पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • National
  • Tohana News Haryana News Three Including Sales Manager Accused Of Rigging Millions

सेल्स मैनेजर सहित तीन पर लगाया लाखों की हेराफेरी करने का आरोप

2 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
श्रीराम आटोमोबाइल के कार्यकारी प्रोपराइटर दरवेश सिंह ने कंपनी के सेल्ज मैनेजर सहित तीन पर लाखों रुपये की हेराफेरी करने का आरोप लगाया है।

शहर पुलिस ने दरवेश सिंह की शिकायत पर संगरूर जिला के मूनक निवासी सुरेंद्र कुमार, उसके भाई सोनू व पिता रामकला के खिलाफ धोखाधड़ी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच शुरू की है। पुलिस को दी शिकायत में दरवेश सिंह ने बताया कि वह उक्त फर्म में गांव डांगरा निवासी वीरेंद्र सिंह की ओर से प्रोपराइटर है तथा वर्ष 2013 से फर्म का बतौर

मुख्तयारआम देखभाल कर रहा है। उसने बताया कि सुरेंद्र कुमार शुरू से ही उपरोक्त फर्म में सेल्स मैनेजर के तौर पर कार्य कर रहा है तथा सेल से संबंधित नये व पुराने वाहन खरीदने व बेचने की जिम्मेवारी उसी की थी। उसने बताया कि काम अधिक होने के कारण सभी काम जिसमें सेल व परचेज तथा पैसे का लेन देन सुरेंद्र करता था।

वर्ष 2014 के विधानसभा चुनाव तथा उसके बाद दिवाली पर अस्वस्थ होने कारण वह काफी समय बाद जब शोरूम पर आया तो पता चला कि दिवाली सीजन के लिए जो बाइकों का स्टाक किया था और कंपनी की तरफ से जो क्रेडिट लिया था वह वापस नहीं हुआ। इस बारे में जब सुरेंद्र से कारण पूछा तो उसने कोई संतोषजनक जवाब नहीं दिया बल्कि कहा कि यह पैसा अभी मार्किट से लेना है।

हिसाब मिलान के लिए उसके भाई सोनू को रखा लेकिन उसने भी यह कहकर खाते वापस कर दिए कि सुरेंद्र हिसाब नहीं दे रहा। उसके बाद जब उसने पता किया तो मालूम हुआ कि सुरेंद्र उर्फ संजू ने अपने भाई सोनू व अपने पिता रामकला के साथ मिलकर षडयंत्र के तहत उक्त फर्म से काफी नई बाइकों के फर्जी बिल तैयार कर अपने अन्य साथी के साथ काफी गड़बड़ी की है।

खातों के मिलान से पता चला कि करीब 90 से 95 लाख रुपये अभी भी मार्किट में ग्राहकों की तरफ बकाया है। जिससे उसने अपने रिश्तेदार के साथ तीन चार टीमें बनाकर मार्किट से पैसा इकट्ठा करना शुरू किया। जिससे करीब 35 से 40 लाख रुपये ऐसे मिले जिसके बारे में ग्राहकों ने कहा कि यह रुपये सुरेंद्र ले गया लेकिन कोई रसीद नहीं दी। इतना ही नहीं एक तो किसी अन्य फाइनेंस कंपनी की रसीद मिली जोकि फर्जी है। पुलिस पूरे मामले की जांच कर रही है।

खबरें और भी हैं...