• Hindi News
  • Haryana
  • Gohana
  • गंदे पानी की सप्लाई होने पर ग्रामीणों ने जताया रोष
--Advertisement--

गंदे पानी की सप्लाई होने पर ग्रामीणों ने जताया रोष

Gohana News - घडवाल गांव में बीते कई दिनों से दूषित पेयजल की सप्लाई हो रही है। पानी में मिट्‌टी मिली रहती है। मिट्‌टी के कारण...

Dainik Bhaskar

Feb 01, 2018, 02:15 AM IST
गंदे पानी की सप्लाई होने पर ग्रामीणों ने जताया रोष
घडवाल गांव में बीते कई दिनों से दूषित पेयजल की सप्लाई हो रही है। पानी में मिट्‌टी मिली रहती है। मिट्‌टी के कारण पेयजल में दुर्गंध आती है। दुर्गंध के कारण पानी पीने लायक नहीं बचा है। पेयजल में गंदगी के कारण लोगों को पेयजल किल्लत का सामना करना पड़ रहा है। ग्रामीणों ने पेयजल की गुणवत्ता में सुधार करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया।

ग्रामीण सतीश, शीला, संतरा, नारो देवी, सोनिया, शालू, संदीप, अजमेर, सचिन, विक्की, धर्मबीर, महेंद्र, सोमबीर, दलबीर, देवीसिंह का कहना है कि गांव में कई स्थानों पर पेयजल लाइन क्षतिग्रस्त हो चुकी है। पाइप लाइन क्षतिग्रस्त होने से लोगों के घरों में गंदे पानी की सप्लाई हो रही है। पेयजल में मिट्‌टी मिली होने के कारण उसमें से दुर्गंध आती रहती है। दुर्गंध के कारण लोग इस पानी को पेयजल के रूप में प्रयोग नहीं कर रहे हैं। लोग अपने नलों को गलियों में खुला छोड़ देते हैं। इससे हजारों लीटर पेयजल व्यर्थ हो रहा है। लोगों का कहना है कि उन्होंने कई बार जलापूर्ति विभाग के अधिकारियों से पेयजल की व्यवस्था दुरुस्त करने की मांग की, लेकिन समस्या का समाधान नहीं हुआ।

गांव में चार दिन में होती है पेयजल की सप्लाई

ग्रामीणों का कहना है कि गांव में पेयजल की सप्लाई भी नियमित रूप से नहीं हो रही है। विभाग ने गांव में पेयजल सप्लाई के लिए तीन से चार दिन का शैड्यूल बना रखा है। नियमित रूप से पेयजल सप्लाई नहीं होने से ग्रामीणों को असुविधाएं हो रही हैं। ग्रामीणों का कहना है कि तालाबों में पानी खराब होने के कारण पशुओं को भी सप्लाई का पानी पिलाना पड़ता है। इससे विभाग द्वारा दी जा रही पेयजल सप्लाई पर्याप्त नहीं रहती है। अधिक दिनों में पेयजल सप्लाई होने से घर में पेयजल किल्लत बनी रहती है। पेयजल आवश्यकताओं की पूर्ति के लिए उन्हें समर्सिबलों पर निर्भर रहना पड़ता है।

जल्द मरम्मत करवाएंगे


कांसडा में गत एक माह से बंद पड़ा है चौपाल निर्माण कार्य

खानपुर कलां. कासंडा गांव में बजट के अभाव में अधूरा पड़ा चौपाल निमार्ण कार्य।

खानपुर कलां| कासंड़ा गांव में बजट समाप्त होने पर चौपाल का निर्माण कार्य एक माह से बंद पड़ा हुआ है। ग्रामीणों ने सरकार से चौपाल का निर्माण कार्य पूरा कराने के लिए बजट देने की मांग की है।

गांव में चौपाल की हालत जर्जर थी। जिसका पुनर्निर्माण कराने के लिए सरकार ने 9 लाख 58 हजार रुपए का बजट जारी किया था। करीब छह माह पहले पंचायत ने कार्य शुरू करा दिया था। ग्रामीण रमेश, अजीत, सुभाष, अनिल, प्रकाश, अजाद, रामेहर आदि ने बताया कि जो ग्रांट मिली थी, उससे चौपाल का करीब 70 प्रतिशत कार्य पूरा हो पाया है। ग्रांट खत्म होने पर चौपाल का निर्माण कार्य बंद हो गया है। जबकि फर्श, छत, और खिड़की-दरवाजे का काम अधूरा पड़ा हुआ है। फर्श के लिए रोडी बिछाने का कार्य किया गया है। हाल की छत पक्की नहीं हो पाई है। ग्रामीणों का कहना है कि कुछ दिनों के बाद शादियों का सीजन शुरू हो जाएगा। ऐसे में ग्रामीणों को समारोह आयोजित करने के लिए दूसरा स्थान तलाशना पड़ेगा। ग्रामीणों ने सरकार से ग्रांट जारी किए जाने की मांग है, ताकि अधूरे निर्माण कार्य को जल्द पूरा किया जा सके।

X
गंदे पानी की सप्लाई होने पर ग्रामीणों ने जताया रोष
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..