--Advertisement--

अणुव्रत दिवस के रूप में मनाया आचार्य तुलसी का 105वां जन्मोत्सव

तेरापंथ के नौंवें अनुशास्ता आचार्य श्री तुलसी का 105 वां जन्म दिवस अणुव्रत दिवस के रूप में आयोजित किया गया। वर्तमान...

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2018, 02:45 AM IST
Tohana - 105th birth anniversary of acharya tulsi celebrated as nirvrat diwas
तेरापंथ के नौंवें अनुशास्ता आचार्य श्री तुलसी का 105 वां जन्म दिवस अणुव्रत दिवस के रूप में आयोजित किया गया। वर्तमान आचार्य महाश्रमण की सुशिष्या शासन साध्वी मान कुमारी के सान्निध्य में आयोजित कार्यक्रम में श्रद्धालुओं ने अपने गुरुदेव के नाम का गुणगान किया तथा उनके द्वारा समाज उत्थान में दिए गए अवदानों की अनुशंसा की।

बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे आचार्य तुलसी ः मान

शासन साध्वी मान कुमारी ने अपने उद्गार व्यक्त करते हुए कहा कि आचार्य तुलसी बहुमुखी प्रतिभा के धनी थे। वे महान लेखक, संगीतकार, राष्ट्रीय संत व विकास पुरुष थे तथा उन्होंने अणुव्रत आंदोलन के माध्यम से मानवता की सेवा की। उनके अणुव्रत आंदोलन की गूंज एक गरीब की झोंपड़ी से लेकर राष्ट्रपति भवन तक गूंजी और अणुव्रत के छोटे छोटे नियम अपनाकर करोड़ों लोगों ने अपने जीवन की दिशा को परिवर्तित किया है।

साध्वी कीर्ति रेखा ने आचार्य तुलसी के जीवन से संबंधित कई महत्वपूर्ण दृष्टांत सुनाए। साध्वी कमलयशा ने सुमधुर गीतिका से अपने आराध्य की स्तवना की। साध्वी इंदु यशा ने आचार्य तुलसी के जीवन पर विस्तारपूर्वक प्रकाश डालते हुए उनका गुणगान किया। तेरापंथ महिला मंडल की अंजू जैन, एकता जैन व सुधा जैन ने मधुर गीतिका के द्वारा गुरुदेव तुलसी को शुभकामनाएं प्रेषित की। तेरापंथ सभा मंत्री सुभाष जैन ने कहा कि तुलसी नाम बहुत ही पवित्र है। उनका अनुशासन बहुत ही अनुकरणीय व सराहनीय था। अनुशासन की अवहेलना करना उन्हें कतई बर्दाश्त नहीं था। उनका उदघोष था निज पर शासन फिर अनुशासन, अर्थात दूसरों पर अनुशासन के लिए स्वयं पर अनुशासन अनिवार्य है।

X
Tohana - 105th birth anniversary of acharya tulsi celebrated as nirvrat diwas
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..