• Hindi News
  • Haryana
  • Gohana
  • पर्ची कम देने पर किसानों ने शुगर मिल में गन्ना देने से किया इंकार
--Advertisement--

पर्ची कम देने पर किसानों ने शुगर मिल में गन्ना देने से किया इंकार

Gohana News - शुगर मिल आहुलाना में गन्ने की पर्ची कम देने पर शनिवार को किसानों ने मिल परिसर में एकत्रित होकर हंगामा कर दिया। मिल...

Dainik Bhaskar

Apr 01, 2018, 02:10 AM IST
पर्ची कम देने पर किसानों ने शुगर मिल में गन्ना देने से किया इंकार
शुगर मिल आहुलाना में गन्ने की पर्ची कम देने पर शनिवार को किसानों ने मिल परिसर में एकत्रित होकर हंगामा कर दिया। मिल में गन्ना लेकर पहुंचे किसानों ने मिल को गन्ना देने से मना कर दिया। किसानों ने करीब 45 मिनट तक गन्ने का तौल नहीं करवाया। मिल प्रशासन ने सेंटरों से मंगवाए गन्ने की पेराई कर मिल को चालू रखा। मिल की एमडी सुभीता ढाका के आश्वासन पर किसानों का गुस्सा शांत हुआ। किसानों का नेतृत्व भाकियू के कथूरा ब्लॉक प्रधान कृष्ण मलिक ने किया।

उन्होंने कहा कि मिल द्वारा किसानों को 60 क्विंटल की पर्ची जारी की जाती है। एक पर्ची में मिल करीब 65 क्विंटल तक गन्ना लेता है। किसान की 12 पर्चियां होने के बाद मिल प्रशासन ने किसानों की एक अतिरिक्त पर्ची काट दी। मिल ने किसानों को 13 पर्चियों का गन्ना मिल में आने का रिकार्ड दिया। किसानों का कहना है कि पहले अतिरिक्त पर्ची काटने की प्रक्रिया बांड पूर्ण होने के बाद होती है। मिल प्रशासन द्वारा नियमों में किए गए बदलाव से किसान अपना संपूर्ण गन्ना मिल में नहीं डाल सकेंगे। उनका गन्ना खेतों में ही सूख जाएगा। किसानों ने मिल अधिकारियों ने पुरानी व्यवस्था के आधार पर ही गन्ना लेने की मांग की। अधिकारियों द्वारा किसानों की मांगों के प्रति गंभीरता नहीं दिखाने पर किसानों ने गन्ना तुलवाना बंद कर दिया।

एमडी सुभीता ढाका के आश्वासन पर माने

गोहाना. शुगर मिल में मांगों को लेकर कैन मैनेजर मंजीत से बातचीत करते किसान।

चीनी मिल में शुरू किया मानवरहित धर्मकांटा

गोहाना | शुगर मिल आहुलाना में शनिवार को एमडी सुभीता ढाका ने ऑटोमेटिक धर्मकांटे का उद्घाटन किया। धर्मकांटे की क्षमता 100 टन होगी। धर्मकांटा लगाने पर मिल द्वारा करीब दस लाख रूपए खर्च किए गए। ऑटोमैटिक धर्मकांटा पर फसल के वजन के लिए कर्मचारी की आवश्यकता नहीं होगी। कांटे के ऊपर से वाहन लेकर गुजरने से ही मशीन उसका वजन तोल देगी। शनिवार को मिल प्रशासन ने गन्ने के साथ-साथ रेलवे के माल की तौल भी की। चीनी मिल में 60 टन क्षमता का धर्मकांटा लगा हुआ है। यह धर्मकांटा मैन्यूअल है। फसल का तौल करने के लिए धर्मकांटा पर कर्मचारी की उपस्थिति होनी अनिवार्य है। वहीं मैन्यूअल धर्मकांटा से फसल का तौल करने में अधिक समय लग जाता है। किसानों को राहत देने के लिए मिल प्रशासन ने ऑटोमेटिक धर्मकांटा लगवाया है। धर्मकांटा का कार्य पूर्ण होने के बाद शनिवार को एमडी सुभीता ढाका ने उसका उद्घाटन किया। उन्होंने कहा कि धर्मकांटा पूर्ण रूप से मानव रहित होगा। किसान को गेट पर एक फ्लीट कार्ड दिया जाएगा। धर्मकांटे पर आने के बाद उस कार्ड का प्रयोग करने से फसल का वजन हो जाएगा। इसके साथ ही मिल में अन्य सुविधाएं बढ़ाने पर भी विचार क किया जा रहा है। इस प्रक्रिया से पारदर्शिता आएगी। इस अवसर पर कैन मैनेजर मंजीत दहिया, धनीराम शर्मा, जितेंद्र शर्मा, देवेंद्र पहल, सतपाल कुंडू, अनिल वर्मा, अनिल शर्मा आदि उपस्थित थे।

X
पर्ची कम देने पर किसानों ने शुगर मिल में गन्ना देने से किया इंकार
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..