• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • पानी को लेकर मेयर दफ्तर से सड़क तक महिलाओं का प्रदर्शन
--Advertisement--

पानी को लेकर मेयर दफ्तर से सड़क तक महिलाओं का प्रदर्शन

भीषण गर्मी में पानी के लिए शहर में हाहाकार मचा हुआ है। मेयर दफ्तर से लेकर सड़क तक महिलाएं विरोध प्रदर्शन करने के लिए...

Danik Bhaskar | Jul 10, 2018, 02:05 AM IST
भीषण गर्मी में पानी के लिए शहर में हाहाकार मचा हुआ है। मेयर दफ्तर से लेकर सड़क तक महिलाएं विरोध प्रदर्शन करने के लिए मजबूर हैं। नगर निगम द्वारा पूरे शहर में पानी सप्लाई देने का दावा हवा हवाई साबित हो रहा है। ददसिया रैनीवेल की भी छह लाइनें शुरू होने के बाद भी शहर से पानी का संकट कम नहीं हुआ। आठ महीने पहले जवाहर कॉलोनी में लगा ट्यूबवेल निगम अधिकारियों की लापरवाही से आज तक चालू नहीं हो पाया। वहीं दूसरी ओर पानी की समस्या से परेशान होकर महिलाओं को जाम लगाने के लिए मजबूर होना पड़ रहा है।

सोमवार को एनएच-5 बी ब्लॉक की महिलाअों ने पानी समस्या काे लेकर बाल्टी के साथ बीके चौक पर जाम लगा दिया। इससे वाहन चालकों को परेशानी का सामना करना पड़ा। सूचना मिलने पर पहुंची एनआईटी पुिलस ने उन्हें समझा बुझाकर जाम खुलवाया। जाम लगाने वाली कोिकला, सुदेश, िबंदू, रजनी, रमा भारत भूषण आदि का कहना है कि एक सप्ताह से कॉलोनी में पानी का संकट है। नगर निगम अधिकारियों को सूचना दी जाती है तो कोई रिस्पांस नहीं मिलता। आखिर पानी के लिए कहां जाएं। मौके पर पहुंचे अधिकारियों ने समस्या का जल्द समाधान कराने का भरोसा दिया।

ददसिया रैनीवेल की भी छह लाइनें शुरू होने के बाद भी शहर में पानी का संकट, जवाहर कॉलोनी में आठ महीने पहले लगा टयूबवेल आज तक नहीं हो पाया चालू

फरीदाबाद. पानी को लेकर बीके चौक पर जाम लगा रही महिलाओं को समझाते पुलिसकर्मी।

आठ महीने पहले लगा ट्यूबवेल आज तक नहीं चालू

जवाहर कॉलोनी के बी खंड में आठ महीने पहले नगर निगम ने एक ट्यूबवेल लगवाया था। लेकिन अधिकारियों की लापरवाही से वह आज तक चालू नहीं हाे पाया। आठ महीने से पानी संकट से जूझ रही महिलाओं ने मेयर सुमन बाला से मुलाकात कर उनसे ट्यूबवेल चलवाने की मांग की। कॉलोनी की महिलाएं कुसुम, गीता तिवारी, शशि देवी आदि का कहना है कि आठ महीने से पानी की समस्या से 200 परिवार परेशान हैं। ट्यूबवेल लगने के साथ साथ मीटर और स्टार्टर भी लगा दिया गया लेकिन कनेक्शन देकर शुरूआत अभी तक नहीं हो पाई। मजबूरी में लोग प्रतिदिन 100-100 रुपए खर्च कर पानी खरीदने को विवश हैं। इस पर मेयर सुमन बाला ने संबंधित एसडीओ को फोन कर जल्द से जल्द ट्यूबवेल चलाने का निर्देश दिया।