Hindi News »Haryana »Gohana» टैक्स में बदलाव न कर किया लोगों को निराश

टैक्स में बदलाव न कर किया लोगों को निराश

पीएम नरेंद्र मोदी का 2022 तक किसानों की आय को दोगुणा करने के विजन को आगे बढ़ाने के लिए वित्त मंत्री अरूण जेटली ने...

Bhaskar News Network | Last Modified - Feb 02, 2018, 03:05 AM IST

पीएम नरेंद्र मोदी का 2022 तक किसानों की आय को दोगुणा करने के विजन को आगे बढ़ाने के लिए वित्त मंत्री अरूण जेटली ने गुरुवार को पेश किए आम बजट में फसलों के एमएसपी का डेढ़ गुणा देने की घोषणा की। इस घोषणा से जहां किसान खुश हैं, वहां उनमें एमएसपी को लेकर संशय भी है। किसानों का मानना है कि प्रत्येक प्रदेश का एमएसपी अलग-अलग है। प्रत्येक प्रदेश के किसान को इस घोषणा का फायदा मिले, इसके लिए सरकार को प्रदेश स्तर पर होमवर्क करना होगा। वित्त मंत्री ने टैक्स की स्लैब में कोई बदलाव नहीं किया है। जबकि लोगों को उम्मीद थी कि सरकार टैक्स की स्लैब में बदलाव करेगी। वित्त मंत्री ने केवल सीनियर सिटीजन को ही राहत दी है। डाकघर व बैंकों में जमा राशि पर मिलने वाले ब्याज पर टैक्स में छूट दी है। पहले राशि दस हजार रुपए थी, जिसे बढ़ाकर 50 हजार रुपए कर दिया गया।

स्टेशन पर बढ़ेगी सुविधा, बंद होंगी मानवरहित फाटक :वित्त मंत्री ने रेलवे यात्रियों को बेहतर सुविधा व सुरक्षा देने का वायदा किया है। स्टेशन और ट्रेनों में वाई-पाई और सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे। वहीं देश भर में 4267 मानव रहित फाटक खत्म करने की भी घोषणा की है। हालांकि यह घोषणा वर्ष 2017 में आम बजट पेश करते हुए भी की थी। यदि यह घोषणा पूरी होती है तो रोहतक-पानीपत और सोनीपत-जींद रेलवे ट्रैक पर बनी करीब 23 फाटक खत्म हो जाएंगे।

अस्पताल होंगे अपग्रेड, बढ़ेंगी सुविधाएं

डॉक्टरों की कमी को पूरा करने के लिए मेडिकल कॉलेज खोलने और अस्पतालों को अपग्रेड किए जाने का प्रावधान रखा गया है। वित्तमंत्री ने टीबी के मरीजों के लिए 600 करोड़ रुपए के बजट की घोषणा की है। इस बारे में टीबी विशेषज्ञों का कहना है कि यह तभी संभव हैं, जब लोगों को जागरूक किया जाएगा। बीते कुछ सालों में लोगों में टीबी के प्रति जागरूकता बढ़ी है। जिसके चलते टीबी के मरीजों का आंकड़ा कम हुआ हैं। टीबी को खत्म करने के लिए अस्पतालों में भी सुविधाएं बढ़ानी होगी। विशेषकर ग्रामीण क्षेत्रों में। आम बजट में टीबी के लिए अलग से बजट रखा है। इससे मरीजों को लाभ मिलेगा। शिक्षा में सुधार करने के लिए केवल ब्लैकबोर्ड के स्थान पर डिजिटल बोर्ड लगाने की घोषणा की गई है।

छोटी कंपनियों के लिए छूट की घोषणा की गई है। सीनियर सिटीजन को टैक्स में छूट दी गई है। इससे लोगों को फायदा होगा, लेकिन बजट टैक्स की स्लैब में बदलाव नहीं किया गया। जबकि सरकार को टैक्स की स्लैब में भी बदलाव करना चाहिए था। इससे छोटे व्यापारियों को भी फायदा मिलता। वहीं छोटे व्यापारियों को बजट में कुछ नहीं मिला।'' टेकराम बुसाना, प्रधान, आल हरियाणा आढती एसोसिएशन।

गोहाना . मोबाइल पर लोकसभा में बजट पेश करते समय वित्तमंत्री द्वारा किए गए भाषण को सुनती छात्राएं।

बजट पर शहर वासियों की प्रतिक्रिया

बजट में सभी वर्गों का ध्यान रखा गया है। बेहतर स्वास्थ्य देने के लिए अस्पतालों को अपग्रेड किया जाएगा। मेडिकल कॉलेज खोलने का प्रावधान बजट में दिया गया है। वहीं पेट्रोल व डीजल पर टैक्स को कम करके पेट्रोल व डीजल के रेट कम किए हैं। इससे प्रत्येक वर्ग को फायदा होगा। बजट में जहां देश के विकास को गति देने, वहीं ब्लैक मनी पर शिकंजा कंसने का प्रयास भी दिखाई दिया है। '' रामचंद्र जांगड़ा, चेयरमैन, पिछड़ा वर्ग।

बजट में आम आदमी के लिए कुछ नहीं हैं। न तो महंगाई कम करने के लिए कोई ठोस योजना है और न ही किसानों से किए वायदों को पूरा करने के लिए कदम आगे बढ़ाया गया है। टैक्स की स्लैब में भी कोई बदलाव नहीं किया गया। बजट पूरी तरह से गरीब विरोधी है। बजट में शिक्षा और रोजगार को लेकर कोई ठोस योजना नहीं दिखाई दी। केवल लोगों को गुमराह करने का प्रयास किया है। '' जगबीर मलिक, विधायक, गोहाना।

बजट में फसल के एमएसपी का डेढ गुणा देने की घोषणा की गई हैं। जबकि किसानों की मांग स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू करने की है। किसानों को फसल लागत का 50 प्रतिशत लाभकारी मूल्य दिया जाना चाहिए था। जो बजट में प्रावधान नहीं है। वहीं एमएसपी को लेकर भी संशय है। योजना स्पष्ट नहीं है। वहीं बजट में किसानों के ऋण माफ को लेकर भी कुछ नहीं किया गया। '' सत्यवान नरवाल, उपाध्यक्ष, भाकियू।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Gohana

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×