Hindi News »Haryana »Fatehabad» निजी स्कूलों की मनमानी फीस वसूली और अन्य फंडों को लेकर एडमिशन के दौरान ही रखनी होती है बीईओ को अपने स्कूलों में मुख्य नजर

निजी स्कूलों की मनमानी फीस वसूली और अन्य फंडों को लेकर एडमिशन के दौरान ही रखनी होती है बीईओ को अपने स्कूलों में मुख्य नजर

प्राइवेट स्कूलों में दाखिले संबंधी किसी तरह की गड़बड़ी या मनमानी को रोकने को लेकर शिक्षा विभाग की ओर से जिला व खंड...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 02:05 AM IST

प्राइवेट स्कूलों में दाखिले संबंधी किसी तरह की गड़बड़ी या मनमानी को रोकने को लेकर शिक्षा विभाग की ओर से जिला व खंड के शिक्षा अधिकारियों को टीमें बनाकर चेकिंग के आदेश दिए गए थे, लेकिन चिंता की बात है कि डीईओ की ओर से दो बार मीटिंग लेने के बावजूद किसी भी बीईओ ने चेकिंग से संबंधित कोई जानकारी या रिपोर्ट नहीं सौंपी हैं। ऐसे में प्राइवेट स्कूलों की मनमानी पर रोक लग पाना कहां तक संभव नजर आ रहा है।

अप्रैल माह शुरू होते ही नए सत्र की कक्षाओं के लिए निजी स्कूलों में एडमिशन शुरू हो जाता है। इस दौरान प्राइवेट स्कूल संचालक अपनी मनमानी करते हुए स्कूलों में किताबें बेचने, वर्दी व अन्य कई ऐसे सिस्टम चलाते हैं जिससे अभिभावकों से मोटा चूना लगाकर अपनी जेब भर सके। इसको देखते हुए डीईओ ने बीईओ को आदेश दिए थे कि वह निजी स्कूलों में जाकर जांच करें कि निजी स्कूल संचालक अपने स्कूल में इसी तरह के काम कर अभिभावकों से अवैध वसूली तो नहीं कर रहे हैं। डीईओ के इन आदेशों के बाद भी जिले के बीईओ ने मानना ही उचित नहीं समझा है। यही कारण है कि स्कूलों में किसी भी बीईओ ने चेकिंग अभियान नहीं चलाया।

शिक्षा विभाग ने प्राइवेट स्कूलों की चेकिंग के लिए दिए थे आदेश दो बार मीटिंग के बाद भी नहीं दी किसी बीईओ ने डीईओ को रिपोर्ट

डीईओ ने यह दिए थे आदेश, एक भी आदेश पर नहीं लिया किसी खंड के बीईओ ने संज्ञान

1. डीईओ दयानंद सिहाग ने पहला आदेश दिया था कि स्कूलों में जाए और यह देखे कि कोई स्कूलों में कोई किताब तो नहीं बेच रहा है। अगर कहीं ऐसा हो रहा है तो उसकी रिपोर्ट बनाकर उन्हें दें। जिस पर आगामी कार्रवाई की जा सके। लेकिन हो इसके उल्ट रहा है।

2. निजी स्कूल में यह भी देखा जाएं कोई स्कूल संचालक स्कूल में बच्चों को वर्दी तो नहीं बेच रहा है। विद्यार्थियों से पूछताछ करें, लेकिन यह रिपोर्ट भी डीईओ को नहीं दी गई।

3. स्कूल में सभी कक्षा संबंधित किताबें जो बच्चों को मिल रही है। वह सरकार द्वारा एनसीआरटी द्वारा निर्धारित की गई किताबे ही स्कूल संचालक लाने के लिए कह रहे है या कोई और किताब मंगवा रहे है। इसको लेकर भी कभी कोई चेकिंग अभियान नहीं चलाया गया।

4. अपने-अपने इलाकों में बीईओ को आदेश दिए गए है कि उनके इलाके में जो-जो स्कूल मान्यता प्राप्त है। उनमें जहां तक कक्षा मान्यता प्राप्त है। वहां तक कक्षा लग रही है या नहीं है। इसकी रिपोर्ट भी नहीं आई। वही बिना मान्यता स्कूल कहां-कहां चल रहे हैं और उनकी रिपोर्ट भी मांगी जिससे उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएं, लेकिन बीईओ की यहां भी लापरवाही।

मीटिंग में के बाद बीईओ को पत्र भी जारी किए गए

नए सत्र में निजी स्कूलों में चेकिंग अभियान व अन्य रिपोर्ट देने को लेकर शिक्षा विभाग के अधिकारियों की दो बार मीटिंग हो चुकी है। मीटिंग में सभी बीईओ को दिए गए आदेशों के बारे में बताया गया, लेकिन जब मीटिंग के आदेशों को न माना तो लिखित पत्र सभी बीईओ को जारी किया गया, लेकिन लिखित पत्र पर भी न कोई जवाब न कोई रिपोर्ट वापस डीईओ को अब तक मिली।

कार्यशैली पर संशय

डीईओ के आदेशों को लेकर बीईओ द्वारा लापरवाही बरतना उनकी कार्यशैली पर संशय पैदा कर रहा है क्योंकि नए सत्र में ही कई निजी स्कूल संचालकों अभिभावकों को लूटने का कारोबार करते हैं। ऐसी आशंका जताई जा रही है।

ब्लॉकों में करनी थी जांच

स्कूलों में निरीक्षण करने को लेकर डीईओ ने कहा था कि वह अपने-अपने ब्लॉकों में निजी स्कूलों में निरीक्षण करने को लेकर एक टीम गठित करनी है जिसमें वरिष्ठ प्रधानाचार्य व मुख्याध्यापक शामिल होंगे। लेकिन एेसा कुछ भी नहीं हुआ।

बीईओ पर की जाएगी आगामी कार्रवाई : डीईओ

मैंने दो जिले के सभी बीईओ की मीटिंग ली। निजी स्कूलों में चेकिंग करने को कहा व अन्य कई आदेश देते हुए रिपोर्ट उन्हें भेजने को कहा था, लेकिन कोई भी बीईओ स्कूल में जाकर चेकिंग अभियान नहीं चला रहा। बिल्कुल सही बात है कि अभी तक मेरे पास किसी भी बीईओ ने अपने इलाके की निजी स्कूल संबंधित कोई भी रिपोर्ट नहीं भेजी। लापरवाही बरती जा रही है। इस मामले को लेकर उच्च अधिकारियों से बातचीत करुंगा। फिर बीईओ पर आगामी कार्रवाई की जाएंगी।'' दयानंद सिहाग, डीईओ।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Fatehabad

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×