--Advertisement--

मंडी में नि:शुल्क होगा फसल का तोल

नई अनाज में फसल लेकर आने वाले किसानों को फसल का वजन बाहरी धर्मकांटों पर नहीं करवाना पड़ेगा। इस बार फसल का वजन मंडी...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:15 AM IST
नई अनाज में फसल लेकर आने वाले किसानों को फसल का वजन बाहरी धर्मकांटों पर नहीं करवाना पड़ेगा। इस बार फसल का वजन मंडी में लगे धर्मकांटों पर ही किया जाएगा। किसानों को यह सुविधा निशुल्क मिलेगी। धर्मकांटों का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है। मार्केट कमेटी ने धर्मकांटों का निर्माण कार्य तीन दिनों में पूर्ण करने का लक्ष्य रखा है।

अनाज मंडी में रविवार से अधिकारिक तौर पर फसल की सरकारी खरीद शुरू हो गई। मंडी में अभी फसल की आवक शुरू नहीं हुई है। मंडी में आमतौर पर आवक दूसरे सप्ताह में होती है। मंडी में आने वाले किसानों को फसल का तौल बाहर करवाना पड़ता है। बाहर धर्मकांटों पर किसानों को प्रति ट्राली 50 रुपए तक शुल्क देना पड़ता है। गेहूं सीजन में फसल का तौल मंडी में ही किया जाएगा। इसके लिए मार्केटिंग बोर्ड ने मंडी के सभी गेटों पर दो-दो धर्मकांटे लगवाए हैं। कांटों का निर्माण कार्य अंतिम चरण में है। अधिकारियों का कहना है कि गेट नंबर दो और तीन पर कांटें लगाने का कार्य पूर्ण कर लिया गया है। गेट नंबर एक पर प्लेटफार्म तैयार किया जा रहा है। प्लेटफार्म निर्माण का कार्य दो दिनों में पूर्ण कर लिया जाएगा। इसके बाद कैबिन रखकर कांटों का ट्रायल किया जाएगा। अधिकारियों के अनुसार धर्मकांटों को चालू करने के संबंध में सभी औपचारिकताएं फसल की आवक शुरू होने से पहले ही पूर्ण कर ली जाएंगी।

मंडी में बीते वर्ष पहुंचा था 16.69 लाख क्विंटल गेहूं: बीते वर्ष क्षेत्र की अनाज मंडी और खरीद केंद्र पर करीब 16.69 लाख क्विंटल गेहूं की खरीद हुई थी। इससे मंडी को करीब 5.42 करोड़ मार्केट फीस मिली थी। इस वर्ष क्षेत्र में गेहूं की फसल में कोई नुकसान नहीं हुआ है। जिससे मार्केट कमेटी अधिकारियों को अनुमान है कि इस बार अधिक गेहूं की आवक होगी। मार्केट कमेटी ने नई अनाज मंडी और खरीद केंद्र पर किसानों के लिए पेयजल की व्यवस्था करा दी गई हैं। इसके साथ ही केंद्रों की सफाई भी कराई जा चुकी है।

गोहाना. अनाज मंडी में धर्मकांटा शुरू करने के लिए क्रेन से कैबिन रखते हुए।

फसल की आवक से पहले कांटे शुरू कर दिए जाएंगे