• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • तीन महीने पहले तक दुनिया के दो सबसे बड़े दुश्मन रहे देश 70 साल बाद आज मिलाएंगे हाथ
--Advertisement--

तीन महीने पहले तक दुनिया के दो सबसे बड़े दुश्मन रहे देश 70 साल बाद आज मिलाएंगे हाथ

Danik Bhaskar | Jun 12, 2018, 02:10 AM IST

एजेंसी | सिंगापुर

दुनिया के दो सबसे बड़े दुश्मन देश आज पहली बार दोस्ती का हाथ मिलाएंगे। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प और उत्तर कोरिया के राष्ट्रपति किम जोंग मंगलवार सुबह सिंगापुर के सैंटाेसा द्वीप पर कपैला होटल में शिखर वार्ता करेंगे। इस दौरान उनके साथ सिर्फ एक-एक ट्रांसलेटर रहेंगे। इसके बाद दोनों अपने प्रतिनिधियों के साथ भी बातचीत कर सकते हैं। इस मुलाकात को दुनिया की अब तक की सबसे बड़ी शांति पहल कहा जा रहा है। दोनों देशों में 70 साल से कोई संबंध नहीं हैं। पहली बार दोनों के देशों के सर्वोच्च नेता मिलेंगे। ट्रम्प अपने 72वें जन्मदिन से दो दिन पहले दुनिया को शांति का सबसे बड़ा पैगाम देंगे। वह 14 जून को 72 साल के हो जाएंगे। सोमवार को सिंगापुर के पीएम ली सीन लुंग ने ट्रम्प से बर्थ-डे केक भी कटवाया। वहीं, किम मुलाकात से 12 घंटे पहले सिंगापुर में टहलते नजर आए।

अमेरिका ने 46 साल में 5वीं बार अपने सबसे बड़े विरोधी देश के साथ बातचीत शुरू की

अमेरिका-क्यूबा|जब 60 साल बाद दोनों देशों के नेता मिले

अमेरिका-क्यूबा के बीच दुश्मनी 1953 में शुरू हुई थी। पहली बार 2013 में नेल्सन मंडेला के अंतिम संस्कार में क्यूबा के नेता राउल कास्त्रो और अमेरिकी राष्ट्रपति ओबामा ने हाथ मिलाया था। 2016 में ओबामा ने क्यूबा जाकर इतिहास रचा।

ट्रम्प ने अपने 72वें जन्मदिन से दो दिन पहले ही सिंगापुर के पीएम के साथ केक काटा

सोमवार को ट्रम्प ने सिंगापुर के प्रधानमंत्री ली सीन के साथ अपने 72वें जन्मदिन से दो दिन पहले केक काटा।

अमेरिका-वियतनाम | 25 साल बाद क्लिंटन वियतनाम गए

अमेरिका और वियतनाम में 1964 में युद्ध शुरू हुआ था। 10 साल तक चले युद्ध में 58,000 अमेरिकी और 15 लाख वियतनामी सैनिक मारे गए थे। 2000 में पहली बार अमेरिकी राष्ट्रपति क्लिंटन 4 दिन के लिए वियतनाम पहुंचे थे।

फरीदाबाद, मंगलवार, 12 जून, 2018

रिचर्ड निक्सन के साथ माओत्से तुंग

ट्रम्प-किम मुलाकात की 3 बड़ी बातें

ट्रम्प को मिल सकता है शांति का नोबेल प्राइज

इसी साल मार्च में ट्रम्प ने पहली बार किम के साथ वार्ता की पहल की थी। तब से उनके समर्थक यह भी कह रहे हैं कि उन्हें नोबेल पुरस्कार दिया जाना चाहिए। यदि किम जोंग और ट्रम्प की मुलाकात सफल रहती है, तो ट्रम्प नोबेल पुरस्कार हासिल भी कर सकते हैं।

सबसे शक्तिशाली देश, बेहद कमजोर देश से मिलेगा

अमेरिका दुनिया की सबसे बड़ी इकोनॉमी है। उसकी कुल जीडीपी 12052 लाख करोड़ रुपए है। फिलहाल अमेरिका का दुनिया की जीडीपी में 17% हिस्सा है। वहीं, उत्तर कोरिया की कुल जीडीपी 1.92 लाख करोड़ रुपए है। जीडीपी के लिहाज से दुनिया के टॉप 125 देशों में उसकी 96वीं रैंक है। उत्तर कोरिया का दुनिया की जीडीपी में करीब 2.1% का हिस्सा है।

अमेरिका-चीन | 25 साल बाद निक्सन, माओ से मिलने चीन गए

अमेरिकी राष्ट्रपति रिचर्ड निक्सन 1972 में चीन पहुंचे थे। 1948 के बाद पहली बार कोई अमेरिकी राष्ट्रपति चीन पहुंचा था। उन्होंने चीनी राष्ट्रपति माओत्से तुंग से मुलाकात की थी। इससे पहले चीन-अमेरिका में कोई कूटनीतिक संबंध नहीं थे।

अमेरिका, उ. कोरिया से प्रतिबंध हटा सकता है

यदि किम परमाणु निरस्त्रीकरण की तरफ बढ़े तो यह ट्रम्प की जीत होगी। इसके बाद अमेरिका, उ. कोरिया के सामने निरस्त्रीकरण की शर्त रख कर उससे आर्थिक प्रतिबंध हटा सकता है। द. कोरिया में मौजूद अपने 23 हजार सैनिकों को भी वापस बुला सकता है।

किम-ट्रम्प की जुबानी जंग...

तीन महीने पहले पहले तक अमेरिका और उत्तर कोरिया के बीच कूटनीतिक, राजनीतिक, सामरिक, आर्थिक और जुबानी तरीके से मोर्चे बंदी देखने को मिलती थी। यहां तक ट्रम्प अौर किम जोंग एक-दूसरे से कट्‌टर दुश्मन की तरह पेश आते थे। इसी साल एक बार जब किम जोंग ने कहा कि उत्तर कोरिया के परमाणु हथियारों की जद में पूरा अमेरिका है, न्यूक्लियर बटन मेरे डेस्क पर होता है। इस पर ट्रम्प ने ट्वीट किया कि कोई किम को बताए कि मेरे पास भी न्यूक्लियर बटन है, जो उसके बटन से बहुत बड़ा और ताकतवर है। मेरा बटन काम भी करता है।

किम जोंग सिंगापुर अपना टॉयलेट लेकर भी गए हैं



अमेरिका-रूस | रीगन और गोर्बाचेव आइसलैंड में मिले थे

अमेरिका-रूस में 25 साल तक चले शीत युद्ध के बाद 1986 में आइसलैंड में अमेरिकी राष्ट्रपति रोनाल्ड रीगन और रूसी राष्ट्रपति मिखाइल गोर्बाचेव की मुलाकात हुई थी। ये भी कुछ किम और ट्रम्प की मुलाकात जैसी ही थी।


जब किम से ट्रम्प ने कहा था कि मेरा परमाणु बटन ज्यादा बड़ा है

7 साल में 89 मिसाइल टेस्ट के बाद किम शांति पथ पर



11