Hindi News »Haryana »Gharaunda» स्ट्रीट लाइट परचेज में ‌Rs.21 लाख घपले की शिकायत

स्ट्रीट लाइट परचेज में ‌Rs.21 लाख घपले की शिकायत

करनाल ब्लॉक के गांवों के लिए स्ट्रीट लाइट परचेज के नाम पर 21 लाख रुपए का बीडीपीओ कार्यालय के अधिकारी व कर्मचारी पर...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:10 AM IST

करनाल ब्लॉक के गांवों के लिए स्ट्रीट लाइट परचेज के नाम पर 21 लाख रुपए का बीडीपीओ कार्यालय के अधिकारी व कर्मचारी पर मिलीभगत से 2014-15 व 2015-16 में घपले का आरोप लगाया गया। आरटीआई कार्यकर्ता एसडी अरोड़ा ने इस मामले की जांच के लिए स्टेट विजिलेंस ब्यूरो हरियाणा के डायरेक्टर जनरल पंचकूला को इन आरोपों के साथ लिखित शिकायत छह महीने पहले भेजी थी, लेकिन विजिलेंस की करनाल शाखा इस जांच को पूरा नहीं कर पाई है।

विजिलेंस ब्यूरो को दी शिकायत में आरोप लगाया गया है कि बोगस कुटेशन और बोगस बिल के नाम पर फर्जी साइनों से 21 लाख 19 हजार 960 रुपए का घपला किया गया हैं। उन्होंने शिकायत में आरोप लगाया कि जिन फर्मों से स्ट्रीट लाइटों की खरीद दिखाई गई है, वह मौके पर मौजूद नहीं है। शिकायतकर्ता ने आरोप लगाया कि अधिकारी व कर्मचारी ने मिलीभगत से अपने जान-पहचान के व्यक्ति को फर्जी कुटेशन व बिल लेकर पैसे का भुगतान करके यह घपला किया है।

न स्टॉक रजिस्टर में एंट्री न एमबी में दर्ज

आरटीआई कार्यकर्ता ने आरोप लगाया कि खरीदी गई उक्त स्ट्रीट लाइटों की स्टॉक रजिस्टर में कोई एंट्री नहीं है और न ही एमबी में यह सामान दर्ज है। आरटीआई कार्यकर्ता का आरोप है कि स्ट्रीट लाइटें खरीदने के लिए न तो एस्टीमेट तैयार किया और न ही टेंडर कॉल किए। बोगस कुटेशन और बोगस बिल से इस घपले को अंजाम दिया गया है। वे विजिलेंस सेल करनाल को 6 दिसंबर 2017 को अपने बयान दर्ज कराने सहित प्रमाण भी दे चुके हैं। लेकिन छह महीने बीतने पर जांच पूरी नहीं हुई है।

विजिलेंस ने जो रिकाॅर्ड मांगा दे दिया

उनके पास सीधे यह शिकायत नहीं आई है। विजिलेंस द्वारा जांच के लिए जो रिकॉर्ड मांगा था वह उपलब्ध करा दिया है।’-अंकित चौहान, बीडीपीओ, करनाल।

स्ट्रीट लाइट में घपले की शिकायत हेड ऑफिस के थ्रू उनके पास पहुंची है। इस मामले की जांच चल रही है।’-राज सिंह, डीएसपी, विजिलेंस सेल करनाल।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gharaunda

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×