तत्व ट्रेनों में जान बूझकर रात के समय पत्थर मारते हैं। ऐसे में यात्री रात को सफर करते समय बचकर चलें। कोशिश करें कि साढ़े आठ किलोमीटर तक खिड़की का गेट बंद करके रखें। जानकारों का कहना है कि रात में रेलवे लाइन के किनारे बैठकर शराब पीने वाले शरारती तत्व ऐसी घटना को अंजाम देते हैं।

यात्रियों के लिए भास्कर का सुझाव

रात के समय बल्लभगढ़ तक सफर के दौरान खिड़की बंद रखें। गेट के पास खड़े अथवा बैठकर सफर न करें। जहां तक संभव हो गेट बंद कर सफर करें।

फरीदाबाद. ट्रेन पर पथराव करते शरारती तत्व। (फाइल फोटो)

इस तरह जानलेवा हो सकता है पत्थर मारना

ट्रेन में सफर के दौरान पत्थर लगना जानलेवा हो सकता है। क्योंकि यात्री काे इसका अाभास नहीं होता। अचानक पत्थर आना गोली की तरह लगता है। क्योंकि ट्रेन रफ्तार में होती है। कई बार पत्थर कोच में घुस जाते हैं। शटलों में भीड़ अधिक होने से कई यात्री शिकार हो सकते हैं।

पिछले दिनों तुगलकाबाद-फरीदाबाद सेक्शन में गार्डों के साथ हुई मारपीट के बाद कुछ टीमों को लगाया गया है। ट्रेनों में पत्थर मारने की घटना सामने आई है तो टीम को अलर्ट कर शरारती तत्वों की तलाश की जाएगी। साथ ही लाइन के किनारे बसे लोगों को समझाया भी जाएगा। - आरके लांबा, थाना प्रभारी आरपीएफ।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Faridabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×