• Home
  • Haryana News
  • Faridabad
  • घरों में नहीं पहुंच रहा पानी, जनता सड़कों पर कर रही प्रदर्शन, नगर निगम पानी बेचने की तैयारी में
--Advertisement--

घरों में नहीं पहुंच रहा पानी, जनता सड़कों पर कर रही प्रदर्शन, नगर निगम पानी बेचने की तैयारी में

नगर निगम की नाइंसाफी तो देखिए। इस भीषण गर्मी में लोगों के घरों तक पानी नहीं पहुंच रहा है। इससे हर दिन कहीं न कहीं...

Danik Bhaskar | Jul 11, 2018, 03:05 AM IST
नगर निगम की नाइंसाफी तो देखिए। इस भीषण गर्मी में लोगों के घरों तक पानी नहीं पहुंच रहा है। इससे हर दिन कहीं न कहीं जनता सड़कों पर उतर कर धरने-प्रदर्शन कर जाम लगा रही है। इसके बावजूद नगर निगम इन्हें पानी उपलब्ध कराने के बजाय पानी बेचकर अपनी जेब भरने की तैयारी में है। जबकि ये लोग पानी का बिल देते हैं, लेिकन इन्हें पर्याप्त पानी नहीं मिल रहा। आलम यह है कि कभी पानी आता तो कभी नहीं। कभी गंदा पानी आता है। नगर निगम ने अपने 1411 ट्यूबवेलों से पानी बेचने का फरमान संबंधित क्षेत्र के एक्सईएन को दे दिया गया है। निगम के अफसरों का दावा है कि इससे पानी मािफयाओं पर रोक लगेगी और निगम की आय बढ़ेगी।

सरकार ने ये रेट किए हैं निर्धारित : नगर निगम के 3 हजार लीटर की क्षमता वाले टैंकर से पानी लेने पर आधे दिन के लिए 500 रुपए देना होगा। यदि टैंकर पूरे दिन के लिए लेता है तो उसे 750 रुपए देने होंगे। यदि 5 हजार लीटर क्षमता वाले टैंकर से पानी लेगा तो 835 रुपए लगेंगे। इसमें भी शर्त यह है कि यदि नगर निगम का टैंकर अगर 5 किमी के अंदर जाता है तो कोई शुल्क नहीं लगेगा। 5 किमी से बाहर जाने पर 5 रुपए प्रति किमी की दर से अतिरिक्त चार्ज देना होगा।



1411 ट्यूबवेलों से पानी बेचने का फरमान संबंधित क्षेत्र के एक्सईएन को दे दिया गया है, इससे पानी मािफयाओं पर रोक लगेगी

फरीदाबाद. शहर के लोग पानी की समस्या से जूझ रहे हैं लोगों को प्राइवेट टैंकरों से पानी भरना पड़ रहा है। टैंकरों से पानी भरते लोग। (इनसेट में)

भास्कर ने कालाबाजारी का किया था खुलासा

दैनिक भास्कर ने 20 जून के अंक में खुलासा किया था कि पानी मािफया नगर निगम के ट्यूबवेलों और बूस्टरों से फ्री में पानी का व्यापार कर रहे हैं। खुद वार्ड नंबर 14 के पार्षद जसवंत िसंह ने मेयर से मिलकर इस समस्या को उजागर किया था। पानी मािफया नगर निगम के ट्यूबवेलों से फ्री में पानी भरकर कॉलोिनयों और सेक्टरों में 900 से 1000 रुपए प्रति टैंकर की दर से बेच रहे थे। खुलासा होने के बाद नगर िनगम के अधिकारी हरकत में आए और ट्यूबवेलों की निगरानी शुरू की।

निगम के लिए पानी चोरी रोकना आसान नहीं

नगर निगम के अधिकारी खुद इस बात को स्वीकार करते हैं कि पानी मािफयाओं की चाेरी रोकना आसान नहीं है। अभी तक वह फ्री में पानी भरकर व्यापार करते थे। सरकार के निर्देशानुसार अब उन्हें नगर निगम के ट्यूबवेलों व बूस्टरों से पानी भरने के लिए पैसे देने होंगे। सीसीटीवी कैमरे से इसकी निगरानी की जाएगी। अधिकारियों का कहना है कि पानी का शुल्क निर्धारित करने पर कम से कम नगर निगम के खाते में पैसे तो आएंगे।

नगर निगम सीमाक्षेत्र 207.8 वर्ग किलोमीटर

नगर निगम सीमाक्षेत्र की जनसंख्या 17.25 लाख

एनआईटी जोन में पानी की मांग 116 एमएलडी

ओल्ड फरीदाबाद में 69 एमएलडी

बल्ल्भगढ़ जोन में 47 एमएलडी


फाइल फैक्ट


शहर के इन क्षेत्रों में है पानी का गंभीर संकट

जवाहर कॉलोनी, पर्वतीय कॉलोनी, जवाहर कॉलोनी खंड बी, संजय कॉलोनी सेक्टर-23 प्रेस कॉलोनी, जनता कॉलोनी, ग्रीन फील्ड कॉलोनी, दयालबाग, शिवदुर्गा विहार, सैनिक कॉलोनी, संत नगर, एसजीएम नगर, हाउसिंग बोर्ड सेक्टर-21 डी, सुभाष कॉलोनी, ित्रखा कॉलोनी, सराय ख्वाजा आदि।

नगर निगम के ट्यूबवेलों की संख्या 1411, क्षमता 80 एमएलडी

रैनीवेल की संख्या 10,क्षमता 100 एमएलडी

हुडा के ट्यूबवेलों की संख्या 38, क्षमता 40 एमएलडी

निगम सीमाक्षेत्र में पानी की मांग 232 एमएलडी

हर दिन पानी की उपलब्धता 220 एमएलडी


शहर में 12 लाख लीटर पानी की है समस्या

नगर निगम सीमा क्षेत्र के विभिन्न हिस्सों में प्रतिदिन करीब 12 एमएलडी (मिलियन लीटर पर-डे) पानी की समस्या है। एक एमएलडी अर्थात 10 लाख लीटर होता है। ऐसे में 12 एमएलडी की कमी पर 12 लाख लीटर पानी की समस्या है। हर दिन शहर के अलग अलग हिस्सों में पानी समस्या काे लेकर विरोध प्रदर्शन हो रहे हैं।