• Hindi News
  • Haryana
  • Faridabad
  • औद्योगिक संस्थानों में कर्मियों के लिए फर्स्ट एड की ट्रेनिंग अनिवार्य
--Advertisement--

औद्योगिक संस्थानों में कर्मियों के लिए फर्स्ट एड की ट्रेनिंग अनिवार्य

Faridabad News - भोला पांडेय|फरीदाबाद/पलवल फरीदाबाद व गुड़गांव समेत प्रदेशभर के सभी औद्योगिक संस्थानों में काम करने वाले...

Dainik Bhaskar

Jul 10, 2018, 02:05 AM IST
औद्योगिक संस्थानों में कर्मियों के लिए फर्स्ट एड की ट्रेनिंग अनिवार्य

भोला पांडेय|फरीदाबाद/पलवल

फरीदाबाद व गुड़गांव समेत प्रदेशभर के सभी औद्योगिक संस्थानों में काम करने वाले कर्मचारियों और सुरक्षा गार्डों को अब फर्स्ट एड की ट्रेनिंग दी जाएगी। साथ ही औद्योगिक इकाइयों के गेट पर फर्स्ट एड बॉक्स (मेडिकल बाक्स) भी लगाए जाएंगे। सेंट जॉन एंबुलेंस बिग्रेड इंडियन रेडक्रॉस सोसायटी के बैनरतले यह ट्रेनिंग कराई जाएगी। एक प्रकार से इस योजना को औद्योिगक संस्थानों में अनिवार्य कर दिया गया है। इसका मकसद आपात स्थििति में व्यक्ति को प्राथमिक उपचार देकर उसके जीवन को बचाना है। खासकर नेशनल अथवा स्टेट हाईवे पर स्थिति औद्योिगक संस्थानों में इसे प्रमुखता से लागू किया जाएगा। डायरेक्टर ऑफ इंडस्ट्री एवं कामर्स विभाग हरियाणा द्वारा जारी निर्देश के अनुसार तो सुरक्षा गार्डों और अन्य कर्मचािरयांे को नौकरी ज्वाइन करने से पहले फर्स्ट एड की ट्रेनिंग अनिवार्य होगी।

विभागीय सूत्रों के अनुसार 20 जनवरी को सेंट जाॅन एंबुलेंस हरियाणा के चेयरमैन एवं राज्यपाल प्रो. कप्तान सिंह सोलंकी की अध्यक्षता में एक मीटिंग हुई थी। इसमें इस योजना को मंजूरी दी गई थी। अब सेंट जाॅन एंबुलेंस हरियाणा ने प्रदेशभर की रेडक्रास सोसायटी को पत्र भेज इस योजना को लागू करने के लिए कहा है। इस बात की पुष्टि रेडक्रॉस सोसायटी के डिस्ट्रिक्ट ट्रेनिंग आफिसर इशांक कौशिक ने की।

फरीदाबाद, गुड़गांव व पलवल आदि जिलों में छोटी बड़ी 29 हजार हैं औद्योगिक इकाइयां


दुर्घटना के दौरान लोगों की जान बचाने को तैयार की योजना

फरीदाबाद. सेक्टर 24 इंड्रस्टी एरिया। (फाइल फोटो)

प्राथमिक उपचार कर जान बचाना मकसद

डिस्ट्रिक्ट ट्रेनिंग आफिसर इशांक कौशिक ने दैनिक भास्कर को बताया कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य औद्योिगक संस्थानों और नेशनल हाईवे पर होनी वाली घटनाओं में प्रभावित व्यक्ति को प्राथमिक उपचार उपलब्ध करा उसकी जान बचाना है। उन्होंने कहा रेडक्रॉस सोसायटी के पास 25 मास्टर ट्रेनर हैं। जो पूरे जिले की औद्योिगक इकाइयों को कवर करेंगे। डीसी के माध्यम से योजना लागू होगी।

कंपनी के गेट पर होंगे फर्स्ट एड बॉक्स

इस योजना के तहत दिल्ली मथुरा रोड स्थित कंपनियों के गेट पर भी फर्स्ट एड बॉक्स रखने की याेजना है। जिससे सड़क हादसों के दौरान घायल व्यक्ति को तत्काल प्राथमिक उपचार मिल सके। क्योंकि कंपनी में तैनात सुरक्षा गार्ड भी फर्स्ट एड की ट्रेिनंग से ट्रेंड होंगे। उन्होंने कहा अब जितने भी सुरक्षा गार्ड कंपनियों में रखे जाएंगे उनकी ज्वाइनिंग होने से पहले उन्हें फर्स्ट एड की ट्रेनिंग लेनी होगी। लघु उद्योग भारती के अध्यक्ष रविभूषण खत्री के अनुसार रेडक्रॉस सोसायटी का यह प्रयास सराहनीय है। वैसे भी फर्स्ट एड औद्योगिक सेफ्टी का एक हिस्सा है। इस ट्रेनिंग का लाभ खासकर अग्निकांड के दौरान, सड़क हादसे में घायल और भूकंप में घायल व्यक्ति का जीवन बचाने में उपयोगी होगा।

दो दिन की होगी फर्स्ट एड की ट्रेनिंग

कौशिक के अनुसार औद्योिगक कर्मचारियों और सुरक्षा गार्डों को फर्स्ट एड की ट्रेनिंग दो दिन की दी जाएगी। एक-एक संस्थान में 30-30 लोगों का बैच होगा। इसमें कम से कम दो घंटे की ट्रेनिंग होगी। जिससे संस्थान का काम भी प्रभावित न हो। उन्होंने कहा सड़क हादसे, आग लगने और भूकंप जैसी प्राकृितक आपदा के दौरान किए जाने वाले उपायों और घायलों को दिए जाने वाले प्राथमिक उपचार के बारे में ट्रेिनंग दी जाएगी। डीसी के माध्यम से सभी संस्थानों को ट्रेिनंग के लिए पत्र लिखा जा रहा है।


कितनी इंडस्ट्री और उसमें काम करने वाले







सेंट जाॅन एंबुलेंस द्वारा फर्स्ट एड ट्रेनिंग को शत प्रतिशत लागू करने का पत्र मिल चुका है। जल्द ही कार्ययोजना बनाकर ट्रेनिंग शुरू कराई जाएगी। -इशांक कौशिक, डिस्ट्रिक्ट ट्रेनिंग आॅफिसर, रेडक्रॉस सोसायटी

X
औद्योगिक संस्थानों में कर्मियों के लिए फर्स्ट एड की ट्रेनिंग अनिवार्य
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..