• Hindi News
  • Haryana
  • Fatehabad
  • Ratia News haryana news farmers of three states will protest against the uprooting of bt brinjal in ratiya on 10th june

रतिया में बीटी बैंगन उखाड़ने के विरोध में तीन राज्यों के किसान 10 जून को करेंगे प्रतिबंधित फसलों की बिजाई

Fatehabad News - गांव नथवान में किसान जीवन सैनी की चार कनाल बैंगन की फैसल को बीटी बैंगन बताकर उखाड़ने के विरोध में सोमवार को...

May 21, 2019, 08:30 AM IST
गांव नथवान में किसान जीवन सैनी की चार कनाल बैंगन की फैसल को बीटी बैंगन बताकर उखाड़ने के विरोध में सोमवार को महाराष्ट्र, पंजाब व हरियाणा के किसान संगठनों के प्रतिनिधियों ने नथवान में बैठक की। बैठक में तीनों राज्यों में केंद्र व राज्य सरकारों द्वारा प्रतिबंधित बीटी बैंगन व बीटी नरमा की फैसले लगाने का निर्णय लिया। बैठक में सेहत हितकारी संगठन महाराष्ट्र के प्रदेशाध्यक्ष अनिल घनवट, स्वतंत्र भारत पक्ष के प्रदेशाध्यक्ष ललित पटेल, भारतीय किसान यूनियन महाराष्ट्र के प्रदेशाध्यक्ष गुणी प्रकाश, महिला अंगाड़ी संगठन की अध्यक्ष सीमा नरोड़े, भारतीय किसान यूनियन पंजाब के राज्य उपाध्यक्ष बलविंद्र बाजवा, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय महासचिव स्वामी इंद्र, वरुण मिश्रा, अजीत नरदेव, फतेहाबाद जिला प्रधान चिंरजी लाल, अमर नैन शामिल थे।

प्रदेशाध्यक्ष अनिल घनवट ने कहा कि केंद्र व राज्य सरकारे प्रतिबंधित फसलों के नाम पर किसानों का परेशान कर रही है। बीटी बैंगन के नाम पर रतिया के किसान की फसल उखाड़ दी। किसान को कोई नोटिस नही दिया गया। कहा कि बीटी बैंगन से कोई नुकसान नही बल्कि किसान को खर्चा कम होता है। आम फसल पर 45 बार कीट नाशक का छिड़काव करना पड़ता है जबकि बीटी पर मात्र चार बार कीटनाश का छिड़काव कर अच्छी फसल ली जा सकती है। सरकार कीटनाशन कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए उनके इशारे पर फसलों पर प्रतिबंध लगा रही है। बीटी बैंगन भारत का है लेकिन पिछले 10 साल से बाग्लां देश में खूब बोया जा रहा है। जयराम रमेश की रिपोर्ट में भी 10 साल पहले इससे कोई नुकसान न होने की बता कही जा चुकी है। कहा कि ऐसे तो मोबाईल, हवाई जहाज व अन्य तकनीकी वस्तुओं से भी तो नुकसान होता है लेकिन सरकार उन पर रोक नहीं लगा रही। कहा कि विरोध स्वरुप महाराष्ट्र के किसान 10 जून को पूरे महाराष्ट्र में प्रतिबंधित बीटी बैंगन व अन्य फसलों की बिजाई करेंगे। हरियाणा में भी बीटी बैंगन बड़ी मात्रा में लगाया जाएगा। किसान जीवन के नुकसान की भरपाई को लेकर डीसी व एसडीएम कार्यालय पर महाराष्ट्र के किसान धरना देंगे। भारतीय किसान यूनियन पंजाब के राज्य उपाध्यक्ष बलविंद्र बाजवा ने कहा कि विरोध स्वरुप पंजाब व उतराखंड के किसानों की 10 से 12 जून तक हरिद्वार में अलखनंदा होटल के पास बैठक बुलाई गई है।

रतिया। गांव नथवान में बैंगन की फसल उखाडऩे के विरोध में नारेबाजीर कर रोष जताते किसान।

नथवान में तीन राज्यों के किसान संगठनों ने लिया निर्णय, नारेबाजी कर जताया रोष

2009 से ही बीटी बैंगन लगाना है पूरे देश में बैन ः डीएचओ

डीएचओ कुलदीप सिंह ने बताया कि वर्ष 2009 से बीटी बैंगन पर पूरे देश में बैन लगाया गया है। एचएयू इस पर रिसर्च कर रहे हैं। बिना अनुमति के इसकी बिजाई नहीं की जा सकती है। इससे अनुवांशिक रोगों का बढ़ावा होता है। एचएयू की रिसर्च पूरी होने के बाद इस फसल को लेकर जो आदेश आएंगे, उसके हिसाब से कार्रवाई करंेंगे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना